scriptAudit not done for ten years, permission is given to conduct elections | दस साल से नहीं कराया ऑडिट, चुनाव कराने की अनुमति तत्काल मिल जाती है, भू माफिया और अफसरों का गठजोड़ बढ़ा रहा आम आदमी की समस्या | Patrika News

दस साल से नहीं कराया ऑडिट, चुनाव कराने की अनुमति तत्काल मिल जाती है, भू माफिया और अफसरों का गठजोड़ बढ़ा रहा आम आदमी की समस्या

- पीडि़तों के लिए समितियों का रिकॉर्ड गायब हो जाता है, पत्र लिखने के बाद भी नहीं मिलता, चुनाव के समय रिकॉर्ड भी मिल जाता है

भोपाल

Published: October 16, 2021 09:42:27 pm

भोपाल. भू माफिया बनी सहकारिता सोसायटियों और सहकारिता विभाग के कुछ अफसरों का गठजोड़ आम आदमी की परेशानी बढ़ा रहा है। 30 से 35 वर्ष पूर्व लोगों ने ये सोचकर निवेश किया था कि बच्चे बड़े होंगे तो प्लॉट बेचकर उनकी पढ़ाई, शादी और अन्य में मदद मिलगी। लेकिन सोसायटियों में मौजूदा दौर कुछ ऐसा हो गया है कि आम आदमी के लिए रिकॉर्ड ही उपलब्ध नहीं है। लेकिन सोसायटी में अध्यक्ष, सदस्य बदलने हों, चुनाव कराना हो तो तत्काल रिकॉर्ड, मतदाता सूची मिल जाती है और सहकारिता उपायुक्त चुनाव कराने की अनुमति भी दे देते हैं। जो प्रशासक ये रिकॉर्ड न होने की बात बोलकर शिकायतकर्ता का समाधान नहीं करते वही उन्हीं प्रशासकों के पास चुनाव के समय पूरा रिकॉर्ड रहता है।
दस साल से नहीं कराया ऑडिट, चुनाव कराने की अनुमति तत्काल मिल जाती है, भू माफिया और अफसरों का गठजोड़ बढ़ा रहा आम आदमी की समस्या
पीडि़तों के लिए समितियों का रिकॉर्ड गायब हो जाता है, पत्र लिखने के बाद भी नहीं मिलता, चुनाव के समय रिकॉर्ड भी मिल जाता है
जब इन सोसायटियों का रजिस्ट्रेशन हुआ था उस समय अध्यक्ष और सदस्य कोई और थे तत्कालीन कलेक्टर गाइडलाइन के अनुसार जमीनों के रेट तय कर प्लॉट बुक किए थे। वर्ष 1992-93 से सोसायटियों को जमीन आवंटन शुरू हो गया। इसके बाद इसमें गड़बड़ी होती चली गईं। सिर्फ वे ही पुराने सदस्य लाभ में रहे जिन्होंने उस समय रजिस्ट्री कराने के बाद प्लॉट पर निर्माण कर रहना शुरू कर दिया। निवेश करने वालों का न तो प्लॉट मिले और न ही जमा राशि।
इन सोसायटियों में नहीं हुए चुनाव

रोहित, गौरव, महाकाली, गुलाबी, हेमा, शादाब, रोशन, मंदाकनी, सितारा, लाला लाजपतराय, निजामुद्दीन, सर्वधर्म, कान्हा, शिव, आकांक्षा, आदर्श नगर, आवास राहत, आदित्य गृह, अजेय गृह निर्माण, मेला गृह निर्माण, अजेय, गोला, नर्मदा गृह, अवास राहत व अन्य सोसायटी हैं जिनमें आठ से दस साल तक ऑडिट नहीं हुए। चुनाव कराने के बाद अपने अध्यक्ष और सदस्य बैठाने के लिए अनुमति बिना देर किए मिल जाती है। इसके बाद प्लॉट खरीद बिक्री शुरू हो जाती है।
आज भी रखी हैं पुरानी रजिस्ट्री
जिन लोगों ने उस समय प्लॉट की रजिस्ट्री कराई थी, उसमें से काफी लोगों ने इसे अभी तक संभालकर रखा है। कई दस्तावेज तो इतने पुराने हो गए हैं कि वे फाइलों में रखे रखे ही फटे जा रहे हैं, लेकिन लोगों ने उनको संभाल कर रखा हुआ है। दस्तावेजों में वो रसीदें भी हैं जो इस बात का सबूत है कि लोगों ने वर्षों पहले निवेश किया है।
चुनाव के समय दे देते हैं मतदाता सूची

सहकारिता अफसरों के अनुसार चुनाव कराने के लिए मतदाता सूची की जरूरत होती है। ये भी रिकॉर्ड का हिस्सा है, लेकिन चुनाव के लिए आवेदन करते समय ये सूची उपायुक्त को उपलब्ध करा दी जाती है। इस आधार पर अनुमति जारी कर दी जाती है। जबकि रिकॉर्ड मांगने का काम सहायक आयुक्त को दे रखा है। इसे भी एक विसंगति ही मान सकते हैं।
वर्जन

ये दोनों प्रक्रिया अलग है, चुनाव उपायुक्त की तरफ से कराए जाते हैं और रिकॉर्ड सहायक आयुक्त के यहां से होता है। दोनों प्रक्रिया अलग-अलग हैं। इस कारण चुनावों को अनुमति मिल जाती है।
छविकांत वाघमारे, सहायक आयुक्त, सहकारिता

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Azadi Ka Amrit Mahotsav में बोले पीएम मोदी- ये ज्ञान, शोध और इनोवेशन का वक्तभारत ने ओडिशा तट से ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफलतापूर्वक किया परीक्षणNEET UG PG Counselling 2021: सुप्रीम कोर्ट ने कहा- नीट में OBC आरक्षण देने का फैसला सही, सामाजिक न्‍याय के लिए आरक्षण जरूरीटोंगा ज्वालामुखी विस्फोट का भारत पर भी पड़ सकता है प्रभाव! जानिए सबसे पहले कहां दिखा असरCorona cases in India: कोरोना ने तोड़ा 8 महीने का रिकॉर्ड; 24 घंटे में 3 लाख से ज्यादा कोरोना के नए केस, मौत का आंकड़ा 450 के पारअलवर में किसानों की जमीन नहीं होगी नीलाम, पत्रिका की खबर के बाद सरकार ने वापस लिए आदेश, किसानों ने जताया पत्रिका का आभारUttar Pradesh Assembly Elections 2022: भीषण शीतलहरी में पूर्वांचल हुआ गर्म, दो मुख्यमंत्रियों के चुनावी मैदान में उतरने की आस ने बढ़ाई सरगर्मीप्रियंका गांधी ने जारी की कांग्रेस की दूसरी लिस्ट, 41 उम्मीदवारों के नाम फाइनल, 16 महिलाओं को भी दिया टिकट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.