जानें...डॉ. कलाम ने क्यों कहा था- राजनीति के कारण लेट हुआ न्यूक्लियर टेस्ट

कलाम ने खुलासा किया है कि वर्ष 1998 में किया गया परमाणु परीक्षण दरअसल दो वर्ष पहले 1996 में ही किया जाना था

By: Brajendra Sarvariya

Published: 27 Jul 2016, 10:46 AM IST

भोपाल। आज भारत के पूर्व राष्ट्रपति और मिसाइल मैन डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम की पहली पुण्य तिथि है। इस अवसर पर डॉ. कलाम के भोपाल दौरों की यादें ताजा करा रहा है एमपी डॉट पत्रिका डॉट कॉम। बात अप्रैल 2013 की है, जब डॉ. कलाम भोपाल आए थे। स्टेट हैंगर पर शिवराज सिंह चौहान ने उनका स्वागत किया था। इसके बाद डॉ. कलाम ने एक कार्यक्रम में वो बात कही, जो अब तक वे अपने मन में दबाए हुए थे। मध्यप्रदेश को चौबीस घंटे बिजली देने वाली महत्वाकांक्षी योजना अटल ज्योति अभियान के शुभारंभ अवसर पर डॉ. कलाम ने कहा था कि  सिर्फ राजनीति के कारण भारत परमाणु परीक्षण में अन्य राष्ट्रों की अपेक्षा काफी पीछे रह गया।




ये भी कहा था डॉ. कलाम ने
- कलाम ने खुलासा किया है कि वर्ष 1998 में किया गया परमाणु परीक्षण दरअसल दो वर्ष पहले 1996 में ही किया जाना था, लेकिन बदले राजनीतिक समीकरणों के कारण यह नहीं हो सका।

- 1996 के आम चुनाव के परिणाम घोषित होने से दो दिन पहले ही उनके पास तत्कालीन प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हाराव का फोन आया और उन्होंने तुरंत मिलने के लिए उन्हें अपने पास बुलाया। 

- इसके तुरंत बाद की डॉ. कलाम अपने दो साथियों के साथ राव के पास पहुंचे तो उन्होंने दो दिन में परमाणु परीक्षण करने के लिए तैयार रहने का निर्देश डॉ. कलाम को दिया।




-  डॉ. कलाम उस वक्त रक्षा मंत्री के वैज्ञानिक सलाहाकार थे। लेकिन दो दिन बाद जब चुनाव परिणाम कांग्रेस के अनुरूप नहीं आए और कांग्रेस सत्ता से बाहर हो गई तो देश की राजनीतिक परिस्थितियां बदल गई।

- बाद में राव ने उस वक्त सत्ता की कमान संभालने वाले अटल बिहारी वाजपेयी को इस परमाणु परिक्षण की सारी जानकारी दी और यह सुनिश्चित कराया कि यह परिक्षण जल्द किया जाएगा। 
Brajendra Sarvariya
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned