आंध्र में फंसे युवा रेलवे ट्रैक होकर भिण्ड की ओर पैदल निकले, वायरल हुआ वीडियो

स्थानीय सरकार की ओर से मदद के नाम पर सिर्फ 15 किग्रा आटा और 5 किग्रा आलू मिले थे। अब हमारे पास न पैसे बचे हैैं और न खाना। हमने यहां के विधायक से भी संपर्क किया, लेकिन उन्होंंने कोई मदद नहीं की। तहसीलदार से फरियाद की तो 20 दिन बाद आने की कहकर चलता कर दिया।

By: हुसैन अली

Updated: 10 May 2020, 07:50 PM IST

भिण्ड. आंध्रप्रदेश के पलासा रेलवे स्टेशन पर 15 दिन से फंसे 10 से अधिक युवाओं को मदद नहीं मिल पाई है। उम्मीद खत्म होने पर युवाओं ने रेलवे टै्रक पर पैदल चलकर भिण्ड की ओर रवानगी डाल दी है। इससे पूर्व एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल किया है। ये युवक यहां रेलवे की कैं टीन में काम करते थे, 45 दिनों से ट्रेनों का आवागमन ठप होने से ये बेरोजगार हैं।
युवाओं की ओर से साथी प्रमोद कुमार ने बताया कि लॉकडाउन का पालन करते हुए यहीं रुक गए थे।

स्थानीय सरकार की ओर से मदद के नाम पर सिर्फ 15 किग्रा आटा और 5 किग्रा आलू मिले थे। अब हमारे पास न पैसे बचे हैैं और न खाना। हमने यहां के विधायक से भी संपर्क किया, लेकिन उन्होंंने कोई मदद नहीं की। तहसीलदार से फरियाद की तो 20 दिन बाद आने की कहकर चलता कर दिया। हमारे कुछ साथी बेंगलूरु में फंसे थे, लेकिन वे साइकिल से रवाना हो गए। हमारे पास तो साइकिल खरीदने के भी पैसे नहीं हैं।

रोड पर चैकिंग इतनी है कि शायद ही हमें निकलने दिया जाए। इसलिए रेलवे टै्रक पर पैदल चलकर भिण्ड की ओर रवानगी डाली है। सरकार 10 दिनों में गुजरात, महाराष्ट्र, दिल्ली आदि राज्यों से 25 हजार मजदूरों को परिवारों के साथ भिण्ड ला चुकी है, जो अभी भी फंसे हुए हैं, उनके परिजन भी यहां बैचेन हैं। स्थानीय अधिकारियों से भी संपर्क कर रहे हैं, लेकिन मदद के नाम पर सिर्फ आश्वासन मिल रहा है।

हुसैन अली
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned