scriptannual examination of children will be like this | कोरोना का कहर नहीं थमा तो ऐसे होगी बच्चों की वार्षिक परीक्षा | Patrika News

कोरोना का कहर नहीं थमा तो ऐसे होगी बच्चों की वार्षिक परीक्षा

पांचवीं-आठवीं कक्षा के बच्चों लिए ड्राफ्ट तैयार

भोपाल

Published: December 25, 2021 09:00:16 am

भोपाल. एमपी में कोरोना कहर नहीं थमा तो बच्चों की परीक्षा लेने का तरीका बदल जाएगा, परीक्षाएं ऑनलाइन नहीं होगी, लेकिन ऑफलाइन परीक्षा भी बच्चा घर से दे सकेगा, जिसके लिए बच्चों को होम बेस्ड वर्कशीट दी जाएगी, जिसमें प्रश्न भी लिखे होंगे, इस कॉपी को बच्चा परीक्षा देने के बाद परिजन स्कूलों में जमा करवाएंगे, इसी के साथ कक्षा पांचवीं-आठवीं को लेकर भी राज्य शिक्षा केंद्र ने ड्राफ्ट तैयार कर लिया है। जिसके आधार पर अगर बच्चा किसी कारणवश पास नहीं हो पाता है, तो उसे उसी कक्षा में अध्यन करना होगा।
कोरोना का कहर नहीं थमा तो ऐसे होगी बच्चों की वार्षिक परीक्षा
कोरोना का कहर नहीं थमा तो ऐसे होगी बच्चों की वार्षिक परीक्षा
प्रदेश में 12 साल बाद 5वीं और 8वीं की परीक्षाएं बोर्ड पैटर्न पर कराने के लिए कवायद तेज है। राज्य शिक्षा केंद्र ने ड्राफ्ट तैयार कर लिया है। स्कूल शिक्षा विभाग परीक्षण करेगा। अगर प्रावधान सटीक हुए तो ड्राफ्ट स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार के पास जाएगा। शिक्षा का अधिकार अधिनियम से अलग बोर्ड परीक्षा में छात्रों के लिए निर्धारित अंक प्राप्त करना अनिवार्य है। अगर कोई छात्र-छात्रा उतने अंक नहीं ला पाता है तो उसे दो महीने दिए जाएंगे। इसके बाद फिर मूल्यांकन होगा। तय अंक प्राप्त करने पर अगली कक्षा में प्रवेश मिलेगा। अंक हासिल नहीं कर पाने पर डिटेंशन यानी रोका जाएगा। छात्र को फिर से उसी क्लास में अध्ययन करना होगा।
यह भी पढ़ें : ओमिक्रॉन को लेकर सीएम ने किया अलर्ट, बोले-तीसरी लहर का करना है मुकाबला

अप्रेल में हो सकती है परीक्षा
राज्य शिक्षा केंद्र के आंकड़ों के मुताबिक 5वीं और 8वीं में एक लाख सरकारी स्कूलों में 16 लाख छात्र-छात्राएं पढ़ रहे हैं। परीक्षाएं कराने पहले मार्च 2022 का समय तय था। क्योंकि अभी ड्राफ्ट पर शासन और मंत्री की मुहर नहीं लगी है। इसके बाद व्यवस्था जमाने में भी समय लग सकता है। ऐसे में अब परीक्षा शुरू करने के लिए अप्रेल का महीना तय किया गया है।
यह भी पढ़ें : जानें क्यों मनाते हैं क्रिसमस, 25 दिसंबर को क्यों कहते हैं बड़ा दिन

प्लान बी तैयार
कोरोना संक्रमण और तीसरी लहर की स्थिति मार्च-अप्रेल में चरम पर होने की आशंका है। ऐसे में बोर्ड पैटर्न पर परीक्षाएं करवाने के हालात नहीं हुए तो केंद्र ने प्लान बी भी तैयार कर रखा है। शासन की सहमति से मार्च में होम बेस्ड वर्कशीट यानी प्रश्न लिखी हुई कॉपियां छात्र-छात्राओं को दी जाएंगी, जिसे घर से हल करके स्कूल में जमा करवाना होगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहकर्नाटक में कोरोना की रफ्तार तेज, 47  हजार से अधिक नए मामलेरामगढ़ पचवारा में बरसे टिकैत, कहा किसानों की जमीन को छीनने नहीं दिया जाएगाप्रदेश के डेढ़ दर्जन जिलों में रेत का अवैध परिवहन जारी, सरकार को करोड़ों का नुकसान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.