29 में से 26 सांसद करोड़पति, आठ पर क्रिमनल केस, तीन पर गंभीर अपराध भी दर्ज

छिंदवाड़ा, विदिशा, गुना, होशंगाबाद सहित 10 लोकसभा क्षेत्र देते रहे हैं करोड़पति सांसद

By: anil chaudhary

Published: 29 Mar 2019, 05:04 AM IST

भोपाल. मध्यप्रदेश के 10 लोकसभा क्षेत्र ऐसे हैं, जिन्हें सांसद करोड़पति ही मिलते रहे हैं। इनमें दिग्गज नेताओं के क्षेत्र भी शामिल हैं। वहीं, एक दर्जन लोकसभा क्षेत्रों के वोटर कभी लखपति तो कभी करोड़पतियों को सांसद चुनते रहे हैं।
मध्यप्रदेश की 29 लोकसभा सीटों पर चुनाव जीते सांसदों की सम्पत्ति पर नजर डालें तो लोकसभा चुनाव 2014 में सर्वाधिक 26 करोड़पति सांसद चुने गए। जबकि लखपति सांसद मात्र तीन हैं। इनमें धार की सावित्री ठाकुर, शहडोल के दलपत सिंह परस्ते और टीकमगढ़ के डॉ. वीरेन्द्र कुमार खटीक शामिल हैं। नामांकन के दौरान दिए शपथ पत्र में सावित्री ने 96 लाख, परस्ते ने 55 लाख और वीरेन्द्र ने 87 लाख की सम्पत्ति बताई थी। करोड़पति सांसदों की बात करें तो सबसे ज्यादा सम्पत्ति 206 करोड़ छिंदवाड़ा सांसद कमलनाथ ने दर्शाई थी। दूसरे नंबर पर कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया रहे। इनकी सम्पत्ति 33 करोड़ रुपए से अधिक की थी। मुख्यमंत्री कमलनाथ इस बार विधानसभा चुनाव लड़ेंगे, जबकि सिंधिया लोकसभा चुनाव में ही किस्मत आजमाएंगे।
- यहां बदलती रही स्थिति
प्रदेश के मुरैना, भिण्ड, ग्वालियर, सागर, दमोह, सतना, सीधी, राजगढ़, मंदसौर, खरगौन, बैतूल लोकसभा क्षेत्रों में स्थिति बदलती रही है। यहां से कभी करोड़पति उम्मीदवार चुनाव जीता तो कभी लखपति। हालांकि, मतदाताओं ने सांसद चयन में उम्मीदवार के व्यवहार और काम-काज को महत्त्व दिया और उसे चुनकर संसद तक भेजा। यह बात अलग है कि सांसद कभी करोड़पति रहा तो कभी लखपति। मसलन, 2014 में मंदसौर से सुधीर गुप्ता जीते, ये करोड़पति थे, जबकि इसके पहले वर्ष 2009 के चुनाव में मतदाताओं ने मीनाक्षी नटराजन को सांसद चुना। ये लखपति ही थीं। कुछ इसी प्रकार की स्थिति अन्य क्षेत्रों की भी रही।

- प्रदेश के टॉप टेन सांसद
सांसद सम्पत्ति
कमलनाथ, कांग्रेस, छिंदवाड़ा - 206
ज्योतिरादित्य सिंधिया, कांग्रेस, गुना - 33
सुषमा स्वराज, भाजपा, विदिशा - 17
उदय प्रताप सिंह, भाजपा, होशंगाबाद - 13
अनूप मिश्रा, भाजपा, मुरैना - 11
सुधीर गुप्ता, भाजपा, मंदसौर - 05
नंदकुमार सिंह चौहान, भाजपा, खण्डवा - 04
सुभाष पटेल, भाजपा, खरगौन - 03
गणेश सिंह, भाजपा, सतना - 03
रीति पाठक, भाजपा, सीधी - 03
(संपत्ति करोड़ रुपए में।)

- आठ सांसदों पर क्रिमिनल केस
प्रदेश के आठ सांसदों पर आपराधिक प्रकरण चल रहे हैं। इन्होंने 2014 के लोकसभा चुनाव के नामांकन भरते समय हलफनामे में इसकी जानकारी दी है। इनमें से तीन सांसदों पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं। एडीआर इलेक्शन वॉच की ओर से सांसदों के हलफनामे के किए गए विश्लेषण के मुताबिक जिन पर आपराधिक प्रकरण कायम थे, उनमें सात भाजपा और एक कांग्रेस से हैं। केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह और पूर्व केंद्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया पर भी केस हैं।
- इन पर हैं केस
सतना के भाजपा सांसद गणेश सिंह पर 1998 के बहुचर्चित शिक्षाकर्मी भर्ती घोटाले के दो मामले दर्ज हंै। उस समय वे जिला पंचायत के अध्यक्ष थे। उनपर लोकायुक्त ने धोखाधड़ी, कूटरचित दस्तावेज तैयार करने से कई धाराओं में अपराध कायम किया था। मंडला सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते पर बलवा, गाली-गलौज और धमकी देने का प्रकरण चल रहा है। इनके सहित लक्ष्मीनारायण यादव सागर, ज्योति धुर्वे बैतूल, उदयप्रताप सिंह होशंगाबाद ने 2014 के चुनाव हलफनामे में आपराधिक मामलों की घोषणा की थी।

 

anil chaudhary
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned