चुनाव को लेकर भोपाल में हुए दो फाड़, पढ़ें पूरी खबर

चुनाव को लेकर भोपाल में हुए दो फाड़, पढ़ें पूरी खबर

Deepesh Tiwari | Publish: May, 11 2019 09:09:50 AM (IST) | Updated: May, 11 2019 09:53:17 AM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

जो हिन्दुत्व को आतंक से जोड़े उसकी समाज में नहीं है जगह: भाजपा प्रत्याशी प्रज्ञा सिंह ठाकुर

भोपाल। 12 मई 2019 यानि रविवार को मध्यप्रदेश की राजधानी व देश की सबसे हॉट सीट भोपाल में मतदान होना है। इसी के चलते शुक्रवार शाम को यहां प्रचार खत्म हो गया।

देश की इस सबसे हॉट सीट पर जहां एक ओर कांग्रेस की ओर से पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह दांव लड़ा रहे हैं। वहीं भाजपा की ओर से साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर मैदान में है।


करीब तीन दशकों से भाजपा का किला बने इस भोपाल लोकसभा सीट में इस बार कड़ी टक्कर देखने को मिल रही है। एक ओर जहां नेता अपनी बातें जनता के सामने रख रहे हैं।

वहीं इसी दौरान भोपाल भी दो पक्षों में बंट सा गया है। इसी के चलते शुक्रवार को दिग्विजय सिंह और प्रज्ञा ठाकुर को समर्थन देने के मामले में गैस पीडि़त संगठन दो फाड़ हो गए हैं।

एक संगठन जहां कांग्रेस और दिग्विजय सिंह को गैस पीडि़तों का रहनुमां बता समर्थन देने की बात कर रहा है तो अन्य इससे सहमत नहीं हैं।

ये बोली भाजपा प्रत्याशी प्रज्ञा सिंह ठाकुर...
इससे पहले भाजपा प्रत्याशी प्रज्ञा सिंह ठाकुर शुक्रवार को वल्लभ भवन के सामने पार्क में सभा करने पहुंची। प्रज्ञा ने पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह पर हमला करते हुए कर्मचारियों से कहा कि आप भी उन से पीडि़त हैं, मैं भी।

यह देश भी परेशान है। अब हमें मिलकर उन्हें सबक सिखाना है।
प्रज्ञा ने कहा कि जो हिंदुत्व को आतंकवाद से जोड़ता है, सेना के पराक्रम पर सवाल उठाता है और देश तोडऩे वालों को सम्मान देता है, ऐसे व्यक्ति का समाज में कोई स्थान नहीं होना चाहिए।

दिग्विजय हर मौके का फायदा वोट बैंक को बढ़ाने के लिए करते हैं। उमाशंकर गुप्ता ने कहा कि कांग्रेस ने 14,000 दैवेभो को निकाल दिया था। प्रज्ञा शुक्रवार को संत हिरदाराम नगर में पहुंची और लोगों से समर्थन मांगा। प्रज्ञा ने मीडिया से कहा कि जिसने बेटी की उम्र की लड़की से शादी की हो, वो मेरे पिता समान नहीं हो सकते।

गौरतलब है कि गुरूवार को दिग्विजय सिंह ने प्रज्ञा को बेटी समान बताया था। उधर, शुक्रवार को प्रज्ञा के इस बयान पर दिग्विजय सिंह ने कहा कि मैं इस तरह की बातों का जवाब नहीं देता।

इधर, अनुष्ठान में दिग्विजय की मौजूदगी से कम्प्यूटर बाबा ने झाड़ा पल्ला...
वहीं सैफिया कॉलेज ग्राउंड पर कम्प्यूटर बाबा के हठयोग अनुष्ठान में कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह के पत्नी अमृता सिंह सहित शामिल होने के मामले में कम्प्यूटर बाबा ने अनभिज्ञता जताई है।


मंत्री आरिफ अकील के पहुंचने और पोस्टर लगाने को लेकर भी कुछ स्पष्ट नहीं किया है। बाबा के जवाब को सहायक निर्वाचन अधिकारी बैरागढ़ केके रावत ने जिला निर्वाचन अधिकारी को भेज दिया है।


दरअसल, कुछ दिन पहले सैफिया कॉलेज ग्राउंड पर कम्प्यूटर बाबा की तरफ से चंद्रशेखर रायकवार ने अनुमति ली थी। धार्मिक अनुष्ठान के नाम पर जारी हुई अनुमति में दिग्विजय सिंह उनकी पत्नी अमृता सिंह, मंत्री आरिफ अकील भी आए थे।

इससे कार्यक्रम राजनीतिक हो गया, कांग्रेस के पोस्टर भी लगाए गए थे। शिकायत के बाद कम्प्यूटर बाबा और आयोजक को नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया था।

दिग्विजय ने किया था प्रदेश का बंटाढार: शिवराज सिंह
शिवराज सिंह चौहान शुक्रवार को बैरसिया पहुंचे। यहां उन्होंने कहा हकि दिग्विजय सिंह ने पूरे प्रदेश का बंटाढार किया था।

गड्डों से भरी सड़कें अंधेरों में डूबा प्रदेश और बीमारू राज्य देकर गए थे। इससे पहले चौहान शहर में टीटी नगर स्टेडियम के सामने से गुजरे तो, उन्हें दुर्घटना में घायल व्यक्ति मिला। उन्होंने तत्काल अस्पताल भिजवाया।

 

ये कहा संजर ने...
सांसद आलोक संजर का टिकट कटने का दर्द आखिर छलक ही गया। शुक्रवार को फेसबुक अकाउंट पर उन्होंने लिखा कि कोई यह न समझे कि उनका टिकट काटा है। उन्होंने प्रज्ञा सिंह ठाकुर को टिकट देने की पैरवी की थी। इस पर संगठन में कोई मतभेद नहीं हुआ।

इधर प्रकाश जावड़ेकर बोले: 'कांग्रेस आतंकवाद को देती है मजहबी रंग'...

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है कि भाजपा ने कभी आतंकवाद को मजहब के आधार पर नहीं देखा, लेकिन कांगे्रस ने हमेशा मजहबी रंग देने की कोशिश की।

वे शुक्रवार को भोपाल में पत्रकारों से रूबरू हुए। उन्होंने कहा, दिग्विजय सिंह दिल्ली में बाटला हाउस कांड में शहीद सिपाही के घर नहीं गए, लेकिन आजमगढ़ एनकाउंटर में मरे आतंकवादी के घर सांत्वना देने पहुंचे। सोनिया गांधी को आतंकवादियों के मरने पर रात भर नींद नहीं आती।

राजीव गांधी के सहयोगी रहे सैम पित्रोदा ने कहा कि 1984 में सिंख दंगे हुए तो क्या हो गया। सोनिया व राहुल को इस मामले में माफी मांगनी चाहिए। जावड़ेकर ने कहा कि मप्र में कांग्रेस की एक्सीडेंटल सरकार है, जो वादा खिलाफी की सरकार के रूप में तब्दील हो गई है।

यहां भाजपा को भी सिर्फ तीन सीट का फासला है और कांगे्रस से डेढ़ लाख वोट ज्यादा मिले। जावड़ेकर ने प्रज्ञा ठाकुर के हेमंत करकरे को लेकर दिए बयान पर असहमति जताई। बोले कि महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडऩवीस ने इस पर जो टिप्पणी की वह सही है। भाजपा भी उनके बयान से सहमत है।

 

 


दिग्विजय और प्रज्ञा को लेकर दो फाड़...
वहीं दूसरी ओर दिग्विजय सिंह और प्रज्ञा ठाकुर को समर्थन देने के मामले में गैस पीडि़त संगठन दो फाड़ हो गए हैं। एक संगठन जहां कांग्रेस और दिग्विजय सिंह को गैस पीडि़तों का रहनुमां बता समर्थन देने की बात कर रहा है तो अन्य इससे सहमत नहीं हैं।

विवाद भोपाल गैस पीडि़त महिला उद्योग संगठन के संयोजक अब्दुल जब्बार ने शुक्रवार को कहा था, दिग्विजय ने छह लाख गैस पीडि़तों को भरोसा दिलाया है कि वह उनके सभी मुद्दों को सुलझाने का प्रयास करेंगे।

इधर, गैस पीडि़त संगठन की सदस्य रचना ढींगरा का कहना है कि एक व्यक्ति के कहने से सभी संगठन समर्थन न दें। हमने कांग्रेस का घोषणा-पत्र देखा है, उसमें गैस पीडि़तों के लिए कोई बात नहीं है। स्वयं दिग्विजय सिंह फर्जी बातें करते हैं। भाजपा के घोषणा-पत्र में भी पीडि़तों के लिए कुछ नहीं है। हम राजनैतिक संगठन नहीं है, हम किसी का समर्थन नहीं करते ।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned