आनंदीबेन पटेल बनीं मध्यप्रदेश की प्रभारी राज्यपाल, ऐसा है उनका राजनीतिक सफर

उत्तरप्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन को बनाया मध्यप्रदेश का कार्यवाहक राज्यपाल..। शपथ ली...।

By: Manish Gite

Published: 01 Jul 2020, 05:03 PM IST

भोपाल। आनंदीबेन पटेल को मध्यप्रदेश का प्रभारी राज्यपाल बनाया गया है। बुधवार शाम 4.30 बजे उन्होंने पद एवं गोपनीयता की शपथ ग्रहण की। मध्यप्रदेश के चीफ जस्टिस एके मित्तल ने उन्हें शपथ दिलाई। गौरतलब है कि राज्यपाल लालजी टंडन के अस्पताल में भर्ती होने के कारण आनंदीबेन पटेल को मध्यप्रदेश का कार्यवाहक राज्यपाल बनाया गया है। गौरतलब है कि आनंदीबेन पटेल वर्तमान में उत्तर प्रदेश की राज्यपाल हैं और उसके पहले वे मध्यप्रदेश की भी राज्यपाल रह चुकी है। आनंदीबेन पटेल गुजरात राज्य की मुख्यमंत्री समेत कई अहम पदों पर रह चुकी हैं।

 

इससे पहले राज्यपाल विशेष विमान से उत्तर प्रदेश से भोपाल पहुंची और सीधे राजभवन में स्थित समारोह में शपथ ग्रहण में शामिल हुई। मध्यप्रदेश के मुख्य न्यायाधीश एके मित्तल ने उन्हें पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलवाई। इस मौके पर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ, भोपाल सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर, शिवराज कैबिनेट के मंत्री तुलसी सिलावट समेत अन्य नेता भी राजभवन पहुंचे।

 

लखनऊ के मेदांता में भर्ती हैं लालजी टंडन
मध्यप्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन 11 जून से लखनऊ के मेदांता अस्पताल में भर्ती हैं। यहां उनकी हालत में मामूली सा सुधार देखा गया, इसके बाद उनका वेंटिलेटर भी हटा दिया गया था, लेकिन दो दिन पहले ही उनकी हालत में फिर गिरावट देखी गई और उन्हें श्वास लेने में दिक्कतों का सामना करना पड़ा। उन्हें दोबारा से वेंटिलेटर पर रखा गया है।

 

मुख्यमंत्री से राज्यपाल तक का सफर
आनंदबीन पटेल का जन्म 1941 में गुजरात के मेहसाणा जिले के विजापुर तालुका के खरोद गांव में हुआ था, जहां उनके पिता जेठाभाई शिक्षक थे। उनका जन्म एक ऐसे परिवार में हुआ जिसमें 'लक्ष्मी' (धन की देवी) से अधिक 'सरस्वती' (बुद्धि की देवी) का महत्व था।

आनंदबीन पटेल ने एक राजनेता, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की वर्तमान गवर्नर और गुजरात की पूर्व मुख्यमंत्री के तौर पर काम किया। वह राज्य की पहली महिला मुख्यमंत्री थी। वह 1987 से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की सदस्य हैं। वह 2002 से 2007 तक शिक्षा मंत्रालय में कैबिनेट मंत्री थे।

2018 में, वह ओम प्रकाश कोहली की जगह मध्य प्रदेश की राज्यपाल बनी, जो सितंबर 2016 से अतिरिक्त प्रभार संभाल रहे थे। जुलाई 2019 तक ये मध्यप्रदेश की राज्यपाल रहीं, इसके बाद इन्होंने उत्तर प्रदेश राज्यपाल पद की जिम्मेदारी संभालीं।

Show More
Manish Gite
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned