scriptBhopal coming from Russia and Siberia after traveling 12 thousand km | 12 हजार किमी का सफर कर रूस और साइबेरिया से यहां आ रहे प्र‌वासी पक्षी, 280 सुंदर प्रजातियां देती हैं दिखाई | Patrika News

12 हजार किमी का सफर कर रूस और साइबेरिया से यहां आ रहे प्र‌वासी पक्षी, 280 सुंदर प्रजातियां देती हैं दिखाई

गर्मी के मौसम में भी प्रवासी पक्षी भोपाल में बना रहे ठिकाना

भोपाल

Published: May 13, 2022 11:26:14 pm

भोपाल. राजधानी और आसपास के तालाबों को प्रवासी पक्षियों ने अपना आशियाना बना लिया है। पक्षी विशेषज्ञों के अनुसार प्रतिवर्ष प्रवास पर आने वालों पक्षियों की संख्या बढ़ती जा रही है। सबसे ज्यादा पक्षी सर्दियों के सीजन में यहां आमद देते हैं। ये शर्मीले पक्षी अपने आसपास मानव का दखल पसंद नहीं करते। तालाबों में पर्याप्त भोजन मिलने से गर्मियों में भी बड़ी संख्या में पक्षी यहां प्रवास कर आ रहे हैं। हाल ही में हुई गणना में अकेले बोरवन में ही 60 प्रजातियों को चिन्हित किया गया। वहीं, करीब छह साल बाद यहां हिमालय में पाया जाने वाला टिकेल्स थ्रश दिखाई दिया था।

jt_bird.jpg

दक्षिण अफ्रीका की कोयल यहां चहक रहीं
भोपाल बड्र्स के मोहम्मद खलिक के अनुसार यहां रफ, ब्लैक टेल्ड गोडविट, स्पॉटेड रेड शेंक, पेंटेड स्टोर्क, सारस क्रेन, ओरिएंटल प्रेंटिकोल, स्पॉट बिल डक, कोंब डक, कूट आदि स्थानीय प्रवासी पक्षी दिखाई दे रहे हैं, जो गर्मी में प्रवास करते हैं। ब्लू टेल्ड बी ईटर म्यांमार तथा दक्षिण पूर्व एशिया में पाए जाते हैं। हालांकि, ये हर साल यहां प्रवास पर नहीं आते। वहीं, पैराडाइस फ्लाईकैचर मप्र का राज्य पक्षी है लेकिन ये दक्षिण से प्रवास कर आता है। यह मई से अगस्त तक देखा जा सकता है। इतना ही नहीं कोयल की प्रजातियां इंडियन कुकु, यूरेशियन कुकु, ग्रे बेलीड कुकु, एशियाई कोयल भी यहां आ रही है। पाईड क्रेस्टेड या जेकोबीन कुकु को यहां जून से सितम्बर तक देखा जा सकता है। यह दक्षिण अफ्रीका से आती है।

jt_jacobin_cuckoo.jpgजलभराव क्षेत्र में अतिक्रमण से खतरा
पक्षी विशेषज्ञ सुदेश वाघमारे का कहना है कि प्रवासी पक्षी पानी, खाना और सुरक्षा देखकर अपना ठिकाना बनाते हैं। बड़ा तालाब के आसपास लगातार निर्माण कार्य किए जा रहे हैं, इससे यहां के वातावरण धीरे-धीरे पक्षियों के प्रतिकूल होता जा रहा है। तालाब में भी मानवीय गतिविधियां बढ़ने से प्रवासी पक्षियों को परेशानी होती है। यदि यहीं स्थितियां रहीं तो धीरे-धीरे इनकी संख्या कम होने लगेगी। वहीं, खलिक का कहना है कि बड़ा तालाब के साथ कलियासोत, केरवा, हताईखेड़ा, वन विहार में बड़ी संख्या में प्रवासी पक्षी देखे जा रहे हैं। यहां ब्लैक रेड स्टार्ट, ब्लू थ्रोट, बूटेड वार्बलर, रेड हेडेड बंङ्क्षटग, ग्रे हेडेड बटिंग नजर आ रहे हैं। ये पक्षी रूस, साइबेरिया, चीन के साथ मंगोलिया और दक्षिण पूर्व एशिया से पहुंचते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

नाइजीरिया के चर्च में कार्यक्रम के दौरान मची भगदड़ से 31 की मौत, कई घायल, मृतकों में ज्यादातर बच्चे शामिल'पीएम मोदी ने बनाया भारत को मजबूत, जवाहरलाल नेहरू से उनकी नहीं की जा सकती तुलना'- कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मईमहाराष्ट्र में Omicron के B.A.4 वेरिएंट के 5 और B.A.5 के 3 मामले आए सामने, अलर्ट जारीAsia Cup Hockey 2022: सुपर 4 राउंड के अपने पहले मैच में भारत ने जापान को 2-1 से हरायाRBI की रिपोर्ट का दावा - 'आपके पास मौजूद कैश हो सकता है नकली'कुत्ता घुमाने वाले IAS दम्पती के बचाव में उतरीं मेनका गांधी, ट्रांसफर पर नाराजगी जताईDGCA ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपए का जुर्माना, विकलांग बच्चे को प्लेन में चढ़ने से रोका थापंजाबः राज्यसभा चुनाव के लिए AAP के प्रत्याशियों की घोषणा, दोनों को मिल चुका पद्म श्री अवार्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.