भोपाल मेमोरियल हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर में आने वाले गैस पीड़ितों का होगा कोरोना टेस्ट

शहर में करीब पौने छह लाख गैस पीड़ित रजिस्टर्ड हैं, जिसमें से करीब 3.5 लाख गैस पीड़ित बीएमएचआरसी के स्मार्टकार्डधारी हैं।

By: योगेंद्र Sen

Published: 23 Apr 2020, 08:19 PM IST

भोपाल. भोपाल मेमोरियल हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर (बीएमएचआरसी) में इलाज कराने आने वाले सभी गैस पीड़ितों की अब कोविड-19 की जांच भी की जाएगी। मप्र हाईकोर्ट ने गैस पीड़ित संगठनों की याचिका की सुनवाई के बाद यह आदेश दिए। जानकारी के मुताबिक शहर में करीब पौने छह लाख गैस पीडि़त रजिस्टर्ड हैं, जिसमें से करीब 3.5 लाख गैस पीड़ितों के पास बीएमएचआरसी के स्मार्टकार्ड धारी हैं। हालांकि इनमें से सभी गैस पीडि़त बीएमएचआरसी में उपचार नहीं कराते। चीफ जस्टिस अजय कुमार मित्तल और जज विजय कुमार शुक्ला ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मामले की सुनवाई की।

हाईकोर्ट में दायर की थी याचिका
मालूम हो कि सरकार ने बीएमएचआरसी को कोविड 19 के इलाज के लिए अधिकृत कर दिया था। जिससे गैस पीड़ितों को इलाज के लिए यहां वहां भटकना पड़ रहा था। इसके बाद गैस पीड़तों के संगठन भोपाल फोर इंफॉर्मेशन एंड एक्शन की याचिका के बाद बीएमएचआरसी को पुन: गैस पीड़ितों के इलाज के लिए अधिकृत कर दिया था। भोपाल में अब तक 8 कोविड-19 मरीजों की इलाज के दौरान मौत हो गई है। ये सभी मरीज भोपाल गैस पीड़ित थे और फेफड़े, सांस, कैंसर सहित कई गंभीर बीमारियों से जूझ रहे थे। इससे पहले 7 मौत में प्रशासन ने मरीजों के गैस पीड़ित होने का रिकॉर्ड जाहिर नहीं किया था, लेकिन आठवें मृत्यु पर जारी बयान में मृतक के गैस पीड़ित होने का जिक्र किया है।

एक और कोविड ट्रीटमेंट एंड टेस्टिंग सेंटर होगा शुरू
एम्स और बीएमएचआरसी के बाद शहर में जल्द ही कोरोना टेस्टिंग सेंटर शुरू हो जाएगा। एलएन मेडिकल कॉलेज ने कोरोना की जांच के लिए आईसीएमआर को पत्र भी लिखा है। आईसीएमआर की टीम ने कॉलेज का निरीक्षण भी कर लिया है। कॉलेज में हाल ही में 27 लाख रुपए की दो अत्याधुनिक आरटी पीसीआर और आरएनए इलेक्ट्रेशन मशीन भी खरीदी है। साथ ही मेडिकल कॉलेज में कोरोना के मरीजों के लिए स्पेशल ट्रीटमेंट सेंटर भी तैयार किया गया है।

Corona virus
योगेंद्र Sen Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned