भिण्ड में बनेगा ऐसा ऑपरेशन थिएटर जिसमें जिसमें नहीं रहेगा संक्रमण का खतरा

172 लाख रुपए होंगे खर्च, नाम होगा मॉड्यूलर ऑपरेशन थिएटर, मरीज को नहीं होगा संक्रमण का खतरा, ऑपरेशन भी होगा सुरक्षित

भिण्ड. जिला अस्पताल में मॉडयूलर आपरेशन थियेटर (एम-ओटी) का निर्माण 10 माह बाद भी शुरू नही हो पाया है। इसका निर्माण रा’य के लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग को कराना है, जिसने अभी तक निर्माण की प्रक्रिया ही शुरू नहीं की है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन कार्यक्रम के तहत बनने वाले इस एमओटी पर 172.49 लाख रुपए खर्च होंगे।

मॉडयूलर ओपरेशन थियेटर परंपरागत पुराने आपरेशन थियेटर की तुलना में काफी आधुनिक, साफ सुथरे एवं उपकरणों से स"िात होगा, जिससे न केवल रोगियों के आपरेशन बेहतर व सुरक्षित तरीके से हो सकेंगे बल्कि इससे डाक्टरों को भी सहूलियत होगी।

स्वास्थ्य महकमा प्रदेश के उन सभी जिला अस्पतालों का आधुनिकीकरण कर रहा है, जिनके द्वारा कायाकल्प कार्यक्रम के

तहत लगातार उत्कृष्ट प्रदर्शन किया जा रहा है। भिण्ड के अलावा देवास, जबलपुर, बालाघाट, सीधी, खण्डवा, गुना तथा राजगढ़ के जिला चिकित्सालयोंं में भी ये मॉड्यूलर आपरेशन थियेटर स्वीकृत करते हुए 13.80 करोड़ रुपए का बजट दिया था।

भिण्ड के जिला अस्पताल के लगातार कायाकल्प कार्यक्रम के तहत बेहतर करने के कारण प्रदेश के सर्वश्रेष्ठ जिला अस्पताल का

दर्जा मिलने के चलते एम-ओटी की सौगात दी गई थी। 400 बिस्तरों के इस अस्पताल में अभी परंपरागत पद्धति का आपरेशन थियेटर है। अस्पताल में प्रसूति वार्ड, आई-वार्ड के अलावा ट्रामा सेन्टर भी है, जिससे यहां प्रतिदिन दो-चार आपरेशन होते हैं।

क्या है मॉड्यूलर आपेशन थियेटर?

मॉड्यूलर ऑपरेशन थियेटर में एयर हैंडलिंग यूनिट लगी होती है, जिससे संक्रमण का खतरा समाप्त हो जाता है। ओटी की दीवारें एंटी बैक्टीरियल होती हैं। कॉर्नर नहीं होता जिससे वहां धूल गर्द की संभावना नहीं होती। तापमान नियंत्रण के लिए इलेक्ट्रानिक सिस्टम होता है। यह ओटी आधुनिकतम उपकरणों के साथ कई खूबियों से लैस होता है। इसमें साफ-सफाई व्यवस्था, मूवेबल लाइटिंग व आपरेशन बैड, दीवारों पर स्टेनलेस स्टील की परत होती है। दीवार व छत तिरछी पैनलों के होते हैं वे न केवल बिजली के उपकरणों को समाहित करने के लिए सक्षम होते हैं बल्कि इनमें चिकित्सा गैस प्रणाली एवं प्रकाश गियर आदि सभी सुविधाएं उपलब्ध रहती हैं। इसके विपरीत सामान्य ऑपरेशन थियेटर में संक्रमण दूर करने का कोई अलग से मानक तय नहीं होता। यहां 40 प्रतिशत तक संक्रमण का खतरा रहता है।

-मॉड्यूलर आपरेशन थियेटर के निर्माण की प्रक्रिया रा’य स्तर से होनी है। नया एम-ओटी अस्पताल के पुराने आपरेशन थियेटर का भवन तोडक़र बनाया जाएगा। मॉडयूलर ओटी से संक्रमण की संभावनाएं नहीं रहतीं, सर्जन्स को भी आपरेशन करने में सुविधा रहती है।

डॉ अजीत मिश्रा, सिविल सर्जन भिण्ड

Rajeev Goswami Desk
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned