कांग्रेस नेता बोले सरकार कर रही घोटाला , 10 किलो बताकर दे रही 6 से 8 किलो आटा

ग्वालियर शहर में प्रदेश सरकार की ओर से जरूरतमंदों को 10-10 किलो आटे के कट्टे का वितरण किया जा रहा है।

By: Amit Mishra

Updated: 18 Apr 2020, 09:56 AM IST

भोपाल। देश में 40 दिन का लॉकडाउन चल रहा है। सभी राज्य इस महामारी से निपटने के लिए जी जान से जुटे हुए हैं और जरूरतमंदों को भोजन व राशन भिजवा रहे हैं। प्रदेश में शुक्रवार की दोपहर को एक ऐसा मामला सामने आया है। जिसमें 10 किलो आटे की जगह छह व आठ किलो आटे के कट्टे ही दिया जा रहा है। ग्वालियर शहर में प्रदेश सरकार की ओर से जरूरतमंदों को 10-10 किलो आटे के कट्टे का वितरण किया जा रहा है। जिसमें 10 किलो की जगह छह व 8 किलो आटे के कट्टे का वितरण हो रहा है।

दो से तीन किलो आटा कम निकला
आटे कम मिलने की शिकायत लोगों ने दक्षिण विधानसभा से कांग्रेस के युवा विधायक प्रवीन पाठक से की तो उन्होंने तुंरत ही आटे के कट्टे का वजन कराया तो उसमें दो से तीन किलो आटा कम निकला। इसके बाद कांग्रेस विधायक प्रवीन पाठक ने ग्वालियर कलेक्टर से मामले की शिकायत की और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखने की भी बात कही।

नया घोटाला अब सामने आया
इस दौरान कांग्रेस विधायक प्रवीन पाठक ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि सरकार को यह सब नहीं करना चाहिए वो भी ऐसी स्थिति में जब प्रदेश की जनता सबसे बड़े संकट में है। भाजपा की सरकार 10 किलो के आटे की कट्टे की जगह छह किलो आटे के ही कट्टे दे रही हैं।

कड़ी कार्रवाई करने की भी बात कही
कांग्रेस विधायक प्रवीन पाठक ने कहा कि भाजपा सरकार का यह नया घोटाला अब सामने आया है। यह निर्धन निवाला घोटाला है। विधायक प्रवीन पाठक ने कलेक्टर से इस मामले में कड़ी कार्रवाई करने की भी बात कही।

सरकार द्वारा बाटे जा रहे 10 किलो आटे के कट्टे में सिर्फ 6 किलो आटा, कांग्रेस नेता बोले ये है निर्धन घोटला

गरीबों पर भी दया नहीेें
उधर 10 किलो के आटे की कट्टे की जगह छह किलो आटा मिलनेउ के बाद लोगों का कहना है इस तरह का काम करने वाले लोगों गरीबों पर भी तरस नहीं खा रहे है। इस समय गरीब वर्ग के सामने दो वक्त की रोटी का संकट खड़ा है उसके बाद भी 10 किलो के आटे की कट्टे की जगह छह किलो आटा मिलना बहुत ही शर्मनाक है।

Show More
Amit Mishra
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned