1986 में बलात्कार कर भागा, 33 साल मथुरा-वृंदावन में साधू बनकर घूमा, आते ही पकड़ा गया

पीडि़ता की हो चुकी मौत, अफसरों ने पुराने प्रकरण में अधीनस्थों को सक्रिय किया तो मिली सफलता

By: हुसैन अली

Published: 09 Aug 2020, 04:27 PM IST

भिण्ड. सिटी कोतवाली पुलिस ने 34 साल से फरार चल रहे एक बलात्कार के आरोपी को गिरफ्तार किया है। ३३ वर्ष तक मथुरा, वृंदावन एवं हरिद्वार में साधू का वेश बदलकर रहा। आरोपी ग्वालियर निवासी महिला को भिण्ड लेकर आया और उससे बलात्कार के बाद यहीं छोडक़र फरार हो गया था।

थाना प्रभारी उदयभान सिंह यादव के अनुसार आरोपी सुरेश सिंह पाठक पुत्र रामसिया पाठक निवासी देवरी थाना बरासों ने 1986 में बलात्कार की वारदात को अंजाम दिया था, तब से पुलिस को चकमा दे रहा था। 08 अगस्त की सुबह ९ बजे ग्वालियर बस स्टैण्ड इलाके में मुखबिर की पिनप्वॉइंट सूचना पर उसे पकड़ लिया गया।

यादव के अनुसार सुरेश राज्य ही छोडक़र चला गया था। 33वर्ष तक मथुरा, वृंदावन एवं हरिद्वार में साधू के वेश में रहा। जब उसे लगा कि उसे सब भूल गए हैं तो वर्ष 2019 में ग्वालियर में आकर चुपके से आकर जीवन बसर करने लगा। पुलिस ने उसके फोटो को कई बार थानों में सर्कुलेट कर रखा था। क्राइम की समीक्षा बैठक में बलात्कार के इतने पुराने प्रकरण का निराकरण नहीं होने की स्थिति में वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा अधीनस्थ पुलिस अधिकारियों को सक्रिय किया गया। ऐसे में फोटो के आधार पर मुखबिर ने पुलिस को सूचना दे दी कि इसी हुलिए का एक व्यक्ति ग्वालियर में रह रहा है। पुलिस ने शनिवार को दबिश देकर उसे पकड़ लिया।

पीडि़ता के जीवित रहते आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर पाई पुलिस

इसे विडंबना ही कहेंगे कि बलात्कार की पीडि़त महिला के जीवित रहते पुलिस उसके आरोपी को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश नहीं कर पाई। लिहाजा प्रकरण न्यायालय में बिना सुनवाई ही अटका रहा। आरोपी की गिरफ्तारी नहीं होने के दौरान उक्त वारदात के गवाह की भी मौत हो चुकी है।

हुसैन अली
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned