scriptBig Disclosure on MP government schools | MP सरकारी स्कूलों पर खुलासा- कोरोना के दो साल में बच्चों का लर्निंग लॉस ज्यादा | Patrika News

MP सरकारी स्कूलों पर खुलासा- कोरोना के दो साल में बच्चों का लर्निंग लॉस ज्यादा

अजीम प्रेमजी फाउंडेशन और यूनिसेफ द्वारा प्रदेश के सरकारी स्कूलों पर किए अध्ययन में ये आया सामने

भोपाल

Published: June 21, 2022 02:24:57 pm

भोपाल@श्याम सिंह तोमर

कोरोना के दो साल प्रदेश के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले पहली से 8वीं तक के 66 लाख छात्र-छात्राओं के लिए किसी दंश से कम नहीं हैं। राज्य शिक्षा केंद्र (आरएसके) की तमाम कवायद और दावों के बाद भी नौनिहालों का लर्निंग लॉस नहीं रोका जा सका, जिसकी भरपाई के लिए अब नए सत्र से कवायद शुरू हो रही है। सत्र 2022-23 की शुरुआत 17 जून से हो चुकी है, जिसके लिए शेड्यूल को ऐसे डिजाइन किया गया है कि छात्र पिछली कक्षा और मौजूदा कक्षा दोनों की पढ़ाई एक साथ कर पाएं। आरएसके ने एनसीईआरटी की ओर से जारी वैकल्पिक अकादमिक कैलेंडर को आधार बनाकर पाठ्यक्रम बनाया है।

children_learning.png

दो संस्थानों ने अपने अध्ययन में यह पाया...
मध्यप्रदेश के स्कूली छात्र-छात्राओं पर अजीम प्रेमजी फाउंडेशन और यूनिसेफ ने अध्ययन किया। फाउंडेशन ने पाया कि कोविड के दौरान अधिकांश बच्चों में किसी न किसी तरह से मूलभूत दक्षता/ कौशल की हानि हुई है। इसका अर्थ हुआ कि जिस विषय को छात्र जानने-समझने और पढ़ने लगे थे, उसको भूल गए।

इसी तरह से यूनिसेफ ने पाया कि आंचलिक स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों और उनके माता-पिता के पास संसाधनों व डिजिटिल डिवाइस की कमी रही। आर्थिक तंगी के कारण वे डाटा पैक भी नहीं ले पाए, जिससे ऑनलाइन पढ़ाई के सिस्टम को अपना ही नहीं पाए।

आरएसके के प्रयास, जिनसे लर्निंग लॉस दूर होगा
आरएसके ने विद्यार्थियों में मूलभूत दक्षता की प्रतिपूर्ति के लिए शेड्यूल बनाया है। इसके लिए ‘एन माइनस वन’ फॉर्मूला लागू किया है। यानी मौजूदा कक्षा से निचली या पूर्व कक्षा की गतिविधियों को पढ़ाने के लिए सेतु/ ब्रिज पाठ्यक्रम बनाया है। कक्षा 1 और 2 के लिए मिशन अंकुर अंतर्गत एफएलएन केंद्रित अभ्यास पुस्तिका व कक्षा पाठ्यपुस्तक में मनोरंजक गतिविधियों को शामिल किया है। तीसरी से 8वीं कक्षा तक के लिए पाठ्यक्रम को तीन हिस्सों में बांटा है।

सत्र शुरू होने से 15 अगस्त तक दक्षता उन्नयन कार्यक्रम, 16 अगस्त से 31 अक्टूबर तक सेतु सामग्री और एक बूस्टर पीरियड होगा। वहीं 1 नवंबर से सत्र के अंत तक ‘एट ग्रेड’ यानी मौजूदा कक्षा के हिसाब से सामग्री पढ़ाई जाएगी। मालूम हो कि पिछले साल लर्निंग लॉस दूर करने के लिए प्रयास अध्यापन पुस्तिका छात्रों के घर तक पहुंचाई गई थी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Nashik News: कंबल में लेटाकर प्रेग्‍नेंट महिला को पहुंचाया गया हॉस्पिटल, दिल दहला देने वाला वीडियो हुआ वायरलबीजेपी अध्यक्ष ने LG को लिखा लेटर, कहा - 'खराब STP से जहरीला हो रहा यमुना का पानी, हो रहा सप्लाई'सलमान रुश्दी पर हमला करने वाले की ईरान ने की तारीफ, कहा - 'हमला करने वाले को एक हजार बार सलाम'58% संक्रामक रोग जलवायु परिवर्तन से हुए बदतर: प्रोफेसर मोरा ने बताया, जलवायु परिवर्तन से है उनके घुटने के दर्द का संबंध14 अगस्त स्मृति दिवस: वो तारीख जब छलनी हुआ भारत मां का सीना, देश के हुए थे दो टुकड़ेआरएसएस नेता इंद्रेश कुमार का बड़ा बयान, बापू की छोटी सी भूल ने भारत के टुकड़े करा दिएHimachal Pradesh: जबरदस्ती धर्म परिवर्तन करवाने पर होगी 10 साल की जेल, लगेगा भारी जुर्मानाDGCA ने एयरपोर्ट पर पक्षियों के हमले को रोकने के लिए जारी किया दिशा-निर्देश
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.