भोपाल में अब तक 34 पुलिसकर्मी कोरोना से संक्रमित, ADG का दावा- जमातियों से पहुंचा पुलिस तक COVID-19

ADG उपेन्द्र जैन के अनुसार, इतनी बड़ी तादात में पुलिसकर्मियों को कोरोना होने का असली कारण दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज से संक्रमित होकर यहां आए तबलीगी जमात के सदस्य हैं

By: Devendra Kashyap

Published: 23 Apr 2020, 06:58 PM IST

भोपाल. प्रदेश की राजधानी भोपाल में गुरुवार तक 34 पुलिसकर्मियों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हो चुकी है। भोपाल के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक ( ADG ) उपेन्द्र जैन के अनुसार, इतनी बड़ी तादात में पुलिसकर्मियों को कोरोना होने का असली कारण दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज से संक्रमित होकर यहां आए तबलीगी जमात के सदस्य हैं। उन्होंने बताया कि जमात के संक्रमित सदस्य यहां आकर मस्जिदों में छुप गये और जब पुलिस उन्हें पकड़ने गई तो वे भी उनके संपर्क में आने से कोरोना वायरस संक्रमित हो गए।

एडीजी उपेन्द्र जैन के अनुसार, गुरुवार को सुबह साइबर सेल का एक पुलिकर्मी कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया। इसी के साथ भोपाल में पुलिस अधिकारियों सहित कुल 34 पुलिसकर्मी कोरोना वायरस की महामारी की चपेट में आ चुके हैं। उन्होंने कहा कि इन पुलिसकर्मियों के अलावा कोरोना वायरस की महामारी में ड्यूटी कर रहे पुलिसकर्मियों के करीब 30 परिजन भी इससे ग्रस्त हैं।

एडीजी के अनुसार, इस महामारी को पुलिसकर्मियों के परिजनों में फैलने से रोकने के लिए शहर के करीब 2100 पुलिसकर्मी ड्यूटी के बाद अपने घरों में नहीं जा रहे हैं। इन पुलिसकर्मियों के होटलों में रहने की व्यवस्था की गई है और उन्हें सरकार द्वारा पीपीई किट्स, सेनेटाइजर एवं भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि शहर में हमारे पुलिसकर्मियों में कोरोना वायरस का संक्रमण पिछले महीने दिल्ली से लौटे तबलीगी जमात के सदस्यों से तब हुआ जब पुलिसकर्मी उनकी तलाश में शहर के विभिन्न इलाकों में गये थे। जमात के सदस्यों के संपर्क में आने से ही इतनी बड़ी तादात में पुलिसकर्मी कोरोना से संक्रमित हुए हैं।

एडीजी ने बताया कि जमात सदस्यों के आने से पहले पुलिस बल में इस महामारी का कोई मामला नहीं था। उन्होंने कहा कि पिछले महीने के आखिरी में पुलिस जमात के सदस्यों की तलाश में जहांगीराबाद और ऐशबाग पुलिस थाने इलाके स्थित मस्जिदों में गई। एडीजी के अनुसार, दिल्ली में आयोजित तबलीगी जमात से लौटे करीब 30 से 35 लोग यहां कोरोना से संक्रमित पाए गये। इनमें कुछ विदेशी भी शामिल हैं।

हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि जितने पुलिसकर्मी कोरोना वायरस के लिए संक्रमित पाए गए हैं, वे सभी जमात सदस्यों के संपर्क में आने से संक्रमित नहीं हुए हैं। एक पुलिसकर्मी मेडिकल टीम के साथ कोरोना वायरस को रोकने के लिए घर-घर जाने से इस बीमारी के चपेट में आया है जबकि कुछ पुलिसकर्मी कंटेमनेंट क्षेत्र में तैनाती के दौरान कोरोना वायरस संक्रमित हुए हैं या सामान्य ड्यूटी के दौरान। लेकिन पुलिस बल में सबसे पहले कोरोना का संक्रमण जमात सदस्यों से ही आया है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से संक्रमित पुलिसकर्मियों या उनके परिजनों में से किसी ने भी विदेश यात्रा नहीं की है किसी ट्रैवल हिस्ट्री नहीं रहा है।

coronavirus
Show More
Devendra Kashyap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned