बीएड का नहीं हुआ पेपर, नियुक्ति के लिए अयोग्य घोषित हो सकते हैं उम्मीदवार

ज्ञापन देकर की मांग, दिया जाए एक वर्ष का समय

By: praveen malviya

Published: 26 Jun 2020, 02:19 AM IST

भोपाल. उच्च माध्यमिक और माध्यमिक शिक्षक के पद पर होने वाली नियुक्तियां अधर में अटकती दिखाई दे रही हैं। उक्त पदों पर विज्ञप्ति के समय बीएड (बैचलर ऑफ एजुकेशन) छात्रों को अध्ययनरत को पात्र मानते हुए मौका दिया गया था। कोरोना वायरस संक्रमण के चलते बीएड के आखिरी सेमेस्टर का न तो प्रश्न-पत्र हुआ और ना ही परिणाम आया। इस पद के लिए अभ्यर्थी नियुक्ति के लिए पात्र हो गए हैं। ऐसी स्थिति में बीएड का परिणाम न आने पर शिक्षा विभाग द्वारा अयोग्य ठहराया जा सकता है।
ऐसे में बीएड में अध्ययनरत अभ्यर्थियों ने मांग की है कि उनकी जिन पदों पर नियुक्ति होने जा रही है, उनको अयोग्य घोषित कर नियुक्ति से वंचित न किया जाए। इसके लिए उन्हें एक वर्ष का समय दिया जाए, जिससे वे परिवीक्षाधीन अवधि में बीएड की डिग्री पूर्ण कर सकें।

तीन दिनों तक होगा दस्तावेजों का सत्यापन
बताया जाता है कि स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा उच्च माध्यमिक शिक्षक के पंद्रह हजार तथा माध्यमिक शिक्षक के पांच हजार 670 पदों पर नियुक्ति की कार्रवाई की जानी है। इसके लिए 29 जून से अभ्यार्थियों के दस्तावेजों के सत्यापन की कार्रवाई संभागीय संयुक्त संचालक तथा जिला शिक्षा अधिकारियों के माध्यम से शुरू की जा रही है। उम्मीदवारों के मूल दस्तावेजों का अवलोकन कर सत्यापन की सभी जवाबदेही संभागीय संयुक्त संचालक तथा जिला शिक्षा अधिकारी को सौंपी गई है। जुलाई माह से हर सप्ताह के बुधवार, गुरुवार और शुक्रवार को दस्तावेजों के सत्यापन किए जाएंगे।

praveen malviya Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned