scriptYou can get a ministerial post, this is an inside thing | मिल सकता है मंत्री पद, यह है अंदर की बात | Patrika News

मिल सकता है मंत्री पद, यह है अंदर की बात

You can get a ministerial post, this is an inside thing राजनीतिक गलियारे में चर्चा है कि गहलोत सरकार का मंत्रीमंडल का विस्तार हुआ तो एक दशक से प्रतिनिधित्व को तरस रहे भीलवाड़ा जिले को मंत्री की कुर्सी भी मिल सकती है।

भीलवाड़ा

Published: November 08, 2021 10:22:04 pm

भीलवाड़ा। उप चुनाव के नतीजों से कांग्रेस ने इस बार जीत की बड़ी दीपावली मनाई। खुशी के पटाखें व उम्मीद की फुलझडिय़ां भी जिले के कांग्रेस महकमे में जली। जीत बड़ी है तो जिले को बड़ा तोहफा मिलने की उम्मीद भी जागी है। राजनीतिक गलियारे में चर्चा है कि गहलोत सरकार का मंत्रीमंडल का विस्तार हुआ तो एक दशक से प्रतिनिधित्व को तरस रहे जिले को मंत्री की कुर्सी भी मिल सकती है। पंचायत राज चुनाव में जिस प्रकार से जोधपुर संभाग का प्रभारी बन, विजय का स्वाद कांग्रेस को चखाने वाले जिले के विधायक का नाम इस बार संभावितों की सूची में उछल रहा है। चर्चा है कि उनके समर्थकों व करीबियों में अभी से खुशी के लड्डू फूटने लगे है। हालांकि कांग्रेस का एक धड़ा चुप्प है तो दूसरा यूआईटी चैयरमेन की खाली कुर्सी पर नजर गढ़ाए है। You can get a ministerial post, this is an inside thing at bhilwara
You can get a ministerial post, this is an inside thing
You can get a ministerial post, this is an inside thing

लंच व डीनर ऑफिस में
धन्यवाद, दिखने में यह शब्द छोटा है, लेकिन इसमें छिपे शब्दार्थ व भाव कही अधिक बड़े है, यदि धन्यवाद कोई जरूरतमंद किसी अधिकारी को कहे तो निश्चित रूप से कहा जा सकता है कि उसका जरूर ऐसे काम का समाधान हुआ है, जिसके लिए वह लम्बे समय से परेशान था। यूआईटी में आयोजित प्रशासन शहरों के संग अभियान में ऐसे ही धन्यवाद के शब्द लोगों की जुबां से निकल रहे और वह नत मस्तक हो कर थैंक्यू मेम व सर कह रहे है। लोगों की पीड़ा का समाधान हो, इसके लिए न्यास अधिकारियों व कर्मचारियों ने कड़ी मेहनत की है, महिला आरएएस अधिकारी ने खुद को घंटों सरकारी कार्यों में व्यस्त रखा, कर्मियों ने भी टीम भावना दिखाई, दीपोत्सव होने के बावजूद महिला अधिकारी ने काम के प्रति ढिलाई नहीं बरती। लंच व डीनर तक कर्मियों के बीच किया। चर्चा है कि प्रदेश में अव्वल रहने की इस जिद से शहर वासियों का ही भला होगा।

कर दिखाया खाकी जी ने कमाल
जिले के हालात पर चर्चा करें तो यह कहा जा सकता है कि शहर से लेकर जिले में जिस प्रकार से घटनाएं घटित हो रही है वह चिंतनीय है, लेकिन विकट हालात में मौका मिले एवं विश्वास जताया जाए तो बड़ी से बड़ी जिम्मेदारी निभाई जा सकती है। विषम परिस्थितियों में कुछ ऐसा ही एक महिला आरपीएस ने कर दिखाया है। टाईगर की खाली कुर्सी के निकट अपनी कुर्सी लगा कर यह महिला आरपीएस अपने पुराने अनुभवों व टीम वर्क के साथ जिले की कानून एवं शांति व्यवस्था को संभाले हुए है। शहर में शुक्रवार को एक छोटी घटना को समय रहते बड़ी घटना में तब्दील होने से रोकते हुए जिस प्रकार से हालात संभाले है वह खास चर्चा में है। चर्चा तो यह है कि तेरह अक्टूबर से जिले में टाईगर का पद खाली है और नए टाइगर को लेकर उच्च स्तर पर मंथन हो रहा है, लेकिन आम जन मौजूदा नियंत्रित हालात से खुश है। यह चर्चा भी खास है कि दबंग लेडी ऑफिसर पूर्व में ही एक बड़े संत को उनके कारनामों के लिए पहले ही सींखचों के पीछ कर अपनी हिम्मत दिखा चुकी है।
भाजपा में अब जिलाध्यक्ष कुर्सी पर नजर
उप चुनाव में भाजपा की करारी हार से जिले के भाजपाई भी सदमें में है, कड़ी मेहनत के बावजूद जनता के साथ नहीं देने को लेकर वह अब विश्लेषण कर रहे है। प्रदेश तक अपनी रायशुमारी दे रहे है, प्रदेश से कई जिलों के जिलाध्यक्ष बदलें जाने के संकेत के बाद जिले में भी अब जिलाध्यक्ष की कुर्सी तक पहुंचने के लिए कई मंसूबे पालने लगे है। चर्चा है कि एक दूसरे का मात देने व टांग खिंचाई अब हो जाए तो कोई बड़ी बात नहीं है, क्यूंकि वरिष्ठ मानते है कि महज बैठकों, चेतावनियों व जयंतियों के जरिए जनता का दिल नहीं जीता जा सकता है, जनता के बीच पहुंच कर उनकी पीड़ा सुने व समाधान करें तो ही भाजपा इस बार सत्ता में बड़ा बदलाव कर सकती है।
यह आराम का मामला है
जिले में प्रतियोगी परीक्षाओं को लेकर पुलिस व प्रशासन ने अपनी जिम्मेदारी बेखूबी निभाई, रीट,नीट,पटवारी व आरएएस परीक्षा शांति पूर्ण एवं व्यवस्थित तरीके से निपटाई, लेकिन इसी परीक्षा में कई शिक्षकों व कर्मचारियों को अपने बड़े बुजुर्गों की सेवा का बड़ा ख्याल आया। परीक्षा से ड्यूटी निरस्त कराने के लिए कईयों ने अपने खराब स्वास्थ्य का हवाला तो दिया ही , लेकिन कईयों ने हद कर दी, उन्होंने प्रार्थना पत्रों में बीमार सास- ससूर, मां-पिता की सेवा करने की बात तक लिख दी, दबंग सिटी एडीएम ने जब बानगी के रूप में कुछेक प्रार्थना पत्रों की सच्चाई की जांच कराई तो कलई ही खुल गई। चर्चा है कि ऐसे में जिला हाकम ने जो कदम उठाया, उससे कईयों की नौकरी तक पर आंच बन आई।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.