पांच पहाड़ियों से घिरा है ये शहर, विदेश से कम नहीं ये तस्वीरें, कुछ रोचक फैक्ट्स आपको खींच लाएंगे यहां

ये तस्वीरें बताती हैं कि भोपाल दुबई, मॉरिशस, बैंकॉक, सिंगापुर जैसी विदेशी खूबसूरतियों से कम नहीं हैं...

By: Ashtha Awasthi

Published: 01 Jul 2019, 02:20 PM IST

भोपाल। पांच पहाडिय़ों पर बसा नवाबी तहजीब का शहर भोपाल कितना खूबसूरत हो सकता है, इसकी जितनी कल्पना की जाए कम होगी। यहां आकर आप प्रकृति के बेहद करीब महसूस करते हैं। इन दिनों सोशल मीडिया पर भोपाल के कद्रदानों ने कुछ ऐसी ही तस्वीरें शेयर की हैं, जो कभी प्रकृति प्रेमी ने क्लिक की होंगी...ये तस्वीरें बताती हैं कि भोपाल दुबई, मॉरिशस, बैंकॉक, सिंगापुर जैसी विदेशी खूबसूरतियों से कम नहीं हैं। इन तस्वीरों में भोपाल की खूबसूरती ( bhopal tourism ) के साथ हम आपको बता रहे हैं एमपी की राजधानी भोपाल के रोचक नाम...इन्हें देखकर जानकर आप जरूर कहेंगे चलते हैं भोपाल...

speciality of bhopal

पांच पहाडिय़ों का शहर

भोपाल पांच पहाडिय़ों पर बसा है ईदगाह हिल्स, अरेरा हिल्स, श्यामला हिल्स, कटारा हिल्स, द्रोणाचल नेवरी हिल्स।

झीलों की नगरी

भोपाल को झीलों की नगरी कहा जाता है। इसका कारण यहां निर्मित छोटी-बड़ी कई झीलें हैं। पर मुख्यत: राजा भोज द्वारा बनवाई गई बड़ी झील या बड़ा तालाब सबसे खूबसूरत और मशहूर स्पॉट है। तो छोटी झील या छोटा तालाब दूसरी फेमस झील है। इनके अलावा शाहपुरा लेक, मोती मस्जिद के पास स्थित झील आदि।

speciality of bhopal

नंबर वाला शहर

भोपाल विश्व का एकमात्र ऐसा शहर है, जो नंबरों पर चलता है। यहां जगहों के नाम का आधार सिर्फ उनका नंबर है। वे उन्हीं नंबर से ही इनकी पहचान होती है। यहां एक नंबर दो नंबर से लेकर 10 नंबर, साढ़े 10 नंबर, 11 नंबर, साढ़े 11 नंबर जैसे नाम वाले कई स्पॉट्स हैं।

speciality of bhopal

ये भी हैं खासियत

- भोपाल की सबसे बड़ी मस्जिद का नाम ताज-उल-मसाजिद है। आपको बता दें कि ये केवल भोपाल की नहीं बल्कि पूरे एशिया में सबसे बड़ी मस्जिद है। जिसे देखने देश-विदेश से लोग यहां आते हैं।

- एशिया की सबसे छोटी मस्जिद का तमगा भी भोपाल के ही नाम है। ढाई सीढ़ी की ये मस्जिद भी नवाबों ने ही बनवाई थी।

- इसके अलावा यहां जामा मस्जिद लक्ष्मीनारायण मंदिर, बिड़ला संग्रहालय, शौकत महल और सदर मंजिल, भारत-भवन, इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय, राजकीय संग्रहालय, गांधी भवन, वन विहार, चौक, बड़ी और छोटी झील, मछली घर आदि पर्यटन स्थल हैं।

speciality of bhopal

- यही नहीं भोपाल से 10-20 किलोमीटर की दूरी पर प्राकृतिक नजारों से सम्पन्न ऐसे स्थल भी हैं, जहां जाकर आप खुद को प्रकृति के बेहद करीब महसूस करते हैं।

- प्राकृतिक खूबसूरती के साथ ही यहां की शांति आपको सुकून से भर देती है। धार्मिक स्थलों के साथ ही यहां के प्राकृतिक शांत नजारे आपको अध्यात्म की ओर भी आकर्षित करते हैं।

speciality of bhopal

कैसे पहुंचे

वायु मार्ग

दिल्ली, ग्वालियर, इंदौर और मुंबई से भोपाल के लिए नियमित विमान सेवा है।

रेल मार्ग

भोपाल, दिल्ली-मद्रास मेन लाईन पर है। मुंबई से इटारसी और झांसी के रास्ते दिल्ली जाने वाली मुख्य गाडिय़ां भोपाल होकर जाती हैं।

सड़क मार्ग

भोपाल तथा इंदौर, मांडू, उज्जैन, खजुराहो, पचमढ़ी, ग्वालियर, सांची, जबलपुर और शिवपुरी के बीच नियमित बस सेवाएं हैं।

यहां ठहरें

मध्यप्रदेश पर्यटन विकास निगम के होटल तथा निजी होटल हैं। यह आपके बजट के अंदर भी हैं और लग्जरी होटल्स की सुविधाएं भी बेहतरीन हैं।

ये हैं फेमस फूड

अगर आप भोपाल की नवाबी संस्कृति का भरपूर मजा लेना चाहते हैं तो नवाबी पकवानों का मजा भी मिलेगा। लेकिन यहां आपको नवाबी ही नहीं, राजस्थानी, गुजराती, साउथ इंडियन, चाइनीज फूड भी आसानी से मिल जाता है। हां लेकिन यहां की ईरानी चाय पीना न भूलें, नमक वाली ये चाय आपको हमेशा याद रहेगी।

Show More
Ashtha Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned