थोड़े दिन होगी समझाईश फिर होगी कार्रवाई

सोने के गहनों पर हॉलमार्किंग लागू, लाइसेंस 11 व्यापारी के पास

By: Suresh Jain

Published: 16 Jun 2021, 07:58 PM IST

भीलवाड़ा।
जिले के बाजार अनलॉक हो गए हैं। लेकिन अभी बाजार खुलने का समय शाम 4 बजे तक ही है। राज्य सरकार ने 30 जून तक शादियों में अधिकतम 11 मेहमानों की संख्या तय कर रखी है, पर शादियों की खरीदारी से बाजार में चलह-पहल है। ज्वैलर्स के यहां भी ग्राहकी में इजाफा हुआ है। केंद्र सरकार ने ग्राहकों के हित में सोने के आभूषणों पर बुधवार से ही हॉल मार्किंग अनिवार्य कर दी है। जिन सोने के आभूषणों पर हॉल मार्किंग नहीं होगी, उन्हें ज्वैलर्स नहीं बेच पाएंगे। ज्वैलर्स को भारतीय मानक संस्थान (ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्डस-बीआईएस) का लाइसेंस लेना जरूरी हो गया है। अभी भीलवाड़ा शहर में 11 बड़े ज्वैलर्स ने ही लाइसेंस ले रखा है। इसमें भी एक व्यापारी करेड़ा का है। भारतीय मानक संस्थान जयपुर के अधिकारी शिवराज सिंह मीणा का कहना है कि सभी को लाइसेंस लेना अनिवार्य है। फिलहाल थोड़े दिन तक व्यापारियों को लाइसेंस लेने के लिए समझाया जाएगा। उसके बाद भी कोई व्यापारी लाइसेंस नहीं लेता है तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।
इनके पास है लाइसेंस
जिले में कुल ११ ज्वैलर्स व्यापारियों ने लाइसेंस ले रखा है। इसमें १० भीलवाड़ा शहर के तथा एक व्यापारी भाग्यलक्ष्मी ज्वैलर्स सदर बाजार राजाजी का करेड़ा का है। जबकि शहर के लंदन गोल्ड, डीके स्वर्ण आभूषण प्रा लिमिटेड, लोटस ज्वैलर्स, स्वर्णमाला ज्वैलर्स, एबी ज्वैलर्स, बीएम ज्वैलर्स प्राइवेट लिमिटेड, आरआर आभूषण प्रा. लिमिटेड, डीपी भूषण लिमिटेड, आनंद आभूषण, तथा जैन ज्योति ज्वैलर्स प्रा. लिमिटेड शामिल है। जबकि हॉलमार्किंग सेन्टर नवकार के पास है।
दिन भर में आए चार आइटम
हॉलमार्क सेंटर के सुशील लोढ़ा ने बताया कि बुधवार को दोपहर चार बजे तक महज चार आइटम ही हॉलमार्किंगके लिए आए। जबकि शहर में २५० से अधिक दुकाने है। वही जिले में इतनी दुकाने है। यानी कुल ५०० व्यापारी सोने के ज्वैलर्स के है। लेकिन उसके बाद भी उनके पास कोई खास काम नहीं है।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned