scriptAfter the return of agricultural law, now mandis on mobile | कृषि कानून वापसी के बाद अब मोबाइल पर मंडियां | Patrika News

कृषि कानून वापसी के बाद अब मोबाइल पर मंडियां

- कृषि विभाग ने तैयार किया सौदापत्रक मोबाइल एप

- एप से प्रदेश के पंजीकृत 35 हजार अनाज कारोबारी हमेशा जुड़े रहेंगे

भोपाल

Published: December 03, 2021 11:04:25 pm

भोपाल। कृषि कानून वापसी के बाद अब मोबाइल पर पूरी मंडियां होंगी। इसके लिए कृषि विभाग ने सौदा पत्रक मोबाइल एप शुरू किया है। इस एप से प्रदेश के पंजीकृत 35 हजार अनाज कारोबारी हमेशा जुड़े रहेंगे। इससे किसानों को अब अनाज बेचने के लिए उसे मंडी तक लेकर आने की जरूरत नहीं होगी। वे मोबाइल पर बाजारभाव, मोबाइल के जरिए बोली और बिक्री अनुबंध भी इसी से कर सकेंगे।
heart_problems_2.jpg
सौदा पत्रक तैयार होने के बाद व्यापारी किसानों के घर से अनाज उठा ले जाएंगे।
इस व्यवस्था से किसानों को अनाज लेकर मंडियों तक आने-जाने में खर्च होने वाली राशि तो बचेगी ही, साथ ही उन्हें वहां अपनी फसल बेचने के लिए कई दिनों तक मंडियों में डेरा नहीं डालना पड़ेगा। इससे न तो कोरोना संक्रमण का खतरा रहेगा और न ही मंडियों में भीड़ लगेगी। वर्तमान में यह व्यवस्था लागू है, लेकिन व्यापारी इस पर अब बहुत ज्यादा रूचि नहीं ले रहे हैं। कृषि विभाग द्वारा अब इसके प्रचार प्रसार के साथ किसानों और व्यापारियों को इसकी जानकारी दी जाएगी।


लॉकडाउन के दौरान हुई थी इसकी शुरूआत
सौदा पत्रक की शुरूआत 2019 में कोरोन काल में लाक डाउन के दौरान सरकार ने गेहूं की फसल खरीदने के लिए की थी। यह व्यवस्था सिर्फ ग्वालियर-चंबल संभाग में लागू की गई थी, जिसमें करीब पांच लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीद हुई थी। इसके बाद 2020 कृषि कानून लागू होने के बाद इस व्यवस्था पर विराम जैसे लग गया। इसके बाद कृषि कानून पर सुप्रीम कोर्ट के स्टे होने के बाद फिर से इस व्यवस्था पर जोर दिया गया, जिसके आधार पर पूरे प्रदेश में करीब 30 लाख मीट्रिक टन अनाज की खरीदी हुई। अब कानून वापस के बाद 100 फीसदी खरीदी सौदा पत्रक के जरिए करने की तैयारी की जा रही है, इसके लिए विभाग ने मोबाइल एप तैयार कर उसका प्रचार प्रसार शुरू कर दिया है।

मंडियों में आता है 180 लाख मीट्रिक टन अनाज
पूरे प्रदेश में 259 मंडिया हैं। इसमें न मंडियों के जरिए सालभर में 180 लाख मीट्रिक टन अनाज की खरीदी होती है। इससे सरकार को करीब साढ़े पांच सौ करोड़ का राजस्व मंडी टैक्स के रूप में मिलता है। इसमें से खरीदी-बिक्री पर 1 रूपए 70 पैसे मंडी टैक्स वसूला जाता है। इस टैक्स में से 20 पैसा निराश्रित कोष में जमा किया जाता है।

- अनाज खरीदी पर पूरा जोर सौदा पत्रक से किया जा रहा है। इसके लिए मोबाइल एप भी तैयार किया गया है। इससे किसानों और व्यापारी, दोनों आनाज की खरीदी-बिक्री में सहूलियत होगी।
विकास नरवाल, एमडी कृषि विपणन मंडी बोर्ड

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Corona Cases In India: देश में 24 घंटे में कोरोना के 2.68 लाख से ज्यादा केस आए सामने, जानिए क्या है मौत का आंकड़ाJob Reservation: हरियाणा के युवाओं को निजी क्षेत्र की नौकरियों में 75 फीसदी आरक्षण आज से लागूUP Election: चार दिन में बदल गया यूपी का चुनावी समीकरण, वर्षों बाद 'मंडल' बनाम 'कमंडल'अलवर दुष्कर्म मामलाः प्रियंका गांधी ने की पीड़िता के पिता से बात, हर संभव मदद का भरोसाArmy Day 2022: क्‍यों मनाया जाता है सेना दिवस, जानिए महत्व और इतिहास से जुड़े रोचक तथ्यभीम आर्मी प्रमुख चन्द्र शेखर ने अखिलेश यादव पर बोला हमला, मुलाकात के बाद आजाद निराशयूपी विधानसभा चुनाव 2022 पहले चरण का नामांकन शुरू कैराना से खुला खाता, भाजपा के लिए सीटें बचाना है चुनौतीधोनी का पहला प्यार है Indian Army, 3 किस्से जो लगाते हैं इस बात पर मुहर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.