scriptBad roads: Horoscope of roads will be on mobile app | बदहाल सडक़ें : मोबाइल एप पर होगी सडक़ों की कुंडली | Patrika News

बदहाल सडक़ें : मोबाइल एप पर होगी सडक़ों की कुंडली

--------------------------
पत्रिका इम्पेक्ट :
- सरकार ने तय किया सडक़ों पर मोबाइल एप बनाना
- सडक़ों की बदहाली के कारण उठाया गया कदम
-----------------------------

भोपाल

Published: August 22, 2021 09:54:47 pm

जितेन्द्र चौरसिया, भोपाल। प्रदेश में सडक़ों की बदहाली और उनके जिम्मेदारों का सरलता से पता नहीं चलने के कारण अब सरकार ने मोबाइल पर सडक़ों की पूरी कुंडली लाने का फैसला लिया है। इसके तहत सरकार सडक़ों पर आधारित मोबाइल एप तैयार कराएगी। इसके तहत प्रदेश की हर सडक़ का पूरा डाटा एप पर रहेगा। कोई सी भी सडक़ के बारे में तुरंत मोबाइल एप से जाना जा सकेगा कि उसे किस विभाग-ठेकेदार ने बनाया, कितनी लागत आई, गारंटी पीरियड कितना है और अन्य डिटेल।
-----------------------------
दरअसल, हाल ही में प्रदेश की सबसे महत्वपूर्ण वल्लभ-भवन के सामने की सडक़ की पोल हल्की बारिश में ही खुल गई। इस पर सीएम शिवराज सिंह चौहान से लेकर पीडब्ल्यूडी मंत्री गोपाल भार्गव तक नाराज हुए। इस सडक़ के जिम्मेदार विभाग को पता करने मंत्री को अफसरों को तलब करना पड़ गया। बाद में पता चला कि यह राजधानी परियोजना प्रशासन (सीपीए) की सडक़ है। इस पर सीएम ने हाल ही में सीपीए को खत्म करने का फैसला लिया है। लेकिन, अब पीडब्ल्यूडी मंत्री गोपाल भार्गव के स्तर पर इस तरह की समस्या आगे न आए, इसके लिए मोबाइल एप तैयार कराने का निर्णय किया गया है। भार्गव ने विभागीय अफसरों को आदेश दे दिए हैं कि जल्द से जल्द मोबाइल एप तैयार किया जाए। इसके लिए सडक़ों की स्कैनिंग व मैपिंग भी करके डाटा अपलोड किया जाएगा। तकनीकी एक्सपर्ट को इसमें जुटा दिया गया है।
---------------------------
ऐसा होगा एप-
यह मोबाइल एप सडक़ की हर एजेंसी की पूरी जानकारी लेकर सडक़े साथ डाटा अपडेट करेगा। किस सडक़ का कब-कब बनाया गया, किसने बनाया, गारंटी पीरियड कितना है, पेंचवर्क कितनी बार हुआ, लागत कितनी है, अंतिम बार कब बना था इसकी पूरी डिटेल रहेगी। सडक़ों का श्रेणीकरण भी इसमें रहेगा। मसलन, गांव की सडक़, हाईवे, जिला मुख्य मार्ग आदि। इसके अलावा एप में यह सिस्टम भी रखने पर विचार-विमर्श हो रहा है कि सडक़ों की फोटो डालकर जानकारी ली जा सके। इसका प्रारंभिक मॉड्यूल तैयार होने के बाद आगे फीचर्स अपडेशन होगा।
----------------------------
मत्रियों को भी दी जाएगी इसकी मानीटरिंग-
सबसे दिलचस्प ये कि इस मोबाइल एप को सभी मंत्रियों को डाउनलोड कराने की तैयारी है। ताकि, हर मंत्री अपने दौरों के दौरान देख सके कि किस सडक़ की हालत क्या है और जिम्मेदारी किसकी है। मंत्री गोपाल भार्गव कहते हैं कि मंत्रीगण लगातार दौरे करते हैं। इसलिए उनके पास यदि यह मोबाइल एप डाउनलोड रहेगा तो बेहतर तरीके से सडक़ों की जानकारी पता लगेगी और मानीटरिंग भी बेहतर होगी।
---------------------------
अभी एक जगह कही नहीं है डाटा स्टोरेज-
वर्तमान में किसी भी एक जगह पर सभी सडक़ों का कोई डाटा नहीं है। लोक निर्माण विभाग के पास केवल उसकी सडक़ों का डाटा रहता है। जबकि, सीपीए के पास उसकी सडक़ों का। वहीं ग्रामीण सडक़ों का डाटा अलग रहता है। मोबाइल एप बनने से यह सभी डाटा एक जगह आ जाएगा। इसके बाद अगले चरण में निर्माण की डुप्लीकेसी को खत्म करने पर काम होगा।
----------------------------
पुैक्ट फाइल-
- 4000 किमी सडक़ें अभी खराब प्रदेश में
- 8015 किमी नेशनल हाईवे पीडब्ल्यूडी के
- 11389 किमी स्टेट हाईवे पीडब्ल्यूडी के
- 22129 किमी जिला मुख्य मार्ग पीडब्ल्यूडी के
- 28623 किमी जिला व ग्रामीण मार्ग पीडब्ल्यूडी के
- 16985 रोड पीएमजीएसवाय फेस-1 की
- 2782 रोड़ प्रदेश में एडीबी की
- 742 ब्रिज रोड ग्रामीण विकास के तहत
- 16701 किमी रोड जुलाई 21 में कम्पलीटेड एमपीआरडीसी में
--------------------------
इनका कहना-
हम सडक़ों के लिए मोबाइल एप तैयार करा रहे हैं। उस एप पर सडक़ों की पूरी जानकारी रहेगी। कोई भी व्यक्ति तुरंत एप से किसी भी सडक़ की पूरी जानकारी ले सकेगा। इससे सिस्टम पारदर्शी होगा।
- गोपाल भार्गव, मंत्री, लोक निर्माण विभाग, मप्र
----------------------------------
mobile_apps.jpg

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कोरोना: शनिवार रात्री से शुरू हुआ 30 घंटे का जन अनुशासन कफ्र्यूशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेCM गहलोत ने लापरवाही करने वालों को चेताया, ओमिक्रॉन को हल्के में नहीं लें2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव

बड़ी खबरें

भारत के कोरोना मामलों में आई गिरावट, पर डरा रहा पॉजिटिविटी रेटअरुणाचल प्रदेश में भूकंप के झटके, रिक्टर पैमाने पर 4.9 मापी गई तीव्रताभारत में निवेश का बेहतरीन समय, अगले 25 साल का प्लान बना सकते हैं- दावोस सम्मेलन में बोले पीएम मोदीPunjab Election 2022: अरविंद केजरीवाल आज करेंगे 'आप' के सीएम उम्मीदवार का ऐलानCorona Vaccination: 12 से 14 साल तक के बच्चों को मार्च से लगेंगे टीकेIPL 2022: हार्दिक पांड्या, राशिद खान और शुभमन गिल की चमकी किस्मत, इतने करोड़ देगी अहमदाबाद की टीमछत्तीसगढ़ के युवा वैज्ञानिक ने खोजी न्यूनतम कीमत में हृदयगति मापन की ऐसी विधि, शोध देखकर दुनिया रह गई है हैरानसर्वार्थसिद्धि योग में नववर्ष—2022 का पहला पुष्यनक्षत्र आज
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.