रेल मंत्री ने राजधानी को दिया ये तोहफा, कहा - रोज चलेगी शिप्रा एक्सप्रेस

रेल मंत्री ने राजधानी को दिया ये तोहफा, कहा - रोज चलेगी शिप्रा एक्सप्रेस

KRISHNAKANT SHUKLA | Publish: Apr, 17 2018 10:59:07 AM (IST) Bhopal, Madhya Pradesh, India

रेल मंत्री बोले- कमियां दूर कर जीतना होगा यात्रियों का भरोसा

भोपाल. इंदौर-हावड़ा शिप्रा एक्सप्रेस टे्रन अब रोजाना चलेगी। यह अभी सप्ताह में तीन दिन चलती है। इसमें पेंट्री कार भी होगी। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने सोमवार को 63वें रेल सप्ताह राष्ट्रीय पुरस्कार समारोह में यह सौगात प्रदेश को दी। इस अवसर पर 183 रेल कर्मचारी-अधिकारियों को पुरस्कृत किया गया। पहली बार दो नए पुरस्कारों बेस्ट ‘ट्रांसफार्मेशन इनीशिएटिव अवार्ड’ और ‘बेस्ट चेंज एजेंट अवार्ड’ की शुरुआत की गई। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा भी मौजूद थे।

भय में काम करते हैं निचले कर्मचारी, सूचना दें तो रुक सकती हैं दुर्घटनाएं

रेलवे को कमियों को दूर करते हुए लोगों का भरोसा जीतना होगा। रेलवे के १३ लाख अधिकारी-कर्मचारी उसकी ताकत हैं। ये बातें रेलमंत्री पियूष गोयल ने भोपाल में आयोजित रेल सप्ताह राष्ट्रीय पुरस्कार समारोह के अवसर पर कही। इस मौके पर 183 अधिकारी-कर्मचारियों को पुरस्कृत भी किया गया। रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने कहा कि निचले कर्मचारी भय में काम करते हैं, जिसकी वजह से वे रिपोर्ट नहीं करते। वे सोचते हैं कि कहीं उनकी सीआर खराब न हो जाए। कर्मचारी भय छोड़ें, सूचनाएं दें, रिपोर्ट आगे देंगे तो रेलवे और सुरक्षित होगी।

रेलमंत्री ने समय का जिक्र करते हुए कहा कि स्विटजरलैंड में तो कहा जाता है कि रेल की टाइमिंग से लोग घड़ी मिलाते हैं। हमें यहां भी लोगों का भरोसा जीतना है। रेल राज्यमंत्री ने कहा कि अब तो तकनीक विकसित हुई है, अब आसानी से देखा जा सकता है कि हम कहां चूक रहे हैं। इसे आसानी से सुधारा जा सकता है।

देश को जोड़ती है रेलवे: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि रेल के सफर में जो आनंद है वह और कहीं नही है। रेल देश का जोड़ती है। कांग्रेस सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि पहले मध्यप्रदेश की रेल सेवाआें के लिए मुश्किल से ४०० करोड़ मिलते थे, अब मोदी सरकार में इस साल ६ हजार करोड़ मिले हैं।

रेलवे के अधिकारी कर्मचारी पुरस्कृत

विधान सभा के मानसरोवर हॉल में सोमवार को आयोजित ६३वें रेल सप्ताह राष्ट्रीय पुरस्कार समारोह में पश्चिम मध्य रेलवे के चार कर्मचारियों सहित ११३ रेलकर्मचारियों को रेल अवार्ड प्रदान किए गए। रेलमंत्री पियूष गोयल, रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा और मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने संयुक्त रूप से कर्मचारियों को ये रेल पुरस्कार प्रदान किए। इस दौरान चेयरमैन रेलवे बोर्ड अश्विनी लोहानी व सचिव रेलवे बोर्ड रजनेश सहाय भी उपस्थित रहे। पश्चिम मध्य रेलवे को सिक्योरिटी और स्वास्थ्य सेवाओं के लिए भी रेलमंत्री शील्ड प्रदान की गई।

इंदौर से भोपाल तक विंडो इंस्पेक्शन
इसके पहले भोपाल आने के दौरान रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने इंदौर से बैरागढ़ तक ट्रैक का विंडो इंस्पेक्शन भी किया। रेल अधिकारियों से इसके संबंध में जानकारी ली। रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्वनी लोहानी, जीएम पमरे गिरीश पिल्लई आदि के साथ बैरागढ़ स्टेशन का निरीक्षण करने भी पहुंचे।


इन कर्मचारियों को मिला रेल अवार्ड
नाम - पद - जोन
लवकुश कुमार कंचन - सीनियर सेक्शन इंजीनियर - पमरे
मीनष गुप्ता सीनियर - डिवीजनल इंजीनियर - पमरे
ओम प्रकाश सिंह - चीफ यार्ड मास्टर - पमरे
राहुल जयपुरिया - डिवीजनल इंजीनियर - पमरे

मप्र से रेलवे में दो नए पुरस्कारों की शुरुआत
भोपाल में आयोजित ६३वें रेल अवार्ड आयोजन के दौरान दो नए पुरस्कारों की शुरुआत रेलवे ने की है। पहली बार इन पुरस्कारों को वितरित किया जा रहा है। इसमें बेस्ट ट्रांसफार्मेशन इनीशिएटिव अवार्ड और बेस्ट चेंज एजेंट अवार्ड शामिल हैं। बेस्ट ट्रांसफार्मेशन इनीशिएटिव के प्रथम एवं द्वितीय अवार्ड जीएम एससीआर वीके यादव व जीएम आईसीएफ सुधांशु मणी को मिला। वहीं बेस्ट चेंज एजेंट अवार्ड डीआरएम जपुर सौम्या माथुर, डीआरएम पालघाट नरेश लालवानी, डीआरएम इलाहाबाद एसके पंकज और डीआरएम वल्तायर एमएस माथुर को दिया गया।

वर्चुअल रियालिटी से देखा स्टेशन

वल्र्ड क्लास स्टेशन के रूप में डेवलप किए जा रहे हबीबगंज रेलवे स्टेशन के काम को तारीफ के साथ काम कर रही संस्था को नसीहत भी मिली है। रेलमंत्री पीयूष गोयल ने सोमवार को रेल अवार्ड कार्यक्रम के बाद हबीबगंज स्टेशन पर चल रहे स्टेशन के काम का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने भविष्य में बनने वाले स्टेशन को वर्चुअल रियालिटी सिस्टम के जरिए देखा। कार्यक्रम समाप्ति के पश्चात लगभग 7.30 बजे के करीब वे हबीबगंज स्टेशन पहुंचे। यहां प्लेटफ ार्म न ंबर-1 की तरफ मुख्य गेट पर डेवलपर कंपनी द्वारा लगाए गए स्टाल पर रुके।

यहां पर उन्होंने वर्चुअल रियालिटी सिस्टम के जरिए प्रोजेक्ट को समझा और काम की तारीफ की। वहीं प्लेटफ ार्म-1 के इटारसी छोर की तरफ फ ुट ओवर ब्रिज पर चढक़र मल्टी बिल्डिंग के काम की प्रगति देखी। यहां पर उन्होंने 16 रंगों से चमक रही स्टेशन बिल्डिंग के बारे में इंडियन रेलवे स्टेशन डेवलपमेंट कार्पोरेशन के सीईओ संजीव लोहिया से भी चर्चा की। वे यहां पर लगभग २० मिनट रुके।
इसके पहले रेल राज्य मंत्री मनोज सिंहा ने भी स्टेशन का निरीक्षण किया। उन्होंने भी प्लेटफार्म नंबर एक का निरीक्षण किया। यहां की व्यवस्थाओं की जानकारी ली। इसके बाद भोपाल एक्सप्रेस से दिल्ली के लिए रवाना हो गए।

Ad Block is Banned