कोरोना से बचाव कर सकते ये दवाएं लेकर ...

- होम्योपैथी और आयुर्वेद में हैं कोरोना वायरस जैसी बीमारियों से बचाने की कारगर दवाएं
- शासकीय अस्पतालों में उपलब्ध इन दवाओं को लिया जा सकता
- तीन दिन लेकर महीने भर बाद रिपीट की जा सकतीं ये दवाएं

भोपाल. कोरोना वायरस को लेकर पूरी दुनिया में हाहाकर मचा हुआ है। डब्ल्यूएचओ ने भी इसे महामारी घोषित कर दिया है। देश में स्कूल, कॉलेज, कोचिंग, सिनेमाघर, मंदिर समेत भीड़ वाली सभी जगहों पर जाने में प्रतिबंध लगा दिया है। प्रदेश की विधानसभा भी कोरोना वायरस के चलते दस दिनों के लिए स्थगित कर दी गई है। चारों ओर इस वायरस का खौफ छाया हुआ है। आयुर्वेद और होम्योपैथी में कोरोना वायरस की रोकथाम को कारगर दवाएं बताई जा रही हैं।
आयुर्वेद में भी कोरोना वायरस को बचाव के लिए प्रभावशाली मेडिसिन बताई गई हैं। पं. खुशीलाल शर्मा आयुर्वेद महाविद्यालय में फॉर्मकोलॉजी विभाग की प्रोफेसर एंड एचओडी डॉ. उर्मिला शुक्ला का कहना है कि कोरोना वायरस से प्रतिरक्षण के लिए संजीवनी वटी व संशमनी वटी असरकारक औषधियां हैं।

ये दवाएं दो-दो गोली गुनगुने से पानी से दिन में दो बार तीन दिन तक ले सकते हैं। यदि बुखार भी हो तो दो-दो गोली दिन में तीन बार तीन दिन तक लें। सिंगल मेडिसिन में गुडुची, अश्वगंधा और शुंठी एक-एक ग्राम दिन में दो बार शहद या गुनगुने पानी से ले सकते हैं। ये दवाएं शहद में मिलाकर गुनगुने पानी से भी ली जा सकती हैं। ये औषधियां पं. खुशीलाल शर्मा आयुर्वेद संस्थान में उपलब्ध हैं। यदि बुखार हो तो अमृतारिष्ट 4-4 चम्मच समान मात्रा में गुनगुना जल मिलाकर दिन में दो बार पिया जा सकता है। बाजार से षडंग पानीय औषधि को लिया जा सकता है। इस औषधि में छह दृव्य होते हैं। इन्हें एक लीटर पानी में उबालकर, छानकर रख लें और प्यास लगने पर पीते रहें। दवाओं को खाली पेट नहीं लें। इन सब उपायों से शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता तेजी से बढ़ती है, जिससे वायरस असर नहीं कर सकता।

होम्योपैथिक मेडिकल कॉलेज स्थित हॉस्पिटल में तैनात वरिष्ठ होम्योपैथिक चिकित्सक डॉ. श्रद्धा शुक्ला का कहना है कि कोरोना वायरस को रोकने के लिए होम्योपैथी में कारगर दवाएं हैं। इसके प्रतिरक्षण के लिए अर्सेनिक अल्बम 30, इंफ्लुएंजम 200 और कैम्फोरा 1 एम में से कोई एक दवा ली जा सकती है। अर्सेनिक अल्बम 30 अथवा इंफ्लुएंजम 200 पोटेंसी की 4-4 गोली सुबह-शाम दिन में दो बार पांच दिनों तक ली जा सकती हैं। यदि ये दो दवाएं नहीं ली जा सकें तो तीसरी दवा कैम्फोरा 1 एम पोटेंसी की 4-4 गोली दो दिन तक दिन में दो बार ली जा सकती हैं। ये दवाएं शासकीय होम्योपैथिक हॉस्पिटल में उपलब्ध हैं।

दिनेश भदौरिया
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned