धूमधाम से खोले गए थे आनंदम केन्द्र, अब सरकार ने लिया इन्हें बंद करने का फैसला

धूमधाम से खोले गए थे आनंदम केन्द्र, अब सरकार ने लिया इन्हें बंद करने का फैसला

Faiz Mubarak | Updated: 25 Jun 2018, 02:04:33 PM (IST) Bhopal, Madhya Pradesh, India

धूमधाम से खोले गए थे आनंदम केन्द्र, अब सरकार ने लिया इन्हें बंद करने का फैसला

भोपालः करीब देढ़ साल पहले गठित किए गए आनंद की दीवार यानि आनंदम् केन्द्रों को सरकार ने प्रदेशभर में बड़े ज़ोर शोर से शुरु किया था, लेकिन संपन्न लोगों और सामाजिक संस्थाओं का इस और ध्यान ना देने के कारण सरकार ने अब इसे बंद करने का फैसला लिया है। सूत्रों के मुताबिक, सीएम शिवराज के इस महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट के लिए सामाजिक संस्थाएं दिलचस्पी दिखाती नज़र नहीं आई। जिसके चलते प्रदेश भर में इसके लिए बनाए गए केन्द्रों में सन्नाटा पसरता गया और इसकी व्यवस्थाएं ठप होती गईं। जबसे इनकी शुरुआत हुई, तभी से राजधानी में बनाए गए चार केन्द्र ठप पड़े है, जिसके मद्देनजर सरकार ने अब खुद इनपर तालाबंदी करने का निर्णय लिया है। इसी तरह जिलों में खोले गए कई केन्द्रों के हालात काफी चिंताजनक हैं, जिसपर भी सरकार गौर करने की बात कह रही है।

देढ़ साल पहले शुरु हुआ था अभियान

आपको बता दें कि, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस अभियान की शुरुआत 14 जनवरी 2017 यानि मकर संक्रांति के मौके पर बड़ी धूमधाम से की थी। राजधानी के टीटी नगर स्टेडियम में मुख्यमंत्री ने प्रदेश के कई मंत्रियों की मौजूदगी में प्रदेश के कई ज़िलों में वीडियों कान्फ्रेंस के जरिए इसकी शुरुआत की थी। इस दौरान सीएम ने इंदौर, ग्वालियर, उज्जैन और जबलपुर के केन्द्रों को संबोधित करते हुए वहां के लोगो से इन केन्द्रों के महत्व को लेकर बातचीत भी की थी। सीएम ने वहां मौजूद मंत्रियों, अफसरों, सामाजिक संगठनों और उद्योगपतियों से भी इन केन्द्रों के हित के लिए यानि ग़रीबों के हित के लिए बढ़-चढ़ कर सहयोग करने की बात भी रखी थी।

प्रदेश के सभी केन्द्रों की हालत चिंतनीय

केन्द्रों को लेकर बिगड़े हालात सिर्फ राजधानी के ही बिगड़े हुए नहीं है, बल्कि प्रदेश भर में खोले गए करीब पौने दो सौ केन्द्र कमोबेश बुरी स्थिति में हैं, इनमें आधे से ज्यादा केन्द्र तो एक साल होने से पहले ही दम तोड़ चुके है। बचे कुचे केन्द्रों की व्यवस्था भी काफी डगमग है। राजधानी भोपाल में छह केन्द्रों की शुरुआत मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने अपने हाथों से की थी, लेकिन अब उनमें से सिर्फ दो केन्द्र ही संचालित हैं। इनमें एक केन्द्र संजय तरण पुष्कर कोहेफिजा पर स्थित है और दूसरा कॉन्सेप्ट स्कूल टीटी नगर पर स्थित है, इसलिए जिला प्रशासन की ओर से गोविंदपुरा, स्वर्ण जयंती पार्क, बैरागढ़ और पॉलिटेक्निक चौराहा स्थित केन्द्रों की तालाबंदी की औपचारिक घोषणा कर दी गई। पिछले आठ महीने में इन चारों बंद किए जाने वाले केंद्रों में एक भी राहत सामग्री नही आई थी।

अच्छी सोच पर लगा ताला

इन केन्द्रों की शुरुआत करने का मकसद यह था कि, अमीर की बची हुई चीज़ गरीब के काम आ जाए। यह अनूठा प्रयोग देश में पहली बार किया गया था। इसके पीछ सीएम शिवराज की धारणा यह थी कि, समाज के संपन्ना लोग अगर उनके पास बची चीजों को दान के तौर पर सरकार द्वारा बनाए इन केन्द्रों पर छोड़ जाएं। जैसे कपड़े, बर्तन, बिस्तर, फर्नीचर, या कोई भी घरेलू इस्तेमाल में ली जाने वाली चीज। वही, जिन लोगों को उन चीजों की जरूरत हो वह उन चीजों को केन्द्रों से ले जाएं। शुरुआत में तो, इसके काफी बढ़िया परिणाम देखने में आए लेकिन धीरे धीरे लोगों का उत्साह कम होने लगा, जो आज एक बड़ी चिंता का विषय बन गया है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned