भाजपा विधायकों का आरोप, अफसर जो देते हैं उसे ही पढ़ देते हैं मंत्री

अपनी ही सरकार को घेरा...

By: शिव शर्मा

Published: 13 Mar 2018, 08:02 AM IST

भोपाल. विधानसभा में सोमवार उस वक्त अजब स्थिति बन गई, जब सत्तापक्ष के सदस्यों ने आरोप लगाया कि उनके सवालों पर गलत जानकारी दी जा रही है। अफसर जो जवाब लिखकर दे देते हैं, मंत्री उसी को पढ़ देते हैं। जमीनी हकीकत उससे अलग होती है।

प्रश्नकाल में भाजपा की नीना वर्मा ने लेबड़ से मुलथान फोरलेन हाइवे ऊबड़-खाबड़ हो गया है। जिम्मेदार कंपनी टोल टैक्स वसूल रही है, लेकिन मेंटेनेंस नहीं करवा रही है। लोक निर्माण मंत्री रामपाल सिंह ने उनकी बात पर असहमति जताई। भाजपा के यशपाल सिंह सिसौदिया ने नीना का समर्थन किया।

गौर बोले, उद्यानिकी में हो रहा भ्रष्टाचार
पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर ने कहा कि उद्यानिकी विभाग में लाभार्थियों के नाम जोडऩे-घटाने में भ्रष्टाचार हो रहा है। सूची उजागर होनी चाहिए। कांग्रेस के विजय सिंह सोलंकी ने खरगोन में उद्यानिकी विभाग की योजनाओं से लाभांवितों की सूची मांगी तो सरकार ने संख्या थमा दी।

मंत्री नहीं दे पाए जवाब
भाजपा के कैलाश जाटव ने गोटेगांव क्षेत्र में मंडी बोर्ड से सड़क निर्माण का मामला उठाया। उन्होंने पूछा, काम किसकी अनुशंसा पर हुआ है। कृषि राज्यमंत्री बालकृष्ण पाटीदार के सटीक जवाब नहीं देने पर स्थिति बिगड़ी तो स्पीकर ने हस्तक्षेप किया।

 

अफसर के निलंबन का ऐलान
भाजपा के सूबेदार सिंह ने आरोप लगाया कि किसानों की अनुदान सूची फर्जी है। उन्होंने कैलारस एसएडीओ पर फर्जीवाड़े का आरोप लगाते हुए उन्हें हटाकर जांच कराने की मांग की। मंत्री जांच को तैयार थे, लेकिन अफसर को हटाने पर सहमत नहीं दिखे।

सूबेदार के अड़े रहने पर मंत्री ने अफसर को हटाने के निर्देश दिए। उधर, स्कूल शिक्षा से जुड़े सवाल पर भाजपा के आरडी प्रजापति ने आरोप लगाया कि अफसर दोषी पाए जाने के बाद भी नहीं हटाया जा रहे हैं। विधायक के आग्रह पर स्कूल शिक्षा मंत्री विजय शाह ने सदन में अधिकारी को निलंबित किए जाने का ऐलान किया।

BJP
Show More
शिव शर्मा Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned