कुत्तों से बचने झुग्गी पर कूदी गाय, शेड तोड़ती हुई खाना खाते ५ साल के बच्चे पर गिरी, मासूम की मौत

कुत्तों-मवेशियों का आतंक: कोलार स्थित दामखेड़ा में परिवार के साथ घर पर था मासूम, आसमान से आई मौत

By: manish kushwah

Published: 03 Jan 2020, 01:15 AM IST

भोपाल. कोलार क्षेत्र में कुत्तों के आतंक से हुए हादसे में एक मासूम की जान चली गई। बुधवार शाम सवा सात बजे दामखेड़ा ए-सेक्टर में कुत्तों के झुंड से बचने के लिए एक गाय ने तीस फीट भागने के बाद तराई में बनी झुग्गियों के टीन शेड पर छलांग लगा दी। गाय एक घर के कमजोर शेड को तोड़ती हुई नीचे खाना खा रहे पांच साल के मासूम पर जा गिरी। खाना खिला रहे पिता के सामने उनके इकलौते बेटे की दर्दनाक मौत हो गई। घटना जिस जगह हुई, वहां झुग्गियां सड़क किनारे गड्ढे में बनाई गई हैं।
दामखेड़ा निवासी पेशे से मिस्त्री विष्णु नवरंग का पांच साल का बेटा लक्ष्य केजी-१ में पढ़ता था। बुधवार शाम विष्णु, पत्नी और बेटा-बेटी के साथ घर पर ही थे। पत्नी ने बेटे और पति को खाना दिया। बेटी पास ही में पलंग पर बैठी थी। इसी दौरान घर का टीन शेड तोड़ती हुई एक गाय नीचे इन पर आ गिरी। मासूम लक्ष्य गाय के नीचे दब गया। उसके मुंह और नाक से खून निकलने लगा। परिजन उसे तुरंत ही अस्पताल लेकर पहुंचे। तब तक काफी देर हो चुकी थी। हादसे में गाय भी घायल हुई, जो थोड़ी देर बाद मौके से चली गई।

बेबस पिता की पीड़ा: आंखों के सामने मौत
ने मेरे इकलौते लाल को छीन लिया...
शाम को करीब सवा सात बजे का समय रहा होगा... मैं, पत्नी और बेटा-बेटी घर पर ही थे। बेटे ने खाना मांगा। मां ने खाना दिया। इसके बाद मैं जमीन पर बैठकर बेटे को खाना खिला रहा था, बेटी बिस्तर पर बैठी थी। पत्नी पास के कमरे में थी। इसी बीच अचानक तेज आवाज आई। ऐसा लगा कि घर पर कोई जहाज गिर गया हो। मेरी आंख बंद हो गई। आंख खुली तो बेटे के ऊपर गाय पड़ी थी। मेरी आंखों के सामने इकलौते बेटे की जान चली गई। मैं कुछ नहीं कर सका...
-विष्णु नवरंग, मृतक बच्चे के पिता

पिता लाए थे केक, आधा ही खा पाया
नए साल पर लक्ष्य ने पिता से केक मंगाया था। दोपहर में भाई-बहन ने कुछ केक खाया था। बाकी शाम के लिए रखा दिया। इससे पहले हादसा हो गया। शाम को लक्ष्य ने पिता से खाने-पीने का और भी सामान मंगाया था।
जन्मदिन पर गिफ्ट लाने कहता था मासूम
परिजनों ने बताया कि लक्ष्य का 23 फरवरी को जन्मदिन है। वह इसे धूमधाम से मनाने और अच्छा गिफ्ट लाने की याद रोजाना पिता को दिलाता था। मासूम की मौत के बाद से मोहल्ले में मातम
पसरा है।

तीस फीट तक छत पर दौड़ती रही गाय
दामखेड़ा ए-सेक्टर की बस्ती गड्ढे में बनी हुई है। उसके बगल की जमीन का ऊपरी हिस्सा (टीलानुमा) मकानों की छत के बराबरी का है। ऐसे में बस्ती की छत व ऊपरी जमीन का हिस्सा समान होने से जब कुत्तों के झुंड ने गाय पर हमला किया, तो वह बचने की लिए जमीन के ऊपरी हिस्से की तरफ भागते हुए बस्ती की छत की तरफ दौड़ पड़ी। करीब तीस फीट तक भागते हुए गाय नवरंग के मकान की छत पर पहुंचकर टीन शेड से नीचे गिर गई। टीन शेड के नीचे पांच साल का लक्ष्य खाना खा रहा था।

manish kushwah Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned