कन्याओं के चरण पखार लिया आशीष

महाअष्टमी पर शहर में जगह-जगह हुए आयोजन हवन-पूजन हुए, भंडारों में चखा प्रसाद

By: Rohit verma

Published: 14 Oct 2021, 01:05 AM IST

भोपाल. नवरात्र का आखिरी चरण चल रहा है। श्रद्धालु माता रानी की आराधना कर रहे हैं। बुधवार को महाअष्टमी का पर्व धूमधाम से मनाया गया। इस मौके पर जगह-जगह कन्या पूजन के आयोजन हुए। श्रद्धालुओं ने भक्ति भाव के साथ कन्याओं के चरण पखारे, हवन, पूजन व महाआरती हुई। महाअष्टमी पर कन्या पूजन और कन्या भोज का काफी महत्व है। अष्टमी पर शहर में अनेक स्थानों पर कन्या पूजन के आयोजन किए गए। इस बार सामूहिक कन्या भोजन के आयोजन कम हुए, न ही महाअष्टमी पर ज्यादा भंडारे हुए। इसके बजाय अनेक समिति के पदाधिकारियों ने कन्याओं को कॉपी, पेन सहित स्टेशनरी की सामग्री वितरित की। मंदिर और पंडालों के साथ-साथ अष्टमी पर घरों में भी विशेष पूजा अर्चना की गई।

न्यू मार्केट: वितरित की शिक्षण सामग्री
न्यू मार्केट व्यापारी महासंघ की ओर से न्यू मार्केट में सजाए गए पंडाल में महाअष्टमी पर कन्या पूजन का आयोजन किया गया। इस मौके पर 51 बेटियों को शिक्षण सामग्री का वितरण किया गया। इसी प्रकार उपस्थित लोगों को मास्क का वितरण किया गया और सुरक्षा का संदेश दिया।

जरूरतमंदों को वितरित किए भोजन के पैकेट
अष्टमी के मौके पर कायस्थ बंधु समिति की ओर से मिसरोद स्टेशन रोड श्रीराम कॉलोनी में निशुल्क भोजन वितरण कार्यक्रम रखा। इस दौरान गरीब, बेसहारा लोगों को भोजन के पैकेट वितरित किए गए। समिति के गिरीश श्रीवास्तव ने बताया कि समिति की ओर से लगातार गरीब और जरूरतमंद लोगों को मदद उपलब्ध कराई जा रही है।

क्रेन की मदद से होंगे विसर्जन, नहीं निकलेंगे चल समारोह
दुर्गा पर्व के बाद प्रतिमाओं का सांकेतिक विसर्जन गुरुवार से ही शुरू हो जाएगा। शुक्रवार और शनिवार घाटों पर काफी भीड़ होने की उम्मीद है। विसर्जन की तैयारियों को लेकर जिला प्रशासन की तरफ से अलग-अलग घाटों पर सुरक्षा इंतजाम पूरे कर लिए गए हैं। एसडीएम, सीएसपी और निगम अधिकारियों की ड्यूटी लगा दी गई है। क्रेन या जेसीबी की मदद से ही प्रतिमाओं का विसर्जन होगा। किसी को घाट पर पानी तक पहुंचने की अनुमति नहीं होगी।

प्रमुख घाटों जैसे रानी कमलापति घाट कमला पार्क, प्रेमपुरा घाट, सीहोर नाका, हथाईखेड़ा अनंतपुरा, शाहपुरा, ईटखेड़ी, खटलापुरा, नरोन्हा सांकल और मालीखेड़ी विसर्जन स्थल पर जिला प्रशासन और नगर निगम द्वारा रसी और बैरीकेट्स लगाए जा रहे हैं। कोरोना को देखते हुए इस बार चल समारोह नहीं निकलेंगे। इस बार करीब 700 छोटी बड़ी प्रतिमाएं स्थापित की गईं हैं। पूर्व में ये 1500 से ज्यादा होती थीं। नगर निगम की तरफ से सभी वार्डों में कुंड भी बनाए गए हैं जिसमें शहरवासी छोटी-छोटी प्रतिमाओं को पूरे विधि विधान विसर्जित कर सकते हैं।

Show More
Rohit verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned