पुलिसकर्मी की जेब में रुपए रखकर निकाल ले जाते हैं रेत से भरे वाहन

पुलिसकर्मी
की जेब में रुपए रखकर निकाल
ले जाते हैं रेत से भरे वाहन
police

एनएच 92 पर चेकिंग में लगे पुलिस कर्मियों की करतूत का खुलासा

अब्दुल शरीफ. भिण्ड. जिले में अवैध रेत का परिवहन धड़ल्ले से हो रहा है। वरिष्ठ अधिकारियों को अंधेरे में रखकर अधीनस्थ पुलिस कर्मी बड़ी ही सफाई से रुपयों को बिना हाथ लगाए रुपए जेब में रखवाकर रेत से भरे वाहनों को निकलने दे रहे हैं। पत्रिका के हाथ आए एक वीडियो स्टिंग में पुलिस कर्मियों की करतूत का खुलासा हुआ है।


भले ही पुलिस अधीक्षक अनिल सिंह कुशवाह अवैध रेत के परिवहन पर अंकुश लगाने के तमाम प्रयास कर रहे हैं
, लेकिन उनका अधीनस्थ अमला उनकी कोशिशों को विफल करने से नहीं चूक रहा है। पत्रिका को मिले एक वीडियो में फूप थाना क्षेत्र के निबुआ चौकी पर तैनात तीन पुलिसकर्मी रेत से भरे ट्रकों को रोक कर खड़े दिखाई दे रहे हैं। इतना ही नहीं ट्रक रोकने के चंद मिनट में ही रेत माफिया का कॉल आता है जिस पर परिवहकर्ता मोबाइल ले जाकर सशस्त्र पुलिसकर्मी को बात करने के लिए देता है। बात करने के बाद परिवहकर्ता का दूसरा साथी एक तंबाकू मलते हुए जा रहे पुलिस कर्मी के पीछे पीछे जाता है और दो हजार रुपए का नोट उसकी जेब में रख देता है।


अवैध डंप स्थलों से भरकर लाया जा रहा है रेत
: बताना मुनासिब है कि जिले भर में अटेर, मेहगांव, लहार एवं भिण्ड क्षेत्र में 400 से अधिक स्थानों पर अवैध रूप से लगे रेत के डंप माफिया के लिए चारागाह बने हुए हैं। कलेक्टर की ओर से खनन पर रोक लगाए जाने से पूर्व ही माफिया ने इतना रेत जमा कर लिया है कि बरसात तक वे असानी से सप्लाई करते रहेंगे। हैरानी की बात ये है कि बिना रॉयल्टी चुकाए ट्रक एवं डंपरों के जरिए रेत यूपी की सीमा में लेजाया जा रहा है। यहां बतादें कि कुछ दिन पूर्व भारौली थाने में चार सौ रुपए लेकर रेत से भरी ट्रैक्टर ट्रॉली निकलवाते हुए थाने के ही एक एचसीएम का मामला पत्रिका ने ओपन किया था। खबर प्रकाशित होने के उपरांत एचसीएम को एसपी ने लाइन हाजिर कर दिया था।


एक अफसर ने नहीं उठाया फोन
, दूसरे बोले वीडियो में दिख रहे जवान हमारे नहीं

इस मामले में पुलिस अधीक्षक अनिल सिंह कुशवाह से बात करने पर उन्होंने बताया कि ये वीडियो उनके पास पहुंच गया है। वीडियो में दिखाए गए कर्मी उनके नहीं बल्कि एसएएफ के हैं। तदुपरांत एसएएफ कमांडेंट दिलीप सिंह प्रतीक से उनके नंबर पर दो बार कॉल किया गया लेकिन उन्होंने कॉल रिसीव नहीं किया और तीसरी बार कॉल करने पर मोबाइल ऑउट ऑफ कवरेज ऐरिया बताने लगा।


Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned