scriptसाइकिल से चलते हैं एमपी के ये पुलिस अफसर, रोब ऐसा कि खाली हो जाती सड़कें | ADGP DC Sagar Shahdol Zone ADGP DC Sagar rides a bicycle | Patrika News
भोपाल

साइकिल से चलते हैं एमपी के ये पुलिस अफसर, रोब ऐसा कि खाली हो जाती सड़कें

ADGP DC Sagar Shahdol Zone ADGP DC Sagar rides a bicycle रौब ऐसा कि अक्सर उनके आसपास से वाहन चालक ​हट जाते हैं, सड़कें खाली हो जाती हैं। हालांकि उनकी मंशा लोगों पर रुतबा जताने की जरा भी नहीं, साइकिल चलाने का इस पुलिस अफसर का उद्देश्य ही अलग है।

भोपालJun 06, 2024 / 07:45 pm

deepak deewan

ADGP DC Sagar Shahdol Zone ADGP DC Sagar rides a bicycle

ADGP DC Sagar Shahdol Zone ADGP DC Sagar rides a bicycle

ADGP DC Sagar Shahdol Zone ADGP DC Sagar rides a bicycle एमपी पुलिस के वे बड़े अधिकारी हैं- अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक यानि ADGP के पद पर हैं। पुलिस की नौकरी और इतने बड़े अफसर होने के बाद भी साइकिल से चलते हैं। साइकिल से चलने के बाद भी रौब ऐसा कि अक्सर उनके आसपास से वाहन चालक ​हट जाते हैं, सड़कें खाली हो जाती हैं। हालांकि उनकी मंशा लोगों पर रुतबा जताने की जरा भी नहीं, साइकिल चलाने का इस पुलिस अफसर का उद्देश्य ही अलग है।
गुरुवार को शहडोल के लोग उस समय हैरत में पड़ गए जब शहडोल जोन के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक ADGP डीसी सागर साइकिल चलाते नजर आए। ADGP डीसी सागर साइकिल चलाते हुए ही अपने कार्यालय पहुंचे। पुलिस अफसर को साइकिल पर देख जहां आमजन आश्चर्य जता रहे थे वहीं गुंडे-बदमाशों की घिग्घी सी बंध गई थी।
यह भी पढ़ें : युवा बेटे को कंधा देते हुए बिलख उठे कलेक्टर, जबलपुर में भाई ने दी मुखाग्नि

एडीजीपी ADGP डीसी सागर दरअसल पर्यावरण संरक्षण का संदेश देने साइकिल चला रहे थे। वे राष्‍ट्र और पर्यावरण के हित में महीने में एक बार साइकिल चलाकर या पैदल ही कार्यालय जाते हैं। उनका मानना है कि पेट्रोल, डीजल की कार या बाइक की बजाए महीने में केवल एक दिन ही साइकिल से चलें तो पर्यावरण को प्रदूषण से काफी हद तक बचाया जा सकता है।
एडीजीपी ADGP डीसी सागर बताते हैं कि अंतरराष्ट्रीय पर्यावरण दिवस पर आयोजित एक कार्यक्रम में शहडोल कमिश्नर बीएस जामोद से उन्हें साइकिल चलाने की प्रेरणा मिली। इससे पहले भी वे अपनी ड्यूटी के दौरान साइकिल से कार्यालय जाते रहे हैं। पुलिस महानिरीक्षक के पद पर रहते हुए बालाघाट, ग्वालियर और भोपाल के पुलिस मुख्यालय में भी नियमित रूप से साइकिल से जाते रहे।
डीसी सागर का कहना है कि साइकिल चलाने से न केवल पेट्रोल-डीजल बचता है बल्कि शारीरिक रूप से भी स्वस्थ होते हैं। नियमित रूप से साइकिल चलाने से मांसपेशियां मजबूत होती हैं। साइकिल या पैदल चलकर हम वाहनों के ध्वनि प्रदूषण को भी नियंत्रित कर सकते हैं।

Hindi News/ Bhopal / साइकिल से चलते हैं एमपी के ये पुलिस अफसर, रोब ऐसा कि खाली हो जाती सड़कें

ट्रेंडिंग वीडियो