'हनुमान जी की भक्ति' के लिए बीजेपी विधायक ने सिंधिया को लिखा था पत्र, कांग्रेस MLA ने दिया करारा जवाब

 

कांग्रेस विधायक प्रवीण पाठक ने रमेश मेंदोला को दिया ये जवाब


भोपाल/ कांग्रेस में चल रही खींचतान के बीच बीजेपी भी चुटकी ले रही है। ज्योतिरादित्य सिंधिया के नाम पर बीजेपी नेता भी कमलनाथ पर निशाना साध रहे हैं। इस बीच बीजेपी के वरिष्ठ विधायक ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को पत्र लिख उनसे हनुमान जी की शरण में जाने का आग्रह किया था। सिंधिया ने उनके पत्र का कोई जवाब नहीं दिया। मगर कांग्रेस विधायक ने बीजेपी एमएलए को पत्र के जरिए ही करारा जवाब दिया है।


दरअसल, इंदौर से बीजेपी विधायक रमेश मेंदोला ने उन्हें सोमवार को पत्र लिखा था। जिसमें लिखा था कि कांग्रेस के वचनपत्र की याद दिलाने पर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मीडिया के माध्यम से सार्वजनिक तौर पर आपके साथ जैसा व्यवहार किया वो दुखद और पीड़ादायी है। उससे आपकी पीड़ा का अंदाजा लगाया जा सकता है। हनुमान जी को कलयुन का जागृत देवता माना जाता है। हनुमान जी सबके संकट और पीड़ा हर लेते है। हनुमान चालीसा भी यही कहती है, संकट कटे मिटे सब पीरा-जो सुमरे हनुमत बलबीरा।

r.jpg

मुझे विश्वास है कि पीड़ा के इन क्षणों में हनुमान जी की भक्ति आपको शक्ति और साहस देगी। इस पत्र के माध्यम से मैं आपको इंदौर में श्री पितरेश्वर हनुमान धाम के प्राण प्रतिष्ठा समारोह में आमंत्रित करता हूं। कृपया अपने आने की पूर्व सूचना प्रेषित करें और हां, एक बात और ये आमंत्रण बहुत भाव से प्रेषित है, इसमें राजनीति या कोई और अर्थ मत तलाशिएगा।

कांग्रेस विधायक प्रवीण पाठक ने दिया जवाब
वहीं, मेंदोला के पत्र का जवाब कांग्रेस विधायक प्रवीण पाठक ने दिया है। उन्होंने लिखा कि सोशल मीडिया पर आपका पत्र देखा जो कि आपने जननायक, जनसेवक और भारत की सबसे पुरानी पार्टी के युवा तुर्क और वर्तमान भारतीय राजनीति की तरूणाई के प्रतीक, ज्योतिरादित्य सिंधिया जी को लिखा है। आपने पत्र को पवनसुत हनुमान जी के माध्यम से जो आध्यात्मिक कलेवर देने का असफल प्रयास किया है इससे आपकी स्वार्थी राजनैतिक महत्वकांक्षा की दुर्गंध आती है। माननीय सिंधिया जी न केवल मेरे बल्कि हमारे जैसे लाखों कार्यकर्ताओं की प्रेरणा और उर्जा का अक्षय स्त्रोत होने के साथ-साथ भारत के सांस्कृतिक, राजनैतिक और राष्ट्रीय बोध से ओतप्रोत विशाल ह्रदय के स्वामी हैं।

s.jpg

मुझे ज्ञात है कि माननीय सिंधिया जी, आपके इस धार्मिक-कम पाखंडपूर्ण शर्मनाक राजनैतिक पत्र का जवाब नहीं देंगे। किंतु मैं विनम्रता से अपनी बात जरूर कहूंगा। सच तो यह है कि सरकार और सिंधिया जी में कोई टकराव नहीं है, बल्कि जनता के प्रति दोनों ने गंभीर चिंता एवं चिंतन है, लेकिन आप नहीं समझेंगे क्योंकि पंद्रह वर्षों तक सतत् आपकी सरकार ने न केवल लूट कर प्रदेश को कंगाल करने में ही अपनी उर्जा का निवेश किया बल्कि प्रदेश को लगभग एक लाख तेरासी हजार करोड़ रुपये का कर्जदार भी बना दिया। यह प्रदेश की जनता से छुपा नहीं है। आपमें इतना साहस कहां कि आप एक चिट्ठी शिवराज जी को भी अवैध रेत खनन, व्यापम और नर्मदा पौधारोपण घोटाले पर भी हनुमान जी से शक्ति लेकर लिख देते।

BJP Jyotiraditya Scindia
Show More
Muneshwar Kumar
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned