कोरोना से जुड़ी इन झूठी खबरों और अफवाहों से रहें सावधान, फॉरवर्ड किया तो हो जाएगी जेल

मध्यप्रदेश समेत देशभर में अब तक सैकड़ों लोगों के खिलाफ मामले दर्ज हो चुके हैं

By: Tanvi

Updated: 27 Mar 2020, 12:33 PM IST

भोपाल/ इस समय पूरा विश्व कोरोना वायरस की चपेट में है और भारत में अब तक 700 पॉजिटिव मरीजों की संख्या सामने आ चुकी है। वहीं मध्यप्रदेश में कोरोना से संबंधित 26 मामले सामने आ चुके हैं। ऐसे में जहां सरकार, डाक्टर्स व एक्सपर्ट्स इस खतरनाक वायरस से बचने के लिए कई तरह के सुझाव व उपाय निकाल रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ कई लोग सोशल मीडिया पर झूठी अफवाहें फैला रहे हैं।

 

पढ़ें ये खबर- कोरोना को लेकर एक्पर्ट्स का बड़ा खुलासा, इन चीजों से नहीं फैलता वायरस, बचाव के लिये जरुरी ये तरीके

पत्रिका. कॉम आपसे अपील करता है की इन झूठी अफवाहों के बहकावे में बिलकुल भी ना आए और अपने धैर्य और विवेक से का मलें। अगर आपके सोशल अकाउंट्स पर ये जानकारी आती है तो इन पोस्ट को शेयर करने से बचें। किसी भी ग्रुप में आने वाले मैसेज को आगे फारवर्ड करते समय हमेशा ये याद रखें की अफवाह फैलाना एक जुर्म है और अपवाह फैलाने वाले को सजा भी हो सकती है। फिलाहल मध्यप्रदेश समेत देशभर में अब तक सैकड़ों लोगों के खिलाफ मामले दर्ज हो चुके हैं।

 

पढ़ें ये खबर- Coronavirus symptoms: खाने में स्वाद नहीं आ रहा तो हो सकता है कोरोना, खुद को करें सेल्फ आइसोलेट

इन झूठी खबरों से सावधान

- जिओ का 498/- का फ्री रीचार्ज
सच्चाई – कंपनी द्वारा ऐसा कोई दावा नहीं किया है।

– एक कपल की तस्वीर जो 134 पीड़ितों का इलाज करने के बाद संक्रमण का शिकार हो गए।
सच्चाई – यह तस्वीर किसी डॉक्टर कपल की नहीं है, बल्कि एयरपोर्ट पर खड़े एक जोड़े की है।

- कोविड 19 कोरोना की दवा मिल गई है।
सच्चाई – यह कोविड 19 की दवा नहीं है, बल्कि एक जांच किट है।

- कोरोना वायरस का जीवन 12 घंटे तक है।
सच्चाई – कोरोना वायरस का जीवन 3 घंटे से 9 दिन तक है।

- रूस में 500 शेर सड़कों पर।
सच्चाई – यह एक फिल्म का सीन है।

- इटली की ताबूत वाली तस्वीर।
सच्चाई – यह 7 साल पुराने एक हादसे की तस्वीर है, इस तस्वीर का कोरोना से को लेना-देना नहीं है।

- कई लाशों वाली इटली शहर की तस्वीर।
सच्चाई – एक फिल्म कांटेजिअन का सीन है।

- कई लोग जमीन पर पड़े सहायता के लिए चिल्ला रहे हैं।
सच्चाई – वर्ष 2014 के एक आर्ट प्रोजेक्ट की तस्वीर है।

- डॉ रमेश गुप्ता की किताब जंतु विज्ञान में कोरोना का इलाज है।
सच्चाई – यह झूठ है, डॉ रमेश गुप्ता के पास कोई इलाज नहीं है।

- मेदांता हास्पिटल के डॉ नरेश त्रेहान की नेशनल इमर्जेंसी की अपील।
सच्चाई – डॉ त्रेहान ने ऐसी कोई भी अपील नहीं की है।

ये जानकारी अलग-अलग सोर्स द्वारा ली गई है। इन अफवाहों से बचकर रहें, हमारी इस जानकारी को देने के पीछे यही मकसद है की आप इन झूठी अफवाहों के बहकावे में ना आएं। सरकार व डॉक्टर्स द्वारा बताए गए निर्देशों का पालन करें और घर में रहें, सतर्क रहें।

coronavirus Coronavirus Outbreak How do you treat coronavirus?
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned