सिंध नदी को छलनी कर रही तीन पनडुब्बी और एक पोकलेन मशीन जब्त

  • अवैध खनन : रौन क्षेत्र के मेंहदापुल के पास नदी की गहराई से निकाल रहे थे रेत
  • खनिज, राजस्व एवं पुलिस अमले द्वारा संयुक्त कार्रवाई

By: हुसैन अली

Published: 21 Jan 2021, 11:06 PM IST

लहार. अवैध रेत खनन पर प्रभावी रूप से अंकुश लगाने की कवायद में खनिज, राजस्व एवं पुलिस अमले द्वारा संयुक्त रूप से कार्रवाई कर रौन क्षेत्र के मेंहदा घाट के पास सिंध नदी की गहराई से रेत निकाल रहीं तीन पनडुब्बियों को पुर्जा-पुर्जा खुलवाकर जब्त किया गया तथा एक पोकलेन मशीन भी थाना परिसर ले जाई गई है। कार्रवाई २१ जनवरी के अपरान्ह ३ बजे की गई।

जानकारी के अनुसार सिंध नदी को खोखला करने में लगे रेत माफिया पर नकेल कंसते हुए प्रशासन ने गुरुवार की दोपहर बाद अचानक छापामार कार्रवाई की। कलेक्टर वीरेंद्र नवल सिंह रावत के निर्देश पर एसडीएम भिण्ड उदय सिंह सिकरवार, जिला खनिज अधिकारी आरपी भदकारिया, तहसीलदार महेंद्र गुप्ता तथा एसपी मनोज यादव के निर्देश पर डीएसपी हेडक्वार्टर मोतीलाल कुशवाह के अलावा थाना प्रभारी कुशल सिंह भदौरिया, उप निरीक्षक दीपेंद्र यादव ने दबिश देकर सिंध नदी में चल रहीं तीन पनडुब्बी व एक पोकलेन मशीन बरामद की। हालांकि मौके पर माफिया पकड़ में नहीं आया है।

नयागांव, भारौली, अमायन व रौन क्षेत्र में अभी भी चल रहीं 54 पनडुब्बियां

बता दें कि नयागांव, भारौली, अमायन व रौन क्षेत्र की रेत खदानों पर 54 पनडुब्बियां नदी को छलनी कर रही हैं। विदित हो कि रौन क्षेत्र की दहेमा में 02, बहादुरपुरा में 02, इंदुरखी में 02, मड़ैयन में 02, निवसाई में 03, भारौली क्षेत्र के रिडिय़ा खदान पर 04, मुसावली में 08, गोरम खदान पर 05, बड़ूरा में 02, अमायन क्षेत्र के खैरोली में 04, अजीता में 03, कछपुरा में 03, इंदुरखी में 02 एवं नयागांव क्षेत्र के जखमौली, टेहनगुर, हिलगमा, अतरसूमा, ककहरा खदानों पर 12 पनडुब्बियां खनन कर रही हैं।

इधर लहार थाना क्षेत्र की तीन खदानों पर चल रहीं 13 पनडुब्बियां

विदित हो कि लहार थाना क्षेत्र में संचालित तीन रेत खदानों पर 13 पनडुब्बियां चल रही हैं। इनमें मटियावली में 06, बड़ेतर में 03 एवं अजनार में 04 पनडुब्बी सिंध को खोखला कर रही हैं। ऐसा नहीं है कि इनकी जानकारी प्रशासन को नहीं है पर कार्रवाई के लिए किसी बड़े आदेश का इंतजार था। गुरुवार को रौन क्षेत्र के मेंहदाघाट पर की गई कार्रवाई के उपरांत ऐसी उम्मीद लगाई जा रही है कि प्रशासन सिलसिलेवार उपरोक्त खदानों पर चल रहीं पनडुब्बियों को जब्त करने की कार्रवाई करेगा।

हुसैन अली
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned