scriptamazing shivalaya in ashapuri raisen mahashivratri 2022 | अनूठे महादेव: एक बार में हो जाता है 1008 शिवलिंग का अभिषेक | Patrika News

अनूठे महादेव: एक बार में हो जाता है 1008 शिवलिंग का अभिषेक

patrika.com पर प्रस्तुत है अनूठे महादेव सीरीज, इस कड़ी में जानिए आशापुरी के शिवलिंग के बारे में...।

भोपाल

Updated: February 18, 2022 12:13:04 pm

भोपाल। एक शिवलिंग ऐसा है, जिसका अभिषेक करने से 1008 शिवलिंग का एक साथ अभिषेक हो जाता है। जी हां एक ही शिवलिंग में 1008 छोटे-छोटे शिवलिंग तराशे गए हैं। यह अनूठा शिवलिंग भोपाल के पास आशापुरी (ashapuri ) में है।

03_1.png
mahashivratri 2022

महाशिवरात्रि के मौके पर प्रस्तुत है अनूठे महादेव सीरीज। patrika.com आपको बता रहा है आशापुरी का ऐसा शिवलिंग जिसके भीतर विद्यमान हैं 1008 शिवलिंग...।

रायसेन जिले के भोजपुर मंदिर के पास है आशापुरी गांव। इस गांव में खुदाई के दौरान ऐसा अनूठा शिवलिंग मिला था, जिसने सभी को हैरत में डाल दिया था। इस शिवलिंग में लोगों की आस्था बढ़ती गई और अब यह स्थान पवित्र धाम बन गया है। श्रद्धालुओं का मानना है कि एक शिवलिंग पर 1008 छोटे-छोटे शिवलिंग होने का फल जरूर मिलता है। आसपास के लोग इस भिलोटा देव भी कहते हैं। शिवलिंग के सामने ही नंदी व मां पार्वती की प्रतिमा भी स्थापित है।

महाशिवरात्रि पर होता है भक्तों का जमावड़ा

इस शिवालय के संजय महाराज नामक पुजारी कहते हैं कि महाशिवरात्रि पर यहां भक्तों का मेला लग जाता है। बड़ी संख्या में लोग इस अनूठे शिवलिंग के दर्शन करने आते हैं। यहां भंडारे और भजनकीर्तन के कार्यक्रम होते हैं।

ashapuri-1.jpg

कैसे पहुंचे

राजधानी के पास रायसेन जिले में स्थित है भोजेश्वर मंदिर, जिसे हम भोजपुर मंदिर के नाम से जानते हैं। यहां से 8 किमी दूर स्थित औबेदुल्लागंज जाने वाले रास्ते पर यह शिवालय है। दूसरी तरफ औबेदुल्लागंज की तरफ से भी यहां पहुंच सकते हैं, वहां से 10 किमी दूर है यह स्थान।दोनों मार्गों से बस अथवा निजी वाहन के लिए पक्का रास्ता बना हुआ है।

ashapuri-2.jpg

भूतेश्वर महादेव भी है अनोखे

आशापुरी गांव में ही भूतेश्वर महादेव भी हैं जो चारों तरफ से खंडहर के बीच विराजमान हैं। परमारकालिन और बेशकीमती धरोहर के बीच इस स्थान पर जाने की मनाही है। पुरातत्व विभाग के संरक्षण में यह मंदिर है, जो खंडहर की शक्ल में है। वो इसे संरक्षित करने का प्रयास कर रहा है। इसके साथ ही आशापुरी में गांव से 300 मीटर की दूरी पर 9वीं से 12वीं सदी के बीच मंदिर समूह के अवशेष संरक्षित है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

द्वारकाधीश मंदिर में पूजा के साथ आज शुरू होगा BJP का मिशन गुजरात, मोदी के साथ-साथ अमित शाह भी पहुंच रहेRajasthan: एंटी करप्शन ब्यूरो की सक्रियता से टेंशन में Gehlot Govt, अब केंद्र की तरह जांच से पहले लेनी होगी अनुमतिVIP कल्चर पर पंजाब की मान सरकार का एक और वार, 424 वीआईपी को दी रही सुरक्षा व्यवस्था की खत्मओडिशा में "भ्रूण लिंग" जांच गिरोह का भंडाफोड़, 13 गिरफ्तारमां की खराब तबीयत के बावजूद बल्लेबाजों पर कहर बनकर टूटे ओबेड मैकॉय, संगकारा ने जमकर की तारीफRenault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चAnother Front of Inflation : अडानी समूह इंडोनेशिया से खरीद राजस्थान पहुंचाएगा तीन गुना महंगा कोयला, जेब कटना तयसुकन्या समृद्धि योजना में सरकार ने किए बड़े बदलाव, जानें क्या है नए नियम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.