scriptनिगम के रिकॉर्ड से स्पष्ट, छीजत पर नहीं लग रही लगाम | Patrika News
भिवाड़ी

निगम के रिकॉर्ड से स्पष्ट, छीजत पर नहीं लग रही लगाम

बिजली चोरी में अव्वल ये फीडर

भिवाड़ीJun 17, 2024 / 06:53 pm

Dharmendra dixit

भिवाड़ी। विद्युत निगम के भिवाड़ी उपखंड में एक दर्जन से अधिक ऐसे फीडर हैं, जहां बिजली छीजत अधिक मात्रा में है। निगम के आंकड़ों में भी ये फीडर चिन्हित हैं। बिजली चोरी रोकने के लिए फीडर इंचार्ज, कनिष्ठ अभियंताओं को जिम्मेदारी दी गई थी। निगम को राजस्व हानि से बचाने के लिए कई तरह के इंतजाम किए गए लेकिन उनका असर नहीं हो रहा है। इन क्षेत्रों में कनेक्शन से बिजली का उपयोग करने वालों से ज्यादा संख्या बिना कनेक्शन, कटिया डालकर बिजली चोरी करने वालों की है। यह सब आंकड़े निगम अभियंताओं को भी पता है, इसके बावजूद इन क्षेत्रों में छीजत पर लगाम नहीं लग रही है। इन क्षेत्रों में निगम ने बिजली चोरी करने वालों पर जुर्माना लगाने, नए उपभोक्ता बनाकर छीजत को कम करने का लक्ष्य तय किया था। इसके बावजूद इन क्षेत्रों में पहले की तरह ही बिजली चोरी हो रही है। मजदूर कॉलोनी, घर और अन्य प्रतिष्ठानों में हर महीने चोरी की बिजली का उपयोग हो रहा है। यह सब निगम अभियंताओं को मालूम होने के बाद भी चल रहा है। यहां छीजत रोकने में सफलता नहीं मिल रही है जिससे निगम को हर महीने राजस्व का नुकसान हो रहा है।

इन क्षेत्रों में सबसे ज्यादा असर

बिजली की छीजत में घटाल 11 केवी फीडर नंबर दो-तीन घटाल गांव, कहरानी प्रथम 11 केवी फीडर नंबर दो अमलाकी-ढाणी, कहरानी द्वितीय 11 केवी फीडर नंबर 4 गोधान, मुंडाना मेव फीडर नंबर एक रामपुरा, शाहडौद, रामपुरा मुंडाना फीडर नंबर दो मुंडाना मेव, पाŸवनाथ फीडर नंबर तीन सांथलका, पाŸवनाथ फीडर नंबर पांच आलमपुर, यूआईटी सेक्टर नौ बाबा मोहनराम खोली क्षेत्र, खिजूबरीबास फीडर खिजूरीबास-उदयपुर गांव, खानपुर फीडर खानपुर गांव, मिलकपुर फीडर नंबर एक-दो मिलकपुर गांव, मिलकपुर फीडर नंबर चार अरावली विहार, 220 केवी जीएसएस भिवाड़ी फीडर नंबर दो-छह सांथलका, बिलाहेड़ी गांव, 132 केवी जीएसएस फीडर नंबर एक-दो भिवाड़ी, नंगलिया गांव और आरएचबी सेक्टर एक, दो और तीन का क्षेत्र बिजली चोरी से प्रभावित है। यहां पर 15 से 40 फीसदी तक छीजत है।

नहीं मिल रही सफलता

इन क्षेत्रों में बिजली चोरी रोकने के लिए निगम ने फीडर इंचार्ज को जिम्मेदारी सौंपी थी। इनका काम बिलिंग से लेकर बिजली चोरी रोकना था। चिन्हित क्षेत्रों में फीडर इंचार्ज, कनिष्ठ अभियंता और सहायक अभियंता को बिजली चोरी रोकनी थी, लेकिन अभी तक कोई खास परिणाम नजर नहीं आए हैं। निगम द्वारा प्रत्येक महीने फीडर से आपूर्ति होने वाले क्षेत्र से प्राप्त होने वाले राजस्व का विश्लेषण किया जाता है। करीब डेढ़ दर्जन फीडर ऐसे हैं जहां लॉस 30 प्रतिशत से अधिक हैं।

सतर्कता जांच ही हथियार

निगम द्वारा उपभोक्ता-गैर उपभोक्ताओं को बिजली चोरी करते हुए पकड़े जाने पर वीसीआर भरी जाती है। वीसीआर की राशि जमा न करने पर विद्युत थाने में मामला दर्ज कराकर गिरफ्तारी होती है। इसके साथ ही ऐसे क्षेत्र जहां ज्यादा बिजली चोरी होती है वहां पर कनेक्शन देने के लिए शिविर लगाए जाते हैं। निगम अभियंताओं के अनुसार बिजली की छीजत रोकने के लिए उपभोक्ताओं के अंदर जागरुकता बड़ा असर डालती है। अक्सर बिजली चोरी करने वाले उपभोक्ता स्विच भी नहीं लगाते। पावर हाउस से बिजली सुचारू होने पर उनके घर के उपकरण भी चलने लगते हैं। अधिकांश समय इन उपकरणों के चलाने की जरूरत नहीं होती। अगर जरूरत पर बिजली का उपयोग किया जाए तो 50 फीसदी ऊर्जा की बचत होती है।

जो भी छीजत वाले क्षेत्र हैं, वहां पर राजस्व को बढ़ाने और लाइन लॉस को कम करने के लिए सभी सहायक अभियंताओं को निर्देश दिए गए हैं।
मनोज गंगावत, अधीक्षण अभियंता, वितरण निगम

Hindi News/ Bhiwadi / निगम के रिकॉर्ड से स्पष्ट, छीजत पर नहीं लग रही लगाम

ट्रेंडिंग वीडियो