scriptAmarnath Yatra from June 30 | अमरनाथ यात्रा 30 जून से, चार दिन पहले हुई बर्फबारी से मौसम हुआ सुहाना | Patrika News

अमरनाथ यात्रा 30 जून से, चार दिन पहले हुई बर्फबारी से मौसम हुआ सुहाना

-अमरनाथ यात्रा शुरू होने से पहले शेषनाग के बेसकैंप हॉस्पिटल में सेवा देने पहुंचे भोपाल एम्स के डॉक्टर ने साझा की वहां की ताजा तस्वीरें व स्थितियां

- इस बार सुरक्षा के तगड़े बंदोबस्त

भोपाल

Published: June 28, 2022 07:28:29 am

भोपाल@प्रवीण सावरकर

चंद दिनों बाद यानि गुरुवार, 30 जून से अमरनाथ यात्रा 2022 शुरू हो रही है। जत्थों की रवानगी का सिलसिल मंगलवार से शुरू हागा। शिव भक्तों की यात्रा के पहले विभिन्न क्षेत्रों में सेवा देने सेवादार अमरनाथ पहुंचने लगे हैं। यात्रा के दौरान शेषनाग में यात्रियों की स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए बेसकैंप हॉस्पिटल बनाए गए हैं। वहां ड्यूटी देने के लिए पहुंचे हैं भोपाल एम्स के युवा पल्मोनरी चिकित्सक डॉ. अमित सिंह। उनकी टीम में भोपाल एम्स के ही दो और डॉक्टर हैं।
amarnath_yatra_2022.png
डॉ. अमित ने बताया कि वे 25 जून को श्रीनगर पहुंचे थे। 21-22 को यहां बर्फबारी हुई थी, अभी मौसम सुहाना है। धूप खिल रही है। इस बार यहां की व्यवस्थाएं भी काफी अच्छी हैं। आर्मी और बीएसएफ के जवान जगह-जगह तैनात हैं। चिकित्सा सुविधाएं बेहतर है। डीआरडीओ ने बालटाल और चंदनबाड़ी में दो बड़े हॉस्पिटल बनाए हैं। इसी प्रकार रास्ते में हर पॉइंट पर और जहां लोगों के ठहरने की व्यवस्था है, वहां बेसकैंप हॉस्पिटल बनाए गए हैं। इसके अलावा जगह-जगह चिकित्सा शिविर की व्यवस्था की जा रही है। हम सोमवार को ही शेषनाग पहुंचे हैं।
पैदल और घोड़ों की सहायता से पहुंचे शेषनाग
डॉ अमित ने बताया, मैं पहली बार अमरनाथ में सेवा देने आया हूं। मेरी दिली ख्वाहिश थी कि यहां सेवा दूं। हम लोग पहले श्रीनगर पहुंचे थे। इसके बाद पहलगाम, चंदनवाड़ी में विश्राम किया। हम सोमवार को ही पोस्टिंग वाली जगह पर पहुंचे हैं। हमने कुछ चढ़ाई पैदल तय की तो कुछ जगहों पर घोड़ों की मदद ली। रास्ते में इंतजाम काफी अच्छे हैं। अमरनाथ की पवित्र गुफा 13 हजार 500 फीट की ऊंचाई पर है, इसी प्रकार शेषनाग 12 हजार 200 फीट की ऊंचाई पर है। शेषनाग तक का रास्ता ही कठिन है, इसके बाद ज्यादा दिक्कत नहीं है। शेषनाग तक के सफर में भी कोई परेशानी न हो, इसकी व्यवस्था है।

व्यवस्थाएं बेहतर
इस बार यहां की व्यवस्थाएं भी काफी अच्छी है। आर्मी और बीएसएफ के जवान तैनात हैं। चिकित्सा सुविधाएं बेहतर हैं। डीआरडीओ ने बालटाल और चंदनबाड़ीमें दो बड़े हॉस्पिटल बनाए हैं। इसी प्रकार रास्ते में हर पॉइंट पर और जहां लोगों के ठहरने की व्यवस्था है, वहां बेसकैंप हॉस्पिटल बना गए हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Jammu Kashmir Election: चुनाव आयोग का बड़ा ऐलान, जम्मू कश्मीर में रह रहे बाहरी लोग भी डाल सकेंगे वोटकर्नाटक के बाद येडियूरप्पा के सहारे अब 'मिशन दक्षिण' में जुटी भाजपाJabalpur करोड़पति आरटीओ, आय से 650 प्रतिशत अधिक प्रापर्टी मिलीPro Boxing:  विजेंदर के करारे मुक्कों के आगे पस्त अफ्रीकन लॉयन सुले, 13वीं जीत हासिल कीNSA अजीत डोभाल की सुरक्षा में चूक को लेकर केंद्र का बड़ा एक्शन, हटाए गए 3 कमांडोनहीं थम रहा चेतेश्वर पुजारा का बल्ला, लगातार दो शतक के बाद फिर खेली ताबड़तोड़ पारी'रूसी तेल खरीदकर हमारा खून खरीद रहा है भारत', यूक्रेन के विदेश मंत्री Dmytro KulebaAsia Cup 2022: मोहम्मद कैफ ने बताया, क्यों नहीं चुने गए एशिया कप के लिए संजू सैमसन
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.