शिवराज के लिए ये नेता बने 'संकटमोचक', कभी उमा भारती के रहे हैं खास

शिवराज के लिए ये नेता बने 'संकटमोचक', कभी उमा भारती के रहे हैं खास

harish divekar | Publish: Sep, 05 2018 03:32:36 PM (IST) Bhopal, Madhya Pradesh, India

सवर्ण समाज के कई संगठनों द्वारा खुलकर सामने आ जाने से सरकार के लिए एक बड़ा संकट...

भोपाल। चुनावों से ठीक पहले शुरू हुए सवर्णों के आंदोलन ने प्रदेश के कई नेताओं की नींद उड़कर रख दी है। दरअसल केंद्र सरकार द्वारा एससीएसटी एक्ट में किए गए संशोधन के चलते कई संगठन इन दिनों सड़क पर उतर आए हैं। वहीं इस बीच ओबीसी वर्ग के भी सवर्णों के समर्थन व सरकार के विरोध में आने से पार्टियों के आंकड़े बुरी तरह से गड़बड़ा गए हैं।

जानकारों का मानना है कि सरकार को ऐसे विरोध की आशा कभी नहीं थी, लेकिन अचानक सवर्ण समाज के कई संगठनों द्वारा खुलकर सामने आ जाने से सरकार के लिए एक बड़ा संकट खड़ा हो गया है।

एक तो सामने ही चुनाव हैं ऐसे में प्रमुख तबके के छिटकने का डर हर पार्टी को सताने लगा है। वहीं सवर्ण द्वारा भाजपा सहित कांग्रेस का विरोध दोनों पार्टियों के लिए बड़ी परेशानी का इशारा करता दिख रहा है। ऐसे में कई पार्टी के बड़े नेताओं तक को अपनी सीट जाती हुई दिख रही है।

चुनावों में होने वाले नुकसार से बचने के लिए पार्टियों ने अपने स्तर पर डेमेज कंट्रोल करने की शुरुआत भी कर दी है। इसी के तहत भाजपा ने ओबीसी सहित सवर्ण समाज को समझाने की कोशिशें तेज कर दी हैं।

पुराने नेता आए याद...
सामने आ रही जानकारी के अनुसार चुनावी साल में एससी-एसटी एक्ट के विरोध के बाद हुए डैमेज कंट्रोल करने के लिए बीजेपी को अब अपने पुराने दिग्गज और हाशिए पर चल रहे नेता याद आने लगे हैं। जिसके चलते पार्टी लगातार ऐसे नेता की खोज में लगी थी, जो सबके लिए मान्य हो।

अब सामने आ रही जानकारी के अनुसार संगठन की बैठकों से दूर रहने वाले एक ओबीसी नेता अब शिवराज सिंह चौहान के लिए 'संकटमोचक' बनकर उभरते दिख रहे हैं। ये हैं प्रह्लाद पटेल, जो कभी उमा भारती के खास रह चुके हैं।

ये सौंपी है जिम्मेदारी!
दरअसल, प्रह्लाद पटेल अब तक भाजपा में हाशिए पर चल रहे थे, लेकिन अब उनको पार्टी डैमेज कंट्रोल के लिए आगे करने की तैयारी में हैं।

बीजेपी सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक चुनाव से पहले ओबीसी वोटबैंक को साधने के लिए पार्टी प्रह्लाद पटेल को फुल पॉवर देने का मन बना चुकी है। प्रह्लाद पटेल उमा भारती के करीबी नेता माने जाते हैं।

दरअसल सूबे में ओबीसी वर्ग के सबसे बड़े नेता के रूप में प्रह्लाद पटेल माने जाते हैं। भाजपा सांसद प्रहलाद पटेल को सवर्ण और एससी-एसटी वर्ग के बीच मध्यस्थता करने की भी जिम्मेदारी सौंपी गई है। वहीं ओबीसी वोटबैंक को साधने के लिए बीजेपी आने वाले 10 सितंबर को सतना में ओबीसी महाकुंभ करने जा रही है।

Ad Block is Banned