‘108 दिन में जाएगी शिवराज की सत्ता, नहीं तो बीच चौराहे पर कटवा देना मेरी दाढ़ी’

  • नदी बचाओ सत्याग्रह पदयात्रा रवाना होने से पूर्व पत्रकारों से चर्चा में बोले संत बालीबाबा
  • पूर्व मंत्री डॉ. गोविंद सिंह कर रहे हैं यात्रा की अगुवाई, पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने दिखाई हरी झंडी

By: हुसैन अली

Published: 05 Sep 2020, 11:46 PM IST

लहार. अगले 108 दिन में शिवराज सरकार चली जाएगी। ऐसा नहीं हुआ तो बीच चौराहे पर मेरी दाढ़ी कटवा देना। यह बात लहार में नदी बचाओ सत्याग्रह पदयात्रा शुरू होने से पूर्व संत बाली बाबा ने पत्रकारों से चर्चा में कही। उन्होंने कहा भाजपा ने सत्ता और जनता का अपहरण किया है जिसे हम हनुमानजी की तरह उनकी लंका में आग लगाकर मुक्त कराएंगे। तत्पश्चात पूर्व नेता प्रतिपक्ष ने सत्याग्रह पदयात्रा को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। उक्त आंदोलन की अगुवाई पूर्व मंत्री डॉ. गोविंद सिंह कर रहे हैं।

‘108 दिन में जाएगी शिवराज की सत्ता, नहीं तो बीच चौराहे पर कटवा देना मेरी दाढ़ी’

पदयात्रा को हरी झंडी दिखाने के दौरान अजय सिंह राहुल भैया ने कहा कि भाजपा की कथनी और करनी का अंतर भांपते हुए प्रदेश की जनता कांग्रेस को सभी २५ सीटों पर जीत दिलाएगी। भाजपा सरकार में प्रदेश की नदियां छलनी कर दी गईं। किसानों और बेरोजगारों को झूठे आश्वासन के अलावा कुछ नहीं दिया। उन्होंने कहा कि आज यदि पानी नहीं बचाया जाएगा तो इसके लिए भविष्य में युद्ध की स्थितियां निर्मित होंगी। नदी रहेंगी तभी जल संरक्षण हो पाएगा। इससे पूर्व बालीबाबा ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को लेकर कहा कि जिस तरह सांप की दो जीभ होती हैं ठीक उसी प्रकार सिंधिया एक जीभ से भाजपा की बुराई करते थे और अब दूसरी जीभ से कांग्रेस की बुराई कर रहे हैं। उनके राजनीतिक कॅरियर का भाजपा में वही हश्र होगा जो उमा भारती के कॅरियर का हुआ है।

जिले भर की रेत खदानों से गायब हुईं पोकलेन मशीनें और परिवहन के लिए जमा रहने वाले ट्रक, डंपर

नदी बचाओ सत्याग्रह पदयात्रा लहार के इंदिरा गांधी स्टेडियम से गांधी प्रतिमा पर माल्यार्पण के साथ शुरू की गई। पदयात्रा को मिले जनसमर्थन के चलते चार किमी दूरी आठ घंटे में तय हो पाई। लिहाजा रेत माफिया न सिर्फ स्वंय गायब हो गए बल्कि सिंध नदी से अपना साजो सामान भी समेट ले गए। सडक़ों पर रेत से भरे ट्रक, डंपर दिन भर आवागमन करते नजर आते थे वह शनिवार की सुबह से लेकर शाम तक एक भी मार्ग पर दिखाई नहीं पड़े। पदयात्रा में पूर्व मंत्री बृजेंद्र प्रताप सिंह, पूर्व विधायक हेमंत कटारे, खिजर कुरैशी, राधेश्याम शर्मा, देवाशीष जरारिया, रामनारायण हिण्डोलिया, बृजकिशोर शर्मा, राहुल भदौरिया, पिंकी भदौरिया, देवेंद्र त्रिपाठी, उदयप्रताप सिंह सेंगर, गिरिजा शंकर बघेल, मधुराज तोमर, सुरेश सिंह सिकरवार, इरशाद अहमद, साहब सिंह गुर्जर, राजेंद्र खेमरिया सहित कई कार्यकर्ता शामिल रहे।

सिलसिलेवार शरीक होंगे पदयात्रा में राष्ट्रीय नेता

शनिवार को नदी बचाओ सत्याग्रह पदयात्रा ग्राम पर्रायंच से आजी माता आश्रम ग्राम सढ़ा पहुंचेगी। इस दौरान यात्रा में विवेक तंखा साथ रहेंगे। 07 सितंबर को यात्रा आजी माता मंदिर से भारौली होते हुए भिण्ड पहुंचेगी जिसमें कंप्यूटर बाबा एवं संतों की टोली शामिल रहेगी। 08 सितंबर को पदयात्रा भिण्ड से चंबल नदी किनारे होते हुए बरही पहुंचेगी। इस दौरान रेमन मैगसेसे पुरस्कार से सम्मानित जलपुरुष राजेंद्र सिंह एवं कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता मोहन प्रकाश मौजूद रहेंगे। 09 सितंबर को ग्राम खेरा सिंध नदी से रौन पहुंचेगी, जिसमें पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा शामिल रहेंगे। 10 सितंबर को लहार से सेंवढ़ा और ११ सितंबर को भगुआपुरा से सेंवढ़ा के सनकुआ में सिंध नदी किनारे यात्रा का समापन होगा।

हुसैन अली
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned