नेताओं की भीड़ ने रोका डेढ़ घंटे तक, फिर एंट्री-एग्जिट प्वाइंट की गफलत बावडिय़ा कला रेलवे ओवर ब्रिज का लोकार्पण

नेताओं की भीड़ ने रोका डेढ़ घंटे तक, फिर एंट्री-एग्जिट प्वाइंट की गफलत बावडिय़ा कला रेलवे ओवर ब्रिज का लोकार्पण

भोपाल. बावडिय़ा कला रेलवे ओवरब्रिज शुक्रवार को लोकार्पित कर दिया गया। इससे कोलार, गुलमोहर, बावडिय़ा, सलैया से लेकर होशंगाबाद रोड की कॉलोनियों के करीब पांच लाख लोगों को आवाजाही का निर्बाध रास्ता मिल गया। हालांकि भाजपा और कांग्रेस नेताओं व कार्यकर्ताओं की भीड़ के चलते लोगों को ब्रिज के उपयोग के लिए डेढ़ घंटे तक इंतजार करना पड़ा। यातायात 12.30 बजे शुरू हो सका। इसके बाद ब्रिज के एंट्री व एग्जिट प्वाइंट को लेकर भी हुई गफलत से लोग परेशान होते रहे। इधर पीडब्ल्यूडी का कहना है कि पहला दिन होने से दिक्कत हुई है। संकेतक आदि लगने से यातायात सुचारू हो जाएगा।
दरअसल, ब्रिज के लोकार्पण और इसके नाम को लेकर दोनों दलों के नेता अपने समर्थकों के साथ ब्रिज पर डटे हुए थे। जब प्रभारी मंत्री गोविंद सिंह, पीसी शर्मा लोकार्पण कर रहे थे, तब भाजपा विधायक व अन्य नेता पास के टेंट में बैठे थे। मंत्री के रवाना होते ही भाजपा विधायक कृष्णा गौर, महापौर आलोक शर्मा व अन्य नेता लोकार्पण शिला पट्टिका के पास पहुंचे और फोटो खिंचाई।

ब्रिज के नाम पर भी खींचतान रही। भाजपा और कांग्रेस के अपने-अपने दावे हैं। महापौर आलोक शर्मा पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर के नाम करने का प्रस्ताव महापौर परिषद में पास कर मंजूरी के लिए शासन को भेजेंगे, वहीं कांग्रेस की तरफ से मंत्री पीसी शर्मा कह रहे हैं कि नाम तो सरकार ही तय करेगी। फिलहाल कोई नाम नहीं है। बताया जा रहा है कि कांग्रेस इसे संजय गांधी के नाम पर करना चाहती है।
ब्रिज पर दरार देख कांग्रेस नेता बिफर गए। कांग्रेस के जिला अध्यक्ष कैलाश मिश्रा ने तो पीडब्ल्ल्यूडी के एसडीओ अनुराग यादव के साथ निरीक्षण भी कर लिया। उन्होंने निर्माण की कमजोर गुणवत्ता के आरोप लगाए, जबकि इंजीनियरों ने दरार को खामी नहीं माना। इधर विधायक कृष्णा गौर बोलीं दरार ब्रिज में नहीं, कांगे्रस में है। गौरतलब है कि कार्यक्रम में पीडब्ल्यूडी मंत्री सज्जन सिंह वर्मा के न आने को उन्होंने कांग्रेस में गुटबाजी से जोड़ते हुए कहा-कांग्रेस को अपनी दरारें भरना चाहिए।

गलत दिशा में न जाएं, सुरक्षित पार करेंगे रास्ता

ब्रिज के एंट्री और एग्जिट प्वाइंट पर गफलत हुई। बाग सेवनियां थाना क्रॉसिंग के साथ दानापानी की और वाहन उलझते रहे। ऐसे में आप ब्रिज ऐसे पार करें और सुरक्षित रहें। शॉर्टकट के चक्कर में गलत दिशा में न जाएं।
स्थिति एक- दानापानी की ओर से आने वालों के सामने होशंगाबाद रोड की ओर डिवाइडर नहीं है। ऐसे में दाईं ओर गलत मुडऩे की बजाय बाईं और यानि बाग सेवनियां के रास्ते ही जाएं।

स्थिति दो- ब्रिज से बाग सेवनियां की ओर नीचे उतरकर किनारे सर्विस रोड पर न मुड़ें। बाग सेवनियां क्रॉसिंग से ही बीआरटीएस मिक्सलेन में मिसरोद की ओर बढ़ें, ताकि वाहन आपस में न भिडेंं।

स्थिति तीन- बाग सेवनिया क्रॉसिंग की ओर से दानापानी, बावडिय़ा की ओर जाने के लिए गलत दिशा में सर्विस रोड से ब्रिज पर न चढं़े। बीआरटीएस मिक्सलेन पर आगे बढकऱ ब्रिज के बाद मिलने वाले ओपन पाइंट से मुड़े फिर ब्रिज की और बढकऱ रास्ता पार करें तो ठीक रहेगा।

स्थिति चार- होशगाबाद रोड से दानापानी की तरफ उतरने वाले प्वाइंट पर कोई आईलैंड या रोटरी नहीं है। ऐसे में रफ्तार धीमी रखें, ताकि चार तरफ से आ रहे ट्रैफिक की उलझन से बच सकें।

गफलत की ये रही वजह
ब्रिज के दानापानी और होशंगाबाद रोड दोनों तरफ पांच-पांच रास्ते हो गए हैं। इन सभी से वाहन आ रहे हैं और ब्रिज का मुहाना इनके उलझने का प्वाइंट बन रहा है। होशंगाबाद रोड की तो वाहन चालक गलत दिशा में उतर रहे हैं। दानापानी की तरफ से आ रहे वाहनों को बाईं और मुडकऱ बाग सेवनियां थाने के क्रॉसिंग से मुडकऱ मिसरोद की और जाना चाहिए, लेकिन वे ब्रिज से दाईं और गलत दिशा में मुडकऱ सीधे सर्विस रोड पर जाने की कोशिश कर रहे हैं। पहले दिन सर्विस रोड पर ट्रैफिक पुलिस का जवान खड़ा किया, लेकिन वह वाहनों को रोक नहीं पाया। ब्रिज शुरू होने के बाद बढ़े वाहनों के फ्लो की वजह से बागसेविनयां क्रॉसिंग की और जाम की स्थिति बन रही है।

ब्रिज एक नजर

- 847.64 मीटर लंबाई है होशंगाबाद रोड से दानापानी की और तक

- 12 मीटर कुल चौड़ाई का तीन लेन का ब्रिज है
- 33 करोड़ रुपए में तैयार हुआ ब्रिज

- 2016 अगस्त में शुरू हुआ था काम

- 24 माह में काम पुरा करना था

- 7.5 मीटर रोड की चौड़ाई
- 4.5 मीटर चौड़ाई के दोनों और फुटपाथ

- 05 लाख लोगों को सीधा लाभ होगा

देवेंद्र शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned