लॉकडाउन का उल्लंघन करने वाले जमातियों को भेजा जेल, जानिए किन धाराओं में दर्ज हुए हैं केस

जमातियों को कोरोना वायरस का टेस्ट कराने के बाद क्वॉरंटीन में रखा गया था

By: govind agnihotri

Published: 16 May 2020, 01:30 AM IST

भोपाल. राजधानी के तीन थानों क्षेत्रों में लॉकडाउन और कोविड-19 के दिशा-निर्देशों के उल्लंघन के मामले में गिरफ्तार किए गए 51 जमातियों को शुक्रवार को अदालत से जेल भेज दिया गया। सभी जमातियों को तीन थाना क्षेत्रों की पुलिस ने जिला अदालत में पेश किया था। न्यायिक मजिस्ट्रेट सुरेश शर्मा की अदालत में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया गया। जज ने जमातियों से अलग-अलग नाम पूछे बाद में उनके हस्ताक्षर ऑर्डर शीट पर कराए गए।

श्यामला हिल्स थाने के 14, ऐशबाग थाने के 23 और पिपलानी थाने के 14 जमातियों को जेल भेजने के आदेश दिए गए। इन जमातियों को टेस्ट कराने के बाद क्वॉरंटीन में रखा गया था। कोर्ट में पुलिस ने बताया कि इस मामले में गिरफ्तार किए गए विदेशी जमतियों के खिलाफ भारतीय दंड विधान की धारा 188, 269, 270 और 51 राष्ट्रीय आपदा अधिनियम का मामला दर्ज किया गया है। विदेशी जमातियों पर इन धाराओं के अलावा विदेशी विषयक अधिनियम 1946 की धारा 13 और 14 भी लगाई गई है और उनके पासपोर्ट जब्त किए गए हैं।

 

51 Jamaatis sent to jail in Bhopal

ऐशबाग थाने में दर्ज मामले में 14 में 13 आरोपी इंडोनेशिया के हैं और 9 आरोपी म्यांमार के है। पिपलानी के 14 आरोपी सोकुलुप शहर किर्गिस्तान के है। श्यामला हिल्स थाने के 14 आरोपियों में जमाती कनाडा, लंदन, इंग्लैंड, पिसलवैनिया, पार्को के हैं। श्यामला हिल्स और ऐशबाग थाने मेंं लॉकडाउन के उल्लंघन के मामले में पकड़े गए इन जमातियों को टेस्ट कराने के बाद हमीदिया रोड के होटल गोल्डन पैलेस और ब्लू स्टार होटल में क्वॉरंटीन में रखा गया था। शुक्रवार को दोपहर में सभी आरोपियों को होटल से पुलिस बस में बैठाकर जिला अदालत में पेश किया गया था। जमातियों पर इन धाराओं में केस दर्ज भोपाल पुलिस ने जमातियों पर भारतीय दंड विधान की धारा 188, 269, 270 और 51 राष्ट्रीय आपदा अधिनियम लगाया है। विदेशी जमातियों पर उपरोक्त धाराओं के अलावा विदेशी विषयक अधिनियम 1946 की धारा 13 और 14 भी लगाई गई है।

वन्य प्राणियों के अवैध शिकार मामले के आरोपी शोएब कुरेशी की जमानत खारिज
इधर, वन्य प्राणी नीलगाय के शिकार के मामले मे पूर्व पार्षद व बैरसिया के शिकारी शोएब कुरैशी की जमानत अर्जी अदालत ने खारिज कर दी है। अपर सत्र न्यायाधीश तृप्ति शर्मा ने यह आदेश दिए हैं। जमानत अर्जी पर आपत्ति पेश करने वाली सरकारी वकील सुधा विजय सिंह भदोरिया ने बताया कि बेरसिया के जंगलों मेंशोएब कुरैशी और साथियों ने 16 अप्रेल की रात नीलगाय का शिकार किया था।

govind agnihotri Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned