खुद को इस तरह पवित्र कर अनिश्चितकालीन अनशन पर बेठेंगे AAP नेता

आम आदमी पार्टी किसानो के हितों को लेकर प्रदेशव्यापी अनिश्चितकालीन अनशन करने जा रही है, जिसकी शुरुआत वो होशंगाबाद में नर्मदा स्नान के बाद करेगी

By: Faiz

Published: 24 May 2018, 02:45 PM IST

भोपालः मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव की तारीक़े जैसे जैसे नज़दीक आती जा रही हैं, वैसे वैसे सभी पार्टियां अपना बेस्ट परफार्मेंस प्रदेश की जनता के सामने देना चाह रही हैं। ताकि, लोगों के बीच अपनी पैठ बनाकर प्रदेश की राजनीति में हिस्सेदारी ले सकें। इसी राजनीतिक सरगर्मी को बढ़ाने अब आम आदमी पार्टी (आप) भी प्रदेश में अपनी सक्रियता को मज़बूत करने की होड़ में शामिल हो गई है।

नर्मदा स्नान से होगी अनशन की शुरुआत

बता दें कि, आम आदमी पार्टी किसानो के हितों को लेकर प्रदेशव्यापी अनिश्चितकालीन अनशन करने जा रही है, जिसकी शुरुआत वो होशंगाबाद में नर्मदा स्नान के बाद करेगी। 26 मई से शुरू होने जा रहा अनशन किसानों के मुद्दों को लेकर होगा। इस अनशन में किसानों की कर्ज माफी, सस्ती बिजली और रोजगार उपलब्ध कराने की मांग की जाएगी। आप के प्रदेश संयोजक आलोक अग्रवाल ने इसे लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र भी लिख दिया है।

भाजपा को उखाड़ फैकने की बनाई रणनीति

विधानसभा क्षेत्र के सभी मंडल अध्यक्षों ने अतिथियों के साथ मिलकर आगामी चुनाव में भाजपा को उखाड़ फेंकने के लिए रणनीति बनाई गई है। अग्रवाल ने पत्रकारों से चर्चा के दौरान बताया कि, पहले दिन वो खुद अनशन पर बैठेंगे। 26 मई को अनशनकारी होशंगाबाद में नर्मदा स्नान करके अपना काफिला लेकर भोपाल आएंगे। रास्ते में अनशनकारियों के साथ पार्टी कार्यकर्ता शामिल होंगे और भोपाल में बोर्ड ऑफिस चौराहा पर डॉ. भीमराव आंबेडकर और गांधी भवन में महात्मा गांधी की प्रतिमा के दर्शन करते हुए लिली टॉकीज पहुचेंगे। यहां से पैदल मार्च करते हुए अनशनस्थल यादगार-ए-शाहजहांनी पार्क रवाना होंगे।

केजरीवाल सरकार की तरह हो योजनाएं

प्रदेश संयोजक अग्रवाल ने वार्ता के दौरान ये भी बताया कि इस दौरान प्रदेश में किसानों की पूरी कर्ज माफी, स्वामीनाथन समिति की रिपोर्ट के मुताबिक फसल की लागत का डेढ़ गुना दाम दिए जाने, दिल्ली की केजरीवाल सरकार की तरह 50 हजार रुपए प्रति हेक्टेयर मुआवजा दिए जाने, बिजली की दरें आधी करने और सभी बकाया बिल माफ करने, अनिवार्य रोज़गार व रोजगार नहीं मिलने की स्थिति में बेरोजगारी भत्ता जैसी मांगों को पूरा कराने को लेकर अनशन द्वारा अपनी बातें रखी जाएंगी। उन्होंने कहा कि और ये अनशन तब तक जारी रहेगी जब तक किसानों से जुड़ी इन समस्याओं का निराकरण ना हो जाए।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned