बिल चुकता कराने के बाद ग्रामीणों से बोले एई मंत्री के भाई देवेंद्र से कहलवा दो रखवा देंगे ट्रांसफार्मर

बुधवार को किया महाप्रबंधक कार्यालय का घेराव

भिण्ड. अटेर विकासखण्ड के पिथनपुरा चौराहे पर अगस्त के पहले सप्ताह में फुंके विद्युत ट्रांसफार्मर को बदलवाने के पूर्व बिल बेबांकी कराया। बिल जमा होने के बाद भी डीपी नहीं रखने पर ग्रामीण एई के पास पहुंचे तो उन्होंने जवाब दिया कि सहकारिता मंत्री के भाई देवेंद्र भदौरिया से कहलवा दो तो रखवा देंगे ट्रांसफार्मर। यह बात पिथनपुरा चौराहे के दुकानदारों के साथ बिजली कार्यालय का घेराव करने पहुंचे कांग्रेस जिला महामंत्री चेतन्य शर्मा एवं कांग्रेस विद्युत प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष चंद्रपाल सिंह परिहार ने संयुक्त रूप से कही।


महाप्रबंधक विद्युत वितरण कंपनी अशोक शर्मा के चेंबर में पहुंचकर नेताद्वय ने पिथनपुरा के दुकानदार व ग्रामीणों की मौजूदगी में अवगत कराया कि डीपी खराब हो जाने के संबंध में 14 अगस्त को बिजली कार्यालय में शिकायत की गई थी। ऐसे में उन्हें शीघ्र बदलवाने का आश्वासन दिया गया। डीपी नहीं बदलवाए जाने पर 18 अगस्त को उप महाप्रबंधक बलराम राजपूत को ज्ञापन दिया गया। इस दौरान ग्रामीणों से कहा गया कि उपरोक्त विद्युत ट्रांसफार्मर के जितने भी कनेक्शनधारक हैं उनके द्वारा बिल चुकता किए जाने पर तत्काल डीपी रखवा दी जाएगी। लिहाजा पिथनपुरा चौराहा के 25 केवी डीपी से कनेक्टेड सभी विद्युत उपभोक्ताओं द्वारा बिल चुकता कर दिए गए हैं। बावजूद इसके जब दूसरे दिन तक डीपी नहीं बदली गई तो पुन: ग्रामीणों ने बिजली कंपनी अधिकारी अवधेश शर्मा से संपर्क किया। इस दौरान अवधेश शर्मा ने विद्युत उपभोक्ताओं से कहा कि यदि वह सहकारिता मंत्री अरविंद भदौरिया के भाई देवेंद्र भदौरिया से कहलवा देंगे तो डीपी रखवा दी जाएगी। ऐसे में सभी ग्रामीण वापस चले गए थे।


विदित हो कि अटेर क्षेत्र के पिथनपुरा चौराहे पर 25 केवी का विद्युत ट्रांसफार्मर रखा है, जिससे 04 कनेक्शन व्यवसायिक हैं, जबकि 25 घरेलू कनेक्शन हैं। बिल जमा किए जाने के बावजूद डीपी नहीं बदले जाने से नाराज ग्रामीण कांग्रेस कार्यकर्ताओं के नेतृत्व में विद्युत वितरण कंपनी महाप्रबंधक अशोक शर्मा के चेंबर में पहुंच गए जहां नारेबाजी के बाद उनसे चर्चा की गई। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि 24 घंटे के अंदर विद्युत ट्रांसफार्मर बदलवाने के अलावा मीटर रीडर्स द्वारा की जा रही गड़बड़ी नहीं रोकी गई तो मजबूरन उन्हें उग्र आंदोलन का रास्ता अपनाना पड़ेगा।

महेंद्र राजोरे Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned