Breaking: खाली हुआ खजाना, सरकार ने रोका लाखों कर्मचारियों का पैसा

Breaking: खाली हुआ खजाना, सरकार ने रोका लाखों कर्मचारियों का पैसा
madhya pradesh employee Dearness Allowance

Manish Geete | Publish: Jan, 22 2019 01:51:03 PM (IST) | Updated: Jan, 22 2019 01:51:04 PM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

Breaking: खाली हुआ खजाना, सरकार ने रोका लाखों कर्मचारियों का पैसा

 

भोपाल। मध्यप्रदेश की कांग्रेस सरकार ने अपने कर्मचारियों को मिलने वाला महंगाई भत्ता रोक दिया है। सरकार कर्मचारियों का बढ़ा हुआ महंगाई भत्ता देने की स्थिति में नहीं है। कमलनाथ सरकार के मुताबिक सरकार का खजाना फिलहाल खाली है, उसे वेतन तक पूरा देने में कठिनाई आ रही है। मंगलवार को जैसे ही ये खबर आई कर्मचारियों में सरकार के प्रति नाराजगी बढ़ गई है।

मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार ने सरकार के खजाने की खराब हालत का जिक्र करते हुए 2018 की दूसरी छमाही का बढ़ा हुआ महंगाई भत्ता (DA) रोक दिया है। बताया जा रहा है कि 1.80 लाख करोड़ रुपए के कर्ज में डूबे सरकार के पासस सरकारी कर्मचारियों को पूरा वेतन देने तक का पैसा नहीं बचा है।

 

 

मध्यप्रदेश के लाखों ककर्मचारी लगातार दो प्रतिशशत महंगाई भत्ता बढ़ाने की मांग कर रहे हैं। उधर, किसानों की कर्जमाफी में जुटी सरकार के पासस फिहाल पैसा ही नहीं बचा है। प्रदेश में लगभग 4.5 लाख कर्मचारियों का डीए 7 से बढ़ाकर 9 फीसदी करने के लिए सरकार को 500 करोड़ की जरूरत होगी। उधर, कमलनाथ सरकार के सत्ता में आते ही सरकारी खजाने की हालत लगातार खराब होती जा रही है।

 

नाराज हैं कर्मचारी संगठन
आमतौर पर राज्य भी भारत सरकार की घोषणा के बाद केंद्रीय कर्मचारियों के समान महंगाई भत्ता देता है। इस बार ऐसा नहीं हो सका। एक जुलाई 2018 से अभी तक सात फीसदी ही डीए मिल रहा है। कई कर्मचारी बढ़ा हुआ DA देने की मांग वित्त मंत्री से कर चुके हैं, लेकिन राज्य सरकार के पास खजाने का संकट आ गया है। पैसा नहीं बढ़ने से कर्मचारी संगठनों में सरकार के प्रति नाराजगी भी बढ़ रही है।

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned