किसानों की कर्ज माफी से भिण्ड जिले के 50 हजार किसानों को होगा लाभ

किसानों की कर्ज माफी से भिण्ड जिले के 50 हजार किसानों को होगा लाभ

By: Gaurav Sen

Published: 18 Dec 2018, 05:10 PM IST

भिण्ड. प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने सोमवार को अपनी चुनावी घोषणा के मुताबिक किसानों की कर्ज माफी के औपचारिक आदेश जारी कर दिए हैं। इससे भिण्ड जिले के लगभग 50 हजार किसानों का 190 करोड़ से ज्यादा कर्ज माफ होगा। सरकार के इस आदेश के बाद किसानों में हर्ष की लहर है। वहीं किसान नेताओं का मानना है कि कर्जमाफी पूरी होनी चाहिए थी, दो लाख से अधिक के कर्जदार किसान इससे कर्जमुक्त नहीं हेा पाएंगे और वे मुश्किल में रहेंगे।

जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के आंकड़ों के मुताबिक बैंक के लगभग 42 हजार किसानों पर 170 करोड़ रुपए का ऋण बकाया है। अन्य राष्ट्रीयकृत बैंकों, ग्रामीण विकास बैंक और निजी बैंकों का भी 8 हजार किसानों पर तकरीबन 20 करोड़ से अधिक कर्ज है। कई किसानों के ऋण कालातीत होकर एनपीए में हैं। जिला सहकारी केन्द्रीय बंैंक के कर्जदार किसानों में प्राथमिक कृषि साख सहकारी संस्थाओं से लोन लेने वाले किसान शामिल हैं। कर्ज माफी कुल दो लाख रुपए तक ही होगी इसके लिए पहले किसान को बकाया राशि बैंक को वापस लौटानी होगी। सोमवार को कृषि विकास एवं किसान कल्याण विभाग द्वारा जारी किए गए कर्ज माफी संबंधी आदेश के मुताबिक 31 मार्च 2018 तक के कर्जदार किसानों को इस योजना का लाभ मिलेगा।

अगर इसमें भ्रष्टाचार व अनियमितताएं नहीं हुईं तो कर्जमाफी योजना किसानों के लिए निश्चित रूप से लाभकारी है। बैंकों को भी इससे लाभ होगा। उन्हें बकाया की सारी राशि की सरकार से भरपाईहो जाएगी।
संजीव बरुआ, किसान नेता

ऋणमाफी योजना स्वागत योग्य है। इससे किसानों को वास्तव में फायदा होगा।
ओमप्रकाश लहारिया, किसान नेता एवं उपाध्यक्ष जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक भिण्ड

जिला सहकारी बैंक का जिले के लगभग 42 हजार किसानों पर 170 करोड़ रुपए बकाया है। कर्जमाफी योजना से 2 लाख तक के कर्जे वाले किसानों को राहत मिलेगी। जिन किसानों पर इससे ज्यादा कर्ज होगा, उन्हें 2 लाख से ऊपर की राशि जमा करानी पड़ेगी।
केपीसिंह भदौरिया, अध्यक्ष जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक मर्यादित भिण्ड

कर्ज माफी योजना आधी अधूरी है। अन्नदाता को वास्तव में कर्जमुक्त बनाना था तो सारा कर्ज माफ होना चाहिए था। अगर किसी किसान पर 2 लाख से ज्यादा का कर्ज है तो वह तो कर्जमाफी के बाद भी कर्जदार का कर्जदार ही रहेगा।
श्यामसुंदरसिंह यादव, प्रदेश अध्यक्ष लोसपा मप्र

Gaurav Sen
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned