भोपाल के तत्कालीन स्टेशन प्रबंधक और 44 कर्मचारियों की तत्परता से बची थी हजारों लोगों की जान, भोपाल से पहले ही रोक दी थी ट्रेनें

भोपाल गैस त्रासदी में शहीद हुए रेलवे कर्मचारियों को श्रद्धांजलि: बीना और इटारसी की तरफ से आने वाली दो दर्जन ट्रेनों को भोपाल आने से पहले ही रोक दिया गया था, जिससे उन ट्रेनों में सवार हजारों यात्रियों की जान बच गई।

भोपाल. गैस त्रासदी की 35वीं बरसी पर रेलवे के अधिकारियों ने भोपाल मुख्य रेलवे स्टेशन पर स्थापित शहीद स्मारक पर त्रासदी में मारे गए लोगों और रेलवे के अधिकारी व कर्मचारियों को श्रदांजलि आर्पित की। पुष्प माला चढ़ाने के बाद कुछ मिनट का मौन रखा गया। इस त्रासदी में रेलवे के तत्कालीन भोपाल स्टेशन के प्रबंधक हरीश धुर्वे और अन्य 44 रेल कर्मचारी अपनी जान जोखिम में डालकर मुंह पर कपड़ा बांधकर ड्यूटी पर डटे रहे, ताकि बीना और इटारसी की तरफ से आने वाली ट्रेनों को भोपाल पहुंचने से पहले ही रोका जा सके। बीना की तरफ से आने वाली ट्रेनों को सलामतपुर, विदिशा तथा इटारसी की तरफ से आने वाली ट्रेनों को मिसरोद, मंडीदीप, औबेदुल्लागंज व बुदनी के आसपास रोक दिया गया। इस तरह दो दर्जन ट्रेनों को भोपाल आने से पहले ही रोक दिया गया, जिससे उन ट्रेनों में सवार हजारों यात्रियों की जान बच गई। उक्त ट्रेनों को सही समय पर नहीं रुकवाया गया होता तो भोपाल पहुंचने के बाद इन ट्रेनों में सवार हजारों यात्री जहरीली गैस की चपेट में आ जाते।

हरीश धुर्वे अपना फर्ज निभाते हुए उसी रात शहीद हो गए थे
भोपाल स्टेशन के तत्कालीन प्रबंधक हरीश धुर्वे अपना फर्ज निभाते हुए उसी रात शहीद हो गए थे, जबकि बाकि 44 कर्मचारियों में से कुछ कर्मचारी त्रासदी के एक सप्ताह बाद और कुछ कर्मचारीगण सालों के इलाज के बाद शहीद हो गए। इन सभी की याद में पश्चिम मध्य रेल के भोपाल स्टेशन परिसर में स्मारक बनाया गया है, जिसमें सभी 45 कर्मचारियों के नाम का उल्लेख है। इस दौरान अपर रेल मंडल प्रबंधक अजीत रघुवंशी, वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक अनुराग पटेरिया व अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

योगेंद्र Sen Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned