script30 kg weight on innocent shoulders | बस्ते का बोझ बच्चों को पड़ रहा भारी | Patrika News

बस्ते का बोझ बच्चों को पड़ रहा भारी

- बाल आयोग के निरीक्षण में खुलासा-बस्ते के बोझ तले बच्चे
- मासूम कंधों पर ३० किलो वजन
- जिला शिक्षा अधिकारियों को बैग पॉलिसी-2020 लागू कराने के निर्देश

भोपाल

Published: July 02, 2022 10:16:11 am

भोपाल। स्कूली बस्ते के बोझ से नौनिहालों का बचपन दबता जा रहा है। मासूम कंधों पर 30 किलो वजन से बच्चे और अभिभावक दोनों परेशान हैं। इसका खुलासा हुआ है बाल आयोग के प्रदेश के अलग-अलग स्कूलों में किए गए निरीक्षण से। इस दौरान बच्चों के बस्तों का वजन 20-30 किलो तक पाया गया, जबकि सराकर ने कक्षा और वजन के हिसाब से बैग को लेकर नियम तय कर दिए हैं।

heavy_bags_of_school.jpg

लेकिन स्कूलों में इसका पालन नहीं हो पा रहा है। बाल आयोग के सदस्य बृजेश सिंह चौहान का कहना है कि प्रदेशभर के जिला शिक्षा अधिकारियों को पत्र लिखा है। इसमें कहा गया है कि केंद्रीय शिक्षा विभाग द्वारा स्कूल बैग के वजन को लेकर जारी दिसंबर-2020 की पॉलिसी का जिले के सभी स्कूलों में पालन करवाएं।

बच्चों को गर्दन और पीठ दर्द की शिकायत
ज्यादा भारी बैग उठाने से बच्चे पीठ और गर्दन दर्द से पीडि़त हो रहे हैं। 5 से 15 साल तक के कई बच्चों में ऐसी शिकायत पाई गई है। चिंतित अभिभावकों का कहना है कि एक तो बच्चा पहले से ही कमजोर है, ऊपर से भारी बैग और मुश्किल खड़ी कर रहा है।

स्कूल बैग पॉलिसी

कक्षा - औसत वजन - यह होना चाहिए

प्राइमरी - 10-16 - बैग की जरूरत नहीं

कक्षा 1 - 16-22 - 1.6-2.2

कक्षा 2 - 16-22 - 1.6-2.2
कक्षा 3 - -17-25 - 1.7-2.5

कक्षा 4 - 17-25 - 1.7-2.5

कक्षा 5 - 17-25 - 1.7-2.5

कक्षा 6 - 20-30 - 2-3
कक्षा 7 - 20-30 - 2-3

कक्षा 8 - 25-40 - 2.5.4
कक्षा 9 - 25-45 - 2.5- 4.5
कक्षा10 - 25-45 - 2.5-4.5
कक्षा11 - 25-45 - 2.5-4.5
कक्षा12 - 35-50 - 3.5-5

मेरा बच्चा पहली कक्षा में पढ़ता है। अभी उसे हर रोज 6-7 किताबें और इतनी ही कॉपियां रोज स्कूल ले जानी होती है। टिफिन और लंच बॉक्स को मिलाकर बैग का वजन 5 किलो से भी ज्यादा हो जाता है। इसलिए बच्चा स्कूल से आने के बाद बिल्कुल थक जाता है।
- अंकिता शर्मा, अभिभावक

हड्डी रोग का खतरा
कम उम्र में बच्चों पर बस्ते का बोझ लादने के गलत प्रभाव देखने को मिलते हैं। भारी बैग उठाने वाले बच्चे भविष्य में पोस्तूरल स्कोलियोसिस से ग्रस्त हो जाते हैं। यह एक ऐसी स्थिति है, जिसमें रीढ़ की हड्डी एक तरफ घूम जाती है।
- डॉ. कमलेश देवपुजारी, अस्थि रोग विशेषज्ञ, जय प्रकाश अस्पताल भोपाल

दिशा-निर्देश जारी करते हैं
स्कूल शिक्षा विभाग भी समय-समय पर स्कूलों को नौनिहालों के कंधे पर बढ़ते बस्ते के बोझ को लेकर दिशा-निर्देश जारी करता है। इसका पालन सुनिश्चित करने के लिए हर साल सत्र के शुरुआत में इस संबंध में प्रयास किया जाता है।
- डॉ. रमाशंकर तिवारी, नियंत्रक, आरटीई

बच्चों के मानसिक और स्वास्थ्य से खिलवाड़ कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। निरीक्षण के दौरान खामियां पाई गई तो स्कूल के खिलाफ कार्रवाई की अनुशंसा की जाएगी।
- बृजेश सिंह चौहान, सदस्य, मध्यप्रदेश बाल आयोग

यहां कर सकते हैं शिकायत
बच्चों के बस्तों को लेकर किसी तरह की परेशानी हो तो 0755- 2559900 पर फोन कर शिकायत कर सकते हैं। इसी तरह ई-मेल [email protected] और ऐप balbol-mpcpcr पर भी शिकायत कर सकते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon : राजस्थान में 3 अगस्त से बारिश का नया सिस्टम, पूरे प्रदेश में होगी झमाझमNSA डोभाल की मौजूदगी में बोले मुस्लिम धर्मगुरु- 'सर तन से जुदा' हमारा नारा नहीं, PFI पर प्रतिबंध की बनी सहमतिकीमत 4.63 लाख रुपये से शुरू और देती हैं 26Km का माइलेज! बड़ी फैमिली के परफेक्ट हैं ये सस्ती 7-सीटर MPV कारेंराजस्थान में भारी बारिश का दौर जारी, स्कूलों की तीन दिन की छुट्टी, आज इन जिलों में झमाझम की चेतावनीWeather Update: राजस्थान में झमाझम बारिश को लेकर अब आई ये खबरराजस्थान में आज यहां होगी बारिश, एक सप्ताह तक के लिए बदलेगा मौसमएमपी में 220 करोड़ से बनेगा 62 किमी लंबा बायपास, कम हो जाएगी कई शहरों की दूरी, जारी हो गए टेंडरसरकारी नौकरी लगवा देंगे कहकर 10 युवाओं को लगाई 75 लाख रुपए की चपत, 2 गिरफ्तार

बड़ी खबरें

गुजरात विधानसभा चुनाव से पहले अरविंद केजरीवाल ने आदिवासियों से किए 6 वादे, कहा- ट्राईबल एडवाइजरी कमिटी का चेयरमैन इसी समाज से होगाबांग्लादेश में श्रीलंका जैसे हालात, 50% बढ़ी पेट्रोल-डीजल की कीमत, हाथों में लालटेन ले सड़कों पर उतरे लोगअंतरिक्ष में भारत की नई उड़ान, इसरो ने लॉन्च किया पहला SSLV-D1West Bengal SSC Scam: पहली रात जेल में जमीन पर सोने को मजबूर हुए पार्थ चटर्जी, अगले दिन मिल गया बेड, कहा- 'यहां रहना होगा मुश्किल'Maharashtra: महाराष्ट्र में कैबिनेट विस्तार में देरी को लेकर अजित पवार ने सरकार पर साधा निशाना, जानें क्या कहाBihar News: महंगाई-बेरोजगारी को लेकर पटना में RJD का रोड शो, तेज प्रताप ने चलाई बस, बगल में बैठे तेजस्वी यादव15 अगस्त से पहले दिल्ली में ISIS मॉड्यूल का खुलासा, NIA ने एक आरोपी को किया गिरफ्तारMaharashtra Politics: मुंबई को आर्थिक राजधानी किसनें बनाया.. ED की कस्टडी से संजय राउत ने लिखा सामना में लेख; पढ़ें डिटेल्स
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.