33 हजार विद्यार्थियों का ऑनलाइन नहीं हुआ सत्यापन

33 हजार विद्यार्थियों का ऑनलाइन नहीं हुआ सत्यापन

Amit Mishra | Updated: 14 Jun 2019, 11:13:55 AM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

यूजी रजिस्ट्रेशन, विद्यार्थियों को परेशानी हो रही

भोपाल। प्रदेशभर के 1250 सरकारी और प्राइवेट कॉलेजों में प्रवेश के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन में विद्यार्थियों को परेशानी हो रही है। गुरुवार को भोपाल सहित अन्य जिलों में 33 हजार 511 विद्यार्थियों का ऑनलाइन वेरिफिकेशन नहीं हो सका। इन विद्यार्थियों को सरकारी कॉलेजों के प्रोफेसरों के सील साइन लगवाकर मार्कशीट और बाकी दस्तावेजों का सत्यापन करवाना पड़ा। हालांकि शासन ने चौथे दिन से कॉलेजों में हेल्प डेस्क शुरू की है, जहां दस्तावेजों का सत्यापन होगा। गुरुवार को ऑनलाइन वेरिफिकेशन में 50 हजार 825 विद्यार्थियों को सफलता मिली।

 

 

विद्यार्थियों ने रजिस्ट्रेशन करवाया
इस प्रकार प्रदेश में अब तक 5.5 लाख सीटों के मुकाबले 1 लाख 31 हजार 432 विद्यार्थियों ने रजिस्ट्रेशन करवाया है। इनमें 31 हजार 325 जनरल, 57 हजार 670 ओबीसी, 22 हजार 98 एससी और 20 हजार 333 विद्यार्थी एसटी श्रेणी के शामिल हैं। उच्च शिक्षा विभाग की ओर से ऑनलाइन प्रवेश लेने रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया 10 से 16 जून तक जारी रहेगी। 27 जून को सभी विद्यार्थियों को कॉलेजों का आवंटन कर दिया जाएगा। काउंसिलिंग के बाद बाकी बची सीटों को भरने के लिए प्रवेश का अगला चरण शुरू किया जाएगा।

रिव्यू कमेटी ने शुरू किया ग्रंथपाल
उधर पीएससी से चयनित 218 ग्रंथपाल और 214 क्रीड़ा अधिकारियों को नौकरी देने के लिए दस्तावेजों का सत्यापन जारी है। दूसरे राउंड का रिव्यू करने के लिए सरकार ने सात सदस्यीय कमेटी का गठन किया है। ग्रंथपालों एवं क्रीड़ा अधिकारियों के प्रकरणों का रिव्यू करने के लिए उचच शिक्षा विभाग की ओर से ओएसडी आलोक वर्मा नियुक्त किए गए हैं। जिन अभ्यार्थियों के प्रकरणों में कुछ कमियां हैं, उन्हें अनुपूरक दस्तावेज जमा कराने का एक अवसर और दिया जा रहा है।

 

पिछले 6 माह से नौकरी का इंतजार कर रहे ग्रंथपाल और क्रीड़ा अधिकारियों को शासन की ओर से अगले 10 दिन बाद नियुक्तियां देने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। उल्लेखनीय है कि प्रदेश में ग्रंथपालों की सबसे ज्यादा कमी है। प्रदेश के 460 कॉलेजों में से केवल 58 में ही नियमित ग्रंथपाल कार्यरत हैं।

शासन के निर्देश पर ग्रंथपाल और क्रीड़ा अधिकारियों के दस्तावेज सत्यापन का काम तेजी से पूरा किया जा रहा है। नियुक्तियों की प्रक्रिया जुलाई से पहले ही शुरू हो जाएगी।


डॉ. आलोक वर्मा, ओएसडी,उच्च शिक्षा विभाग


प्रवेश प्रारंभ शुरू हो गया
शासकीय रामानंद संस्कृत महाविद्यालय, लालघाटी में शास्त्री (स्नातक) और आचार्य (स्नातकोत्तर) में प्रवेश प्रारंभ हो गया है। बारहवीं कक्षा उत्तीर्ण व उत्तर मध्यमा द्वितीय वर्ष उत्तीर्ण छात्र स्नातक (शास्त्री) में व संस्कृत विषय के साथ बीए व शास्त्री (स्नातक) उत्तीर्ण छात्र आचार्य (स्नातकोत्तर) के लिए पात्र हैं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned