जर्जर रास्ते से निजात पाने चंदा कर शुरू किया निर्माण, दबंगों ने जबरन रुकवाया

मेहगांव क्षेत्र के ग्राम कचनावकलां के ग्रामीणों की नहीं हो रही सुनवाई

By: Rajeev Goswami

Published: 27 Nov 2019, 12:12 PM IST

भिण्ड. दलदल में धंसकर आवागमन करने की परेशानी से जब शासन स्तर पर मदद नहीं मिल सकी तो मेहगांव क्षेत्र के ग्राम कचनावकला के ग्रामीणों ने आपस में चंदा एकत्र कर सडक़ बनाना शुरू किया लेकिन अब गांव के ही दबंग निर्माण नहीं होने दे रहे हैं। उन पर कार्यवाही और सडक़ निर्माण शुरू कराने के लिए ग्रामीणजन एक महीने से अधिकारियों के चक्कर लगा रहे हैं लेकिन उनकी सुनवाई नहीं की जा रही।

करीब दो हजार की आबादी वाले कचनावकलां में 1500 मीटर क"ो कीचड़ भरे मार्ग से कई दशक से ग्रामीण गुजर रहे थे। ग्राम पंचायत स्तर पर जब सडक़ नहीं बन पाई तो प्रति परिवार दो हजार रुपए के हिसाब से गांव में चंदा जमा किया गया। लगभग ढाई लाख रुपए चंदा जमा होने पर ग्रामीणों ने दलदल भरे क"ो रास्ते पर न सिर्फ मिट्टी डलवाई बल्कि उसे सडक़ का स्वरूप दिया जाना भी शुरू कर दिया गया। गांव के दबंग उक्त मार्ग पर अपना निजी अधपत्य जमाते हुए सडक़ निर्माण नहीं होने दे रहे हैं। ग्रामीणों द्वारा निर्माण करने पर न सिर्फ उनके साथ मारपीट की जा रही है बल्कि जान से मारने तक की धमकी दी जा रही है।

गांव तक नहीं पहुंचते वाहन : गांव में किसी के बीमार हो जाने की स्थिति में संबंधित मरीज को चारपाई पर लिटाकर चार लोग उसे पक्के मार्ग तक ले जाने और लाने का काम करते आ रहे थे। इतना ही नहीं ब"ाों को स्कूल भी दलदल से गुजरकर जाना पड़ रहा था। ग्रामीणजन रूटीन आवागमन भी कीचड़ भरे रास्ते से होकर ही करने को मजबूर थे।


गंदे पानी के निकास के लिए उपयोग करते दबंग

दबंग सालों से गांव के आम रास्ते को गंदे पानी के निकास के लिए उपयोग करते आ रहे हैं। सडक़ बन जाती है तो उन्हें गंदे पानी का निकास दूसरी ओर करना होगा। ग्रामीणों द्वारा गंदे पानी के निकास के लिए नाली भी निर्माण कराने का वादा किया है बावजूद इसके काम नहीं होने दे रहे हैं।

अब आंदोलन करने का मन बना रहे ग्रामीण

ग्रामीणजन संजय सिंह, विकास कुशवाह, सियाराम कुशवाह, अवधेश सिंह, गोविंद सिंह, शैलेष कुमार, बृजकिशोर कुशवाह, महेश सिंह आदि ने सामूहिक रूप से बताया कि यदि 27 नवंबर से निर्माण शुरू नहीं हो पाया तो वह 28 नवंबर से धरना प्रदर्शन करने के लिए मजबूर होंगे।

-चंदा जमा करके बनाई जा रही सडक़ पर भी काम नहीं होने दिया जा रहा है। सबसे फरियाद भी कर ली। अब आंदोलन ही एक रास्ता बचा है।

किशन स्वरूप सिंह, ग्रामीण कचनावकलां

-सडक़ निर्माण करने पर दबंग हथियार लेकर मारने आ जाते हैं। प्रशासन चंदे की धनराशि से भी सडक़ बनने में सहयोग नहीं कर पा रहा है।

भगवान सिंह, ग्रामीण कचनावकलां

-जन सहयोग से सडक़ बनाने में हम पूरा सहयोग करेंगे। यदि दबंगई पूर्वक सडक़ निर्माण में बाधा उत्पन्न की जा रही है तो हम पुलिस की मदद लेंगे।

रामसुरेश शर्मा, सचिव ग्राम पंचायत

-हम कल ही मौके पर पहुंचकर स्थिति का जायजा लेंगे। सरकारी रास्ते पर जनसहयोग से सडक़ निर्माण नहीं रुकने दिया जाएगा।

बलबहादुर सिंह, सीईओ जनपद पंचायत मेहगांव

Show More
Rajeev Goswami
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned