मूल विभाग जाने को तैयार नहीं पानी के इंजीनियर, निगम में अब 2023 तक का बंदोबस्त

भोपाल. नगर निगम जलकार्य शाखा में कार्यरत पीएचई के इंजीनियर जेडए खान अपने मूल विभाग जाने को तैयार ही नहीं है। करीब दो माह पहले ही निगम में इनकी नियुक्ति का समय खत्म हो गया था, लेकिन ये यहां बने रहे।


भोपाल. नगर निगम जलकार्य शाखा में कार्यरत पीएचई के इंजीनियर जेडए खान अपने मूल विभाग जाने को तैयार ही नहीं है। करीब दो माह पहले ही निगम में इनकी नियुक्ति का समय खत्म हो गया था, लेकिन ये यहां बने रहे। अब शासन ने जुलाई 2023 तक भोपाल नगर निगम में ही इनकी पदस्थापना सुनिश्चित कर दी है। इसे लेकर अवर सचिव शिखा पोरस नरवाल ने निगमायुक्त को पत्र लिखकर निर्देशित किया है। गौरतलब है कि पीएचई के सहायक यंत्री खान को निगम में कार्यपालन यंत्री स्तर का दर्जा दिया गया है। वे प्रभारी कार्यपालन यंत्री के तौर पर यहां काम कर रहे हैं। निगम की जलकार्य शाखा के संविदा पर नियुक्त प्रभारी मुख्य अभियंता एआर पंवार ने भी निगम में ही रहते हुए सेवानिवृत्ति ले ली। इतना ही नहीं, पंवार सेवानिवृत्ति के बाद अब संविदा नियुक्ति से बीते करीब दो साल से निगम में प्रभारी चीफ इंजीनियर के तौर पर बने हुए हैं और हर छह माह में इन्हें एक्सटेंशन मिल रही है। पंवार को तो पानी के साथ हाउस फॉर ऑल का भी प्रभारी चीफ इंजीनियर बनाया हुआ है। इसी तरह पीएचई से निगम में आए अन्य इंजीनियर्स की भी ऐसी ही स्थिति है।
-------------------------------------------------------------
भवन अनुज्ञा में बदले प्रभार
भोपाल. नगर निगम भवन अनुज्ञा शाखा में इंजीनियरों के प्रभारों में मंगलवार को बदलाव किया गया। यीशु मंडरोई को भवन अनुज्ञा व सिविल जोन क्रमांक 18 का दायित्व दिया। इन्हें भवन अनुज्ञा जोन सात के दायित्व से मुक्त कर दिया गया है। इसी तरह अमित दुबे को भवन अनुज्ञा शाखा जोन क्रमांक सात व 19 का दायित्व दिया गया। सुरभि सक्सेना को अवैध कॉलोनी प्रकोष्ठ के साथ जोन क्रमांक दस भवन अनुज्ञा का दायित्व दिया गया है।
-----------------------------------------------------
जनसुनवाई: पहले दिन आए आठ आवेदन
भोपाल. नगर निगम में जनता की शिकायतों की सुनवाई फिर से शुरू हुई। मंगलवार को हुई जनसुनवाई में कुल आठ आवेदन आएं। इसमें होर्डिंग शाखा, भवन अनुज्ञा के साथ अतिक्रमण की शिकायतों का निराकरण किया गया। संबंधिक अफसरों को ये आवेदन भेजकर इन्हें जल्द से जल्द निराकृत करने के लिए कहा गया। फिर से शुरू हुई जनसुनवाई सहायक आयुक्त सीबी मिश्रा ने की। आवेदक काफी देर तक सुनवाई शुरू होने का इंतजार करते रहे। शिकायतकर्ता राशि सिंगारे ने बताया, दोपहर पौने एक बजे तक सुनवाई शुरू नहीं हुई थी।

देवेंद्र शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned