scriptwomen sacrifice life for her children after dead of husband | Sacrifice : पति की मौत, बच्चों की पढ़ाई के लिए सुबह से शाम घरों में झाड़ू-पोछा करती है मां | Patrika News

Sacrifice : पति की मौत, बच्चों की पढ़ाई के लिए सुबह से शाम घरों में झाड़ू-पोछा करती है मां

रहने को घर और आजीविका का जरिया नहीं होने के बावजूद दर्ज नहीं है बीपीएल सूची में नाम

भिंड

Updated: February 18, 2022 06:02:40 pm

कुंजबिहारी कौरव दबोह (भिण्ड). लहार विकासखण्ड के दबोह अंतर्गत काजियाना मोहल्ले में रह रही एक ५० वर्षीय विधवा बच्चों को पढ़ाने का सपना लिए दूसरों के घर झाड़ू-पोछा कर रही है। हैरत की बात ये है कि महिला के पास घर के अलावा आजीविका का ठोस जरिया तक नहीं है। बावजूद इसके उसका नाम बीपीएल सूची में दर्ज नहीं है।
Sacrifice : पति की मौत, बच्चों की पढ़ाई के लिए सुबह से शाम घरों में झाड़ू-पोछा करती है मां
Sacrifice : पति की मौत, बच्चों की पढ़ाई के लिए सुबह से शाम घरों में झाड़ू-पोछा करती है मां
मिर्जा मीना बेग पत्नी मरहूम बादल बेग अपने बच्चों पर गुरबत का साया उनकी पढ़ाई पर नहीं पडऩे देना चाहतीं। वे कहतीं हैं कि हर प्रकार से मेहनत कर अपने बच्चों को अच्छी तालीम देने का उनका सपना है। दबोह कस्बे के ही एक रहमदिल इंसान ने अपने घर में उन्हें और उनके बच्चों को रहने के लिए आसरा दे दिया है। भरण पोषण के लिए वह स्वयं सुबह से शाम तक प्राइवेट क्लिनिक व स्कूलों में जाकर झाड़ू पोछा करती हैं। इसके बदले उन्हें महीने में ढाई से तीन हजार रुपए की आय हो जाती है। मीना बेग की दो बेटी हैं एक १८ वर्षीय नाजिया तथा दूसरी १३ वर्षीय नाफिया जबकि 10 वर्ष का बेटा फरदीन है। बड़ी बेटी के हाथ पीले करने और छोटे दो बच्चों को उच्च शिक्षित बनाने को लेकर वह चिंतित हैं।
बीपीएल परिवारों के सर्वे पर उठ रहे सवाल

उल्लेखनीय है कि बीपीएल सूची में नाम जोडऩे से पूर्व प्रशासनिक स्तर पर सर्वे कराया जाता है। उक्त सर्वे में वास्तविक गरीब परिवारों के नाम छूटने के साथ अपात्र लोगों के नाम कैसे जुड़ जाते हैं। इसको लेकर लोग अब सवाल उठाने लगे हैं। दरअसल सरकारी हितग्राही मूलक योजनाओं को पलीता लगाने के इस घालमेल में संबंधित अधिकारियों की मौन चुप्पी भी बड़ा कारण है। अपात्रों के नाम जोडऩे वालों पर किसी प्रकार की कार्यवाही नहीं किया जाना वास्तविक गरीब परिवारों के हकों को मारने की वजह बन रहा है। दबोह की मीना बेग महज एक उदाहरण भर हैं। कई ऐसे परिवार हैं जिन्हें सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है।
ये परिवार सर्वे में कैसे छूटा इसकी जानकारी ले रहे हैं। जल्द ही बीपीएल सूची में जुड़वाकर योजनाओं का लाभ दिलाने की कार्यवाही की जाएगी।
- बाबूलाल कुशवाह, सीएमओ, नप दबोह

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

बुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंमान्यता- इस एक मंत्र के हर अक्षर में छुपा है ऐश्वर्य, समृद्धि और निरोगी काया प्राप्ति का राजराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाVeer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

राष्ट्रीय खेल घोटाला: CBI ने झारखंड के पूर्व खेल मंत्री के आवास पर मारा छापामहंगाई पर आज केंद्र की बड़ी बैठक, एग्री सेस हटाने और सीमेंट के दाम कम करने पर रहेगा जोरPM Modi in Hyderabad: KCR पर मोदी का इशारों में वार, परिवादवाद को बताया लोकतंत्र का दुश्मनUP Budget: युवाओं के रोजगार-व्यापार के लिए Yogi ने बनाया स्पेशल प्लान, जानिए कैसे मिलेगी नौकरी'8 साल, 8 छल, भाजपा सरकार विफल...' के नारे के साथ मोदी सरकार पर कांग्रेस का तंजसुप्रीम कोर्ट ने सेक्स वर्क को भी माना प्रोफेशन, पुलिस नहीं करेगी परेशान, जारी किए निर्देशमोदी सरकार के 8 साल पूरे; नोटबंदी, एयर स्ट्राइक, धारा 370 खत्म करने सहित सरकार के 8 बड़े फैसलेआयकर विभाग के कर्मचारी ने तीन- तीन लाख रुपए में बेचे कांस्टेबल भर्ती परीक्षा के पेपर, शिक्षिका पत्नी के खाते में किए ट्रांसफर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.