scriptBada Talab did not remove a single encroachment for the last two and a | बड़ा तालाब सवा दो साल से एक भी कब्जा नहीं हटा, उल्टा पांच स्थानों पर कॉलोनी काटने, गौरागांव में होटल, सड़क बन गई | Patrika News

बड़ा तालाब सवा दो साल से एक भी कब्जा नहीं हटा, उल्टा पांच स्थानों पर कॉलोनी काटने, गौरागांव में होटल, सड़क बन गई

- आखिर क्यों न जनप्रतिनिधी इस मुद्दे को उठाएं, यूं ही शहर की लाइफ लाइन नहीं कहा जाता बड़ा तालाब, शहर विस्तार के साथ हर दस साल में बढ़ जाती है सौ एमलडी पानी की डिमांड, अतिक्रमण होते रहे तो कहां से बचेंगे तालाब और डैम

भोपाल

Published: January 26, 2022 06:43:30 pm

भोपाल. बड़ा तालाब में सवा दो साल से एक भी अतिक्रमण हटा नहीं, उल्टा पांच जगह कॉलोनी काटने, गौरागांव कैचमेंट में होटल बनने, बिशनखेड़ी की तरफ एफटीएल की मुनारों से सटकर सड़क तक बिछादी गई। लेकिन प्रशासन और नगर निगम के जिम्मेदार अफसर नहीं जागे। कई मामलों में तो रसूखदार इतने भारी पड़े कि जांच करने तक टीमें नहीं गईं। कुछ जगह जांच भी होती है तो वह फाइलों से आगे नहीं बढ़ती। जबकि हकीकत ये है कि जिस तेजी से शहर का विस्तार हो रहा है, उतनी तेजी से हर साल पानी की डिमांड बढ़ रही है। जनसंख्या घनत्व के अनुसार हर दस साल में सौ एमएलडी पानी की डिमांड बढ़ जाती है। ऐसे में बड़ा तालाब सहित अन्य जलश्रोत्र बचाए नहीं गए तो स्थिति खराब ही होगी। लेकिन जिम्मेदार इस तरफ देखते तक नहीं हैं। कोई भी कब्जा कर ले या धार्मिक स्थल बना ले।

बड़ा तालाब सवा दो साल से एक भी कब्जा नहीं हटा, उल्टा पांच स्थानों पर कॉलोनी काटने, गौरागांव में होटल, बिशनखेड़ी की तरफ एफटीएल मुनारों से सटकर सड़क बन गई
- आखिर क्यों न जनप्रतिनिधी इस मुद्दे को उठाएं, यूं ही शहर की लाइफ लाइन नहीं कहा जाता बड़ा तालाब, शहर विस्तार के साथ हर दस साल में बढ़ जाती है सौ एमलडी पानी की डिमांड, अतिक्रमण होते रहे तो कहां से बचेंगे तालाब और डैम

2021 में 370 एमएलडी पानी बड़ा तालाब, कोलार और केरवा से लिया जा रहा है। नर्मदा से सप्लाई करीब 200 एमएलडी अलग है। 2031 में 31 लाख 23 हजार की आबादी हो जाएगी उस समय 470 एमएलडी (मिलियन लीटर पर डे ) पानी सिर्फ इन तीन वॉटर बॉडी से लेने की जरूरत होगी। लेकिन वर्तमान हालात ऐसे हैं कि जल श्रोत अवैध अतिक्रमणों से अटे पड़े हैं।

बड़ा तालाब:
शहर की लाइफ लाइन बड़ा तालाब में 361 अवैध कब्जे प्रशासन चिन्हित कर चुका है। इसमें से 16 कब्जे वर्ष 2019 में तोड़े गए, इसके बाद राजनीतिक रसूख के चलते कार्रवाई रुक गई। अभी तक एक नया कब्जा बड़े तालाब से हटाया नहीं गया। बड़े तालाब की सीमा राजस्व नक्शे से उतारने से कागजों में सुरक्षा मजबूत है, लेकिन हकीकत में स्थिति खराब है। पानी में नीचे गाद जमने से इसका गहरीकरण भी कम होता जा रहा है।

फैक्ट फाइल-- 363 वर्ग किमी में फैला

केरवा डैम
केरवा डैम के पास जंगल के एरिया में काफी पेड़ों को काटकर उसमें प्लॉटिंग की जा रही है। यहां कई प्रकार की फर्जी अनुमतियों की आड़ में इस तरह की गतिविधियां संचालित की जा रही हैं। मेंडोरा से रातीबड़ की तरफ पीछे केरवा की वॉटर बॉडी में काफी कब्जे हो रहे हैं। जमीन का लैंडयूज बॉटेनिकल गार्डन के नाम से है, जिसमें फॉर्म हाउस और बंगले बनते जा रहे हैं।

फैक्ट फाइल-- कैचमेंट में कट रहे फॉर्म हाउस - दो साल में 12 जगह पेड़ कटे

कोलार डैम

इस तरफ भी आस-पास काफी कब्जे हो गए हैं, यहां भी रातापानी रिसोर्ट जैसे कई रिसोर्ट बन गए हैं। पानी में मोटरबोट शुरू कर दी है। लगातार अवैध गतिविधियां इस तरफ संचालित हो रही हैं। शहर से 40 किमी दूर होने के कारण अभी यहां हालात फिर भी ठीेक हैं, लेकिन समय रहते इसे रोका नहीं गया तो यहां भी कब्जों की भरमार हो जाएगी।

नोट: अभी इतनी निर्भरता है
बड़ा तालाब-----130 एमएलडी

कोलार डैम, सीप लिंक-----210 एमएलडी
केरवा डैम---------30 एमएलडी

नर्मदा नदी------200 एमएलडी

वर्जन
बड़ा तालाब हो या कोई और जल श्रोत हमें अभी से बचाने होंगे इसके लिए जनसहयोग से प्रयास करने होंगे।

प्रज्ञा सिंह , सांसद, भोपाल

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

30 साल बाद फ्रांस को फिर से मिली महिला पीएम, राष्ट्रपति मैक्रों ने श्रम मंत्री एलिजाबेथ बोर्न को नया पीएम किया नियुक्तदिल्ली में जारी आग का तांडव! मुंडका के बाद नरेला की चप्पल फैक्ट्री में लगी भीषण आग, मौके पर पहुंची 9 दमकल गाडि़यांबॉर्डर पर चीन की नई चाल, अरुणाचल सीमा पर तेजी से बुनियादी ढांचा बढ़ा रहा चीनSri Lanka में अब तक का सबसे बड़ा संकट, केवल एक दिन का बचा है पेट्रोलIAS अधिकारी ने भारत की थॉमस कप जीत पर मच्छर रोधी रैकेट की शेयर की तस्वीर, क्रिकेटर ने लगाई फटकार - 'ये तो है सरासर अपमान'ताजमहल के बंद 22 कमरों का खुल गया सीक्रेट, ASI ने फोटो जारी करते हुए बताई गंभीर बातेंकर्नाटक: हथियारों के साथ बजरंग दल कार्यकर्ताओं के ट्रेनिंग कैम्प की फोटोज वायरल, कांग्रेस ने उठाए सवालPM Modi Nepal Visit : नेपाल के बिना हमारे राम भी अधूरे हैं, नेपाल दौरे पर बोले पीएम मोदी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.