scriptदो साल में 852 करोड़ के भूखंड़ों पर लगे नए उद्योग | Patrika News
भिवाड़ी

दो साल में 852 करोड़ के भूखंड़ों पर लगे नए उद्योग

126 उद्यमियों ने किया निवेश, 160 उद्यमियों ने नाम परिवर्तन कराए

भिवाड़ीJun 22, 2024 / 07:33 pm

Dharmendra dixit

भिवाड़ी. औद्योगिक क्षेत्र का तेजी से विकास हो रहा है। नए उद्योग लग रहे हैं। ईवी, इलेक्ट्रोनिक और ऑटो जोन बनाए गए हैं। सामान्य जोन भी हैं, इस तरह उद्योगों को बढ़ावा देने का प्रयास हो रहा है, लेकिन इस दौरान औद्योगिक भूखंड में आई तेजी का लाभ भी उद्यमी खूब ले रहे हैं। गत और चालू वित्तीय वर्ष के आंकड़ों को देखें तो यह स्पष्ट होता है कि जिस तरह नए उद्योग लगाने के लिए उद्यमियों ने भूखंड खरीदे वहीं रीको में नाम परिवर्तन कराने के मामले भी खूब आए। गत और चालू वित्तीय वर्ष में 126 भूखंड के आवंटन हुए, जबकि गत और चालू वित्तीय वर्ष को मिलाकर करीब 160 नाम परिवर्तन किए गए। इस तरह जितने नए औद्योगिक भूखंड में उद्यमियों ने निवेश किया, उससे अधिक भूखंड का बेचान हुआ। हालांकि इसे भी औद्योगिक नजरिए से अच्छा ही माना जाएगा, क्योंकि औद्योगिक भूखंड में सिर्फ उत्पादन ही हो सकता है।

इसलिए बढ़े नाम परिवर्तन के मामले

रीको ने दो नए औद्योगिक क्षेत्र निवेश के लिए खोले। बाजार में तेजी का माहौल दिखा। नए निवेशकों ने एक साल पहले जितना निवेश किया अब वह तीन से पांच गुना तक पहुंच चुका है। एक साल पहले जिन्होंने एक करोड़ का निवेश किया अब वह तीन से पांच करोड़ में पहुंच चुका है। जिन्होंने एक दशक, दो दशक पहले निवेश किया, उनके कौडिय़ों में खरीदे भूखंड अब करोड़ों के हो चुके हैं। इसकी वजह से उद्यमियों ने उत्पादन करने के साथ ही जमीनों की खरीद-बिक्री शुरू कर दी। रीको से आवंटित भूखंड को पंजीयन कार्यालय में रजिस्ट्री कराने के साथ रीको में भी नाम परिवर्तन कराना पड़ता है।

दो वर्ष में बिके 852 करोड़ के भूखंड
वित्तीय वर्ष 2023-24 में 22 भूखंड के आवंटन हुए हैं अभी तक, इनका क्षेत्रफल दो लाख वर्गमीटर से अधिक है। इन भूखंड की कीमत करीब 190 करोड़ है।

वित्तीय वर्ष 2022-23 में बंदापुर में 12 भूखंड आवंटित हुए, इनका क्षेत्रफल 63 हजार वर्गमीटर से अधिक और कीमत 66 करोड़ है। चौपानकी में 16 भूखंड आवंटित किए हैं इनका क्षेत्रफल 7500 वर्गमीटर से अधिक और कीमत 11 करोड़ है। कारोली में 31 भूखंड आवंटित हुए हैं जिनका क्षेत्रफल 2.44 लाख वर्गमीटर से अधिक और कीमत 223 करोड़ रुपए है। खुशखेड़ा में 10 भूखंड आवंटित हुए हैं जिनका क्षेत्रफल करीब 17 हजार वर्गमीटर और कीमत 24 करोड़ से अधिक है। सलारपुर में 13 भूखंड आवंटित हुए हैं जिनका क्षेत्रफल करीब 1.27 लाख वर्गमीटर और कीमत 148 करोड़ है। इस तरह गत वित्तीय वर्ष में 104 भूखंड आवंटित हुए, जिनका कुल क्षेत्रफल 6.58 लाख वर्गमीटर से अधिक और कीमत करीब 662 करोड़ रुपए है।

विभाग के नियमानुसार उद्यमी खरीद और बेचान कर सकते हैं। बेचान करने पर भी रीको शुल्क लेता है। नए निवेशक बढऩे से औद्योगिक क्षेत्र में उत्पादन भी बढ़ा है।
आदित्य शर्मा, यूनिट हेड, रीको

Hindi News/ Bhiwadi / दो साल में 852 करोड़ के भूखंड़ों पर लगे नए उद्योग

ट्रेंडिंग वीडियो